लाइव टीवी

इलाज के दौरान मरीज की मौत पर बेतिया में हंगामा, निजी अस्पताल में तोड़फोड़

News18 Bihar
Updated: November 26, 2019, 3:39 PM IST
इलाज के दौरान मरीज की मौत पर बेतिया में हंगामा, निजी अस्पताल में तोड़फोड़
बेतिया के निजी अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हंगामा

परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनके मरीज की मौत रात में ही हो चुकी थी, लेकिन पैसे के लिए मरीज की मौत की खबर को सुबह पैसा देने के बाद बताया गया.

  • Share this:
बेतिया. यहां इलाज दौरान मरीज की मौत के बाद जमकर बवाल हुआ है. डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए मरीज के परिजनों और स्थानीय लोगों ने शहर के एक निजी क्लीनिक में जमकर हंगामा किया और क्लीनिक में जमकर तोड़फोड़ की. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और मामले को शांत कराने की कोशिश में जुट गई, लेकिन आक्रोशित लोग मानने को तैयार नहीं थे. परिजन मुआवजे की मांग पर अड़े हैं. घटना बैरिया थाना क्षेत्र के खिरियाघाट स्थित आस्था हॉस्पिटल की है.

आक्रोशित परिजनों ने डॉक्टरों पर पैसे के लिए मौत की बात छिपाने व इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है. मृत व्यक्ति के चाचा ने बताया की शहर के बानुछापर के 35 साल के सुरेश राम  को सांस लेने में तकलीफ के बाद सोमवार की रात में आस्था अस्पताल में भर्ती कराया गया था. यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई जिसको लेकर परिजनों ने अस्पताल के चिकित्सक व कर्मियों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया.

परिजनों ने लगाया आरोप
परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनके मरीज की मौत रात में ही हो चुकी थी, लेकिन पैसे के लिए मरीज की मौत की खबर को सुबह पैसा देने के बाद बताया गया. इतना ही नहीं मरीज की हालत बिगड़ती जा रही थी और अस्पताल के स्टाफ मरीज को रेफर नहीं कर रहे थे. सुबह जैसे ही परिजनों को पता चला कि मरीज की मौत हो चुकी है इसके बाद परिजनों ने जमकर हंगामा करना शुरू कर दिया. मरीज के परिजनों के साथ साथ स्थानीय लोगो ने भी अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ की और अस्पताल की गाड़ी से लेकर कम्प्यूटर तक तोड़ दिया.

मृतक के परिजनों और स्थानीय लोगों ने अस्पताल की गाड़ियों और खिड़कियों को काफी नुसकान पहुंचाया.


सूचना पर पहुंचा प्रशासन
घटना की सूचना मिलते हीं बैरिया बीडीओ सुभाषनी प्रसाद व बैरिया इंस्पेक्टर राकेश कुमार भास्कर दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा बुझाकर मामले को शांत कराया. इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, लेकिन फिर अस्पताल के कर्मियों के साथ परिजनों की झड़प हो गयी. जिसके बाद परिजनों ने अस्पताल में जमकर तोड़फोड़ की. पुलिस के सामने हीं लोगों ने अस्पताल में जमकर उत्पात मचाया.
Loading...

डॉक्टरों ने आरोपों को किया खारिज
हालांकि अस्पताल के संचालक व शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. अंजनी कुमार ने इलाज में लापरवाही से इनकार करते हुए कहा कि मरीज का इलाज सही तरीके से किया जा रहा था. उसे लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था, लेकिन परिजन उसे दूसरी जगह लेकर जाने की बात पर अड़े थे. अस्पताल से जैसे ही उसे गाड़ी पर रखा गया उसकी मौत हो गई.

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब इलाज में लापरवाही बरतने व पैसे उगाही का आरोप किसी अस्पताल पर लगा है. इससे पहले भी कई बार यैसी घटनाएं घट चुकी हैं. बावजूद इसके निजी क्लिनिक में ऐसी घटनाएं लगातार घट रही है और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है.

रिपोर्ट- प्रफुल्ल

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी चंपारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 26, 2019, 3:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...