Home /News /bihar /

बाल्मीकि टाइगर रिजर्व में रूपा से खौफ खाते हैं तस्कर

बाल्मीकि टाइगर रिजर्व में रूपा से खौफ खाते हैं तस्कर

बिहार के बाल्मीकि टाइगर रिजर्व में इनदिनों रूपा का खौफ है. तस्करों और शिकारियों की तलाश में बाल्मीकि रिजर्व की रूपा उनके ठिकाने तक पीछा कर रही है. शायद आप सोच रहे होंगे कि आखिर कौन है यह रूपा जिससे तस्कर और शिकारी परेशान हो रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...
बिहार के बाल्मीकि टाइगर रिजर्व में इनदिनों रूपा का खौफ है. तस्करों और शिकारियों की तलाश में बाल्मीकि रिजर्व की रूपा उनके ठिकाने तक पीछा कर रही है. शायद आप सोच रहे होंगे कि आखिर कौन है यह रूपा जिससे तस्कर और शिकारी परेशान हो रहे हैं.

रुपा दरअसल बल्मीकि रिजर्व प्रशासन की हाथी है, जिसका इस्तेमाल वन विभाग जंगल के संरक्षण के लिए कर रहा है. नेपाल और उत्तर प्रदेश की सरहद पर नदियों के बीच बसे बाल्मीकि रिजर्व में तस्करों और शिकारियों से दो-दो हाथ करने के लिए आजकल रुपा जंगल में दहाड़ रही है.

मानसून के मौसम में गश्ती की जिम्मेवारी अब वन विभाग ने रूपा के कंधों पर सौंप रखी है. नदी के पार हो या फिर दलदल में बीहड़ ठिकाना रूपा वनकर्मियों के साथ वहां अपनी धमक जरूर दे देती है. अन्तराष्ट्रीय तस्करों की सक्रियता के बीच रूपा बाल्मीकि रिजर्व के धरोहरों को बचाने के लिए संकल्पित है.

तस्कर और शिकारी तो परेशान हैं ही अब वन अधिकारी भी रूपा का लोहा मानने लगे हैं. जंगल में आयी रूपा अब ऑपरेशन की हर भाषा सीख ली है, जिसके सहारे वन विभाग का अभियान चलाता है. गश्ती की जिम्मेवारी संभालने के बाद अब रूपा का नाम इन दिनों सुर्खियों में है.

Tags: Bihar News

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर