बिहार के इकलौते वाल्मिकी टाइगर रिजर्व में बढ़ी बाघों की संख्या, गिनती का काम शुरू

बिहार की वीटीआर चंपारण इलाके में स्थित है और पर्यटन के दृष्टिकोण से भी अहम है

बिहार की वीटीआर चंपारण इलाके में स्थित है और पर्यटन के दृष्टिकोण से भी अहम है

Vamiki Tiger Reserve: बिहार के इकलौते वाल्मीकि टाईगर रिजर्व में बाघों की संख्या में वृद्धि के संकेत मिले हैं, इनमें शावकों की संख्या अलग है. ट्रैप कैमरे की मदद से वाल्मीकि टाइगर रिजर्व प्रबंधन ने गणना (Tiger Census) शुरू कर दी है.

  • Share this:
बगहा. बिहार के बगहा स्थित इंडो-नेपाल सीमा पर बसे वाल्मीकि टाईगर रिजर्व (Valmik Tiger Reserve) के अलग-अलग वन क्षेत्रों में बाघों की गणना (Tiger Census) एक बार फिर शुरू हो गई है. वाल्मीकि टाईगर रिजर्व (VTR) के जंगलों में बाघों की गिनती के लिए ट्रैप कैमरे लगाए गए हैं जिनकी संख्या 500 के करीब बताई जा रही है. इन कैमरों की मदद से जंगल मे रह रहे बाघों की वास्तिवक संख्या की जानकारी ली जा रही है.

वाल्मीकि टाईगर रिजर्व के डीएफओ गौरव ओझा ने बताया कि प्रारंभिक गिनती में बाघों की संख्या में वृद्धि के अनुमान मिले हैं. टाइगर डे पर देश भर में पांचवें स्थान पर बिहार के इकलौते वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के वन क्षेत्र में बाघों की संख्या में वृद्धि के पुनः संकेत मिले हैं. ऐसा अनुमान है कि वीटीआर में अब वयस्क बाघों की संख्या 40 के पार पहुंच गई है.

NTCA को सौंपी जाएगी रिपोर्ट

तस्वीर और उनके पगमार्क से इनकी संख्या का निश्चित अनुमान टाइगर रिजर्व प्रशासन द्वारा गणना कर लगाया जाएगा और इसकी रिपोर्ट भी एनटीसीए को सौंपी जाएगी. डीएफओ गौरव ओझा के मुताबिक एक बार फ़िर कुशल प्रबंधन और ग्रास लैंड एरिया बढ़ाने के बाद वाल्मीकि टाईगर रिजर्व जंगल में बढ़ते बाघों की संख्या से बिहार का कृतिमान स्थापित करने की ओर है.
Youtube Video


मालूम हो कि वाल्मिकी नगर स्थित टाइगर रिजर्व बिहार के एकमात्र इकलौता टाइगर रिजर्व है. यहां हर साल हजारों की संख्या में सैलानी घूमने के लिए भी आते हैं. हाल के दिनों में इस टाइगर रिजर्व पर नीतीश सरकार ने खासा ध्यान भी दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज