लाइव टीवी

ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद कम:आईसीआईसीआई बैंक

hindi.moneycontrol.com
Updated: November 2, 2012, 7:05 AM IST
ब्याज दरों में कटौती की उम्मीद कम:आईसीआईसीआई बैंक
आईसीआईसीआई की एमडी और सीईओ चंदा कोचर का कहना है कि ब्याज दरों में अभी कटौती की उम्मीद कम है और होगी भी तो बहुत धीरे-धीरे।

आईसीआईसीआई की एमडी और सीईओ चंदा कोचर का कहना है कि ब्याज दरों में अभी कटौती की उम्मीद कम है और होगी भी तो बहुत धीरे-धीरे।

  • Share this:
नई दिल्ली। आईसीआईसीआई की एमडी और सीईओ चंदा कोचर का कहना है कि ब्याज दरों में अभी कटौती की उम्मीद कम है और होगी भी तो बहुत धीरे-धीरे। चंदा कोचर ने कहा कि कर्ज कब सस्ता होगा ये कहना मुश्किल है। उन्होंने बताया कि कर्ज की दरें क्रेडिट और डिपॉजिट ग्रोथ पर निर्भर करती हैं। ऐसे में ब्याज दरों में ज्यादा कटौती की उम्मीद नहीं करनी चाहिए।

चंदा कोचर का कहना है कि देश में निवेश को बढ़ाना जरूरी है और मौजूदा प्रोजेक्ट पर काम तेजी से चलना चाहिए जिससे ग्रोथ तेज रफ्तार से आगे बढ़े। प्रोजेक्ट अटके होने की वजह से परेशानी बढ़ी है। देश में खपत की दिक्कत नहीं हैं सिर्फ सप्लाई बढ़नी चाहिए, सप्लाई बढ़ने से महंगाई नीचे आएगी और महंगाई कम होने पर ब्याज दरें भी धीरे धीरे नीचे आनी शुरु हो जाएंगी।

चंदा कोचर के मुताबिक ब्याज दरें फौरन नहीं घटेंगी लेकिन पूरे वित्तीय साल में धीरे धीरे ब्याज दरें कम हो सकती हैं। आईसीआईसीआई बैंक में कन्सोलिडेशन के बाद अब ग्रोथ बढ़ाने की तरफ फोकस हो रहा है। बैंक का कासा डिपॉजिट 20 फीसदी से बढ़कर 40 फीसदी हो गया है और अनसिक्योर्ड लोन 14-15 फीसदी से घटकर 4 फीसदी हो चुके हैं। नेट इंटरेस्ट मार्जिन 3 फीसदी तक पहुंच गया है।

बैंक का फोकस होम लोन, कार लोन और प्रोजेक्ट पर बना रहेगा। बैंक ने हर सेगमेंट के लिए अलग रणनीति बनाई है। रिटेल लोन की क्वालिटी ठीक रखने पर ध्यान दिया गया है। कॉर्पोरेट लोन को बढ़ाया गया है। कड़ी जांच के बाद सभी लोन दिए गए हैं और सभी प्रोजेक्ट की मॉनिटरिंग की जा रही है इससे एनपीए भी कम हुए हैं।

आईसीआईसीआई बैंक की ग्रोथ इंडस्ट्री से ज्यादा रहेगी। बैंक की बैलेंस शीट काफी मजबूत है और बैंक की ग्रोथ 20 फीसदी से ज्यादा रहने की उम्मीद है। चंदा कोचर के मुताबिक आईसीआईसीआई बैंक की फिलहाल किसी नए अधिग्रहण की योजना नहीं है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2012, 7:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर