Assembly Banner 2021

मिसाल! क्वारंटाइन किए गए श्रमिकों ने बदल दी स्कूल की सूरत, मेहनत कर लौटाई स्कूल में रौनक

क्वारंटाइन किए गए श्रमिकों ने पूरे विद्यालय का रंगरोगन कर दिया.

क्वारंटाइन किए गए श्रमिकों ने पूरे विद्यालय का रंगरोगन कर दिया.

क्वारंटाइन किये गये श्रमिकों ने क्वारंटाइन अवधि के दौरान पहले दिनचर्या तय की और दिन के हिसाब से कार्य तय किए. सबसे पहले पूरे विद्यालय में स्वच्छता अभियान चलाया.

  • Share this:
बगहा. एक क्वारंटाइन सेंटर (Quarantine Center) में रहने वाले श्रमिकों ने अभूतपूर्व कार्य किया है. रमपुरवा राजकीय उत्क्रमित मध्य विद्यालय के श्रमिकों ने अपनी मेहनत से सूरत बदल डाली. जिला प्रशासन ने इन प्रवासी श्रमिकों के कार्यों की सराहना की है और इनके सुखद भविष्य की कामना की है. दरअसल बगहा-02 प्रखंड के लक्ष्मीपुर रमपुरवा पंचायत में क्वारंटाइन किये गये 40 प्रवासी श्रमिकों ने इस क्वारंटीन अवधि को स्वयं के साथ अपने परिवार एवं पूरे समाज के लिए वरदान माना और सामूहिक श्रम से अनूठी मिसाल कायम कर दी.

दिनचर्या तय कर बिखेरी नई चमक

क्वारंटाइन किये गये श्रमिकों ने क्वारंटाइन अवधि के दौरान पहले दिनचर्या तय की और दिन के हिसाब से कार्य तय किए. सबसे पहले पूरे विद्यालय में स्वच्छता अभियान चलाया और पूरे परिसर को चकाचक कर दिया. इसके बाद स्कूल की चहारदीवारी,  भवन और कमरों का भी रंगरोगन किया और उनमें नई चमक बिखेर दी.



सोशल डिस्टेंसिंग के साथ समाज सेवा
इसके साथ ही स्कूल परिसर स्थित खेल के मैदान का भी सौंदर्यीकरण किया उसका काया पलट कर इस लायक बना दिया जो कोई भी देखे उसका मन मैदान में उतरने को कर जाए. स्कूल में लगे उद्यान में भी बागवानी की और उसे भी एक सुंदर रूप दे दिया. सबसे सुखद बात यह रही कि विद्यालय का सौंदर्यीकरण करने के दौरान प्रवासी श्रमिकों ने सोशल डिस्टेंसिंग का बखूबी पालन किया.

स्कूल में कार्य करते हुए श्रमिकों ने सोशल डिस्टेंसिंग का भी बखूबी पालन किया.


जिला प्रशासन कर रहा सराहना

विद्यालय भवन में बने क्वारंटाइन सेंटर के श्रमिकों द्वारा किये कार्यों की सराहना हो रही है. ग्रामीणों एवं पंचायत वासियों ने भी प्रवासी श्रमिकों के इस अभूतपूर्व कार्यों की काफी प्रशंसा की है. पश्चिम चम्पारण के डीएम कुंदन कुमार ने इस विद्यालय को संवारने वाले श्रमिकों की पहल की सराहना की है. उन्होंने सोशल मीडिया पर तस्वीरों को न सिर्फ साझा किया बल्कि इसे अनुकरणीय बताते हुए उनके सुखद जीवन की कामना भी की है.

(रिपोर्ट- मुन्ना राज)

ये भी पढ़ें


'केंद्र मुहैया कराए राशन तभी दे पाएंगे बिना राशन कार्ड वालों को अनाज', चिराग को बिहार सरकार का जवाब!




Lockdown 2.0: मजदूरों को लाने पर बिहार सरकार ने खड़े किए हाथ, सुशील मोदी बोले- हमारे पास इतने संसाधन नहीं


 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज