लाइव टीवी

BSEB Result: घर से 15 किमी दूर साइकिल से रोज कॉलेज जाती थी इंटर आर्ट्स की स्टेट टॉपर साक्षी, सफल होने के बताए टिप्स
Board-Results News in Hindi

News18 Bihar
Updated: March 25, 2020, 12:30 PM IST
BSEB Result: घर से 15 किमी दूर साइकिल से रोज कॉलेज जाती थी इंटर आर्ट्स की स्टेट टॉपर साक्षी, सफल होने के बताए टिप्स
बिहार इंटरमीडिएट के नतीजों में आर्ट्स में स्टेट टॉपर बनी है बेतिया की साक्षी

Bihar Board Result 2020: इंटर आर्ट्स की स्टेट टॉपर साक्षी ने आर्टस में भी कठिन माने जाने वाले अर्थशास्त्र, भूगोल और इतिहास विषयों का चयन किया था.

  • Share this:
पटना. बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (Bihar School Examination Board) ने इस बार इंटरमीडिएट परीक्षा का रिजल्ट पिछले साल के मुकाबले 6 दिन पहले ही जारी कर दिया. इस बार इंटर साइंस में जहां गोपालगंज की नेहा ने टॉप किया है, वहीं आर्ट्स में बेतिया की साक्षी स्टेट टॉपर बनी हैं. साक्षी को 500 में कुल 474 नंबर मिले हैं. योगापट्टी प्रखंड के हथिया मच्छरगांवा गांव की रहने साक्षी के पिताचंद्रभूषण प्रसाद किराना का कारोबार करते हैं, जबकि मां सीमा देवी गृहिणी हैं. तीन भाई बहनों में सबसे बड़ी साक्षी के बारे में पिता बताते हैं कि वह बचपन से ही मेधावी रही है और मैट्रिक में भी उसने 414 नंबर लाया था और प्रखंड में टॉपर बनी थी.
15 किमी साइकिल से जाती थी कॉलेज

रामरूप गोस्वामी कॉलेज बेतिया की छात्रा साक्षी घर से 15 किमी दूर कॉलेज साइकिल से जाती थी. साक्षी ने न्यूज 18 से फोन पर बताया कि वह अपनी सफलता का श्रेय सेल्फ स्टडी के साथ ही घरेलू टीचर अवधेश शर्मा को देती है, क्योंकि उन्होंने काफी सपोर्ट किया और बेहतर से बेहतर करने की प्रेरणा दी.

कठिन विषयों का किया था चयन



पिता चंद्रभूषण प्रसाद बताते हैं कि साक्षी ने आर्टस में भी कठिन माने जाने वाले अर्थशास्त्र, भूगोल और  इतिहास विषयों का चयन किया था. अंग्रेजी 150 और हिंदी 50 नंबर का उसने चुना था. इन कठिन विषयों के साथ भी प्रदेश में टॉपर बनना बहुत सुखद अहसास दे रहा है.

सेल्फ स्टडी को बताया सफलता का मंत्र
साक्षी ने बताया कि उसने सिलेबस को फॉलो किया और सेल्फ स्टडी पर लगातार ध्यान दिया. साक्षी ने बताया कि एनसीईआरटी की किताबों को जमकर पढ़ा और पहले कंसेप्ट क्लीयर किया. इसके बाद स्वाध्याय पर जोर दिया. वह बताती है कि फिर भी पिता और माता के मोरल सपोर्ट के बगैर यह नामुमकिन था.

कोरोना वायरस को लेकर दी सलाह
साक्षी से छोटी एक बहन मिताली है और एक भाई मोहित है. ये दोनों आठवीं में पढ़ते हैं. साक्षी बताती हैं कि वह आगे चलकर एक आईएएस अफसर बनाना चाहती है और देश सेवा में अपना योगदान देना चाहती है. वह जाते-जाते कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए लोगों को घर में ही रहने की सलाह देती है.

बोर्ड ने फोन से किया वेरिफिकेशन
साक्षी ने यह भी जानकारी दी कि उसे वेरिफिकेशन के लिए पटना जाना था, लेकिन कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए बोर्ड ने फोन से ही उसका वेरिफिकेशन किया. उसने बताया कि बोर्ड के अधिकारियों ने वीडियो कॉल के जरिए कुछ प्रश्न पूछे और हेंड राइटिंग की जांच की. बता दें कि बिहार बोर्ड ने महज 43 दिनों में इंटरमीडिए का रिजल्ट जारी कर रिकॉर्ड बनाया है. कोरोना वायरस को लेकर प्रेस कॉन्‍फ्रेंस नहीं किया गया और प्रेस रीलीज कर रिजल्‍ट को सीधे वेबसाइट पर अपलोड किया गया.

(इनपुट- प्रफुल्ल कुमार)

ये भी पढ़ें: IPS अफसर बनना चाहती है साइंस टॉपर नेहा, कहा- नियमित पढ़ाई जरूरी | पिछले साल के मुकाबले 6 दिन पहले आया रिजल्ट,यहां देखें नतीजे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Board Results से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 8:44 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर