इस फूलगोभी की पूजा कर रहे हैं लोग, जानिए इसके पीछे की वजह

सांप की शक्ल में फूलगोभी निकलने की सूचना जंगल में आग की तरह फैल चुकी है और दूरदराज से भी लोग यहां पहुंच कर फूलगोभी को नाग देवता का रूप मान पूजा-अर्चना में लगे हुए हैं.

News18 Bihar
Updated: November 22, 2018, 12:07 AM IST
इस फूलगोभी की पूजा कर रहे हैं लोग, जानिए इसके पीछे की वजह
न्यूज18 फोटो
News18 Bihar
Updated: November 22, 2018, 12:07 AM IST
बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के बेतिया में एक फूलगोभी चर्चा का विषय बन गया है. एक विचित्र फुलगोभी को देखकर लोग उसकी पूजा करने पहुंच रहे हैं और धीरे-धीरे फूलगोभी 'कोबी बाबा' के रूप में प्रचलित होते जा रहे हैं. मामला नौतन प्रखंड के धुमनगर का है, जहां एक किसान के खेत में फूलगोभी एक नाग की शक्ल में उपजा.

दरअसल, धुमनगर गांव के मदन प्रसाद के खेत में अनोखे फूलगोभी की सूचना जैसे ही आसपास के लोगों को मिली वैसे ही बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंचने लगे और पूजा-अर्चना का दौर शुरू हो गया. फिर क्या था महिलाएं भी पहुंच कर नाग बाबा का गीत गाने लगी और फूलगोभी पर दूध-लावा का चढ़ावा चढ़ने लगा.

ये भी पढ़ें- IRCTC घोटाला: स्वास्थ्य कारणों से लालू नहीं हो पाए पेश, 20 दिसम्बर को हर हाल में पेशी का आदेश

सांप की शक्ल में फूलगोभी निकलने की सूचना जंगल में आग की तरह फैल चुकी है और दूरदराज से भी लोग यहां पहुंच कर फूलगोभी को नाग देवता का रूप मान पूजा-अर्चना में लगे हुए हैं. आलम यह है कि इलाके में सपेया बाबा के नाम से प्रसिद्ध हरिनारायाण यादव को यहां मंदिर बनवाने के लिए सपना भी आया है जिसके बाद इस स्थान पर मंदिर निर्माण की मांग जोर पकड़ने लगी है. मंदिर निर्माण के लिए जमीन मालिक से बातचीत भी चल रही है. सपने देखने के बाद हरिनारायाण यादव ने इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी कि यहां मंदिर का निर्माण कराया जाना चाहिए क्योंकि नाग बाबा स्थाई स्थान चाहते हैं.

वहीं, सपेया बाबा के नाम से मशहूर हरिनारायण यादव सुबह-शाम नागदेव की आकृति वाले फूलगोभी की पूजा कर रहे हैं. बीते तीन दिन से लोग फूलगोभी में नागदेव की आकृति देख आश्चर्य चकित हैं.

ये भी पढ़ें- लालू प्रसाद के मछली-मटन खाने पर रोक, अंडा व प्रॉन खाने की सलाह

ग्रामीणो की मानें तो दो साल पहले इस खेत में एक सांप को मारकर दफन कर दिया गया था जिसके बाद नाग देवता ना सिर्फ फूलगोभी की शक्ल में निकले हैं बल्कि सपेया बाबा के सपने में आकर मंदिर निर्माण की बात भी कह रहे हैं. ऐसे में देखना होगा कि 21वीं शताब्दी में लोगों की आस्था या अंधविश्वास आगे क्या-क्या रंग दिखाता है?
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर