• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • नोटबंदी के दो साल: कैश सर्कुलेशन से लेकर एटीएम लगाने की रफ्तार में हुए ये बदलाव

नोटबंदी के दो साल: कैश सर्कुलेशन से लेकर एटीएम लगाने की रफ्तार में हुए ये बदलाव

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

आज नोटबंदी की दूसरी साल गिरह है. 2016 में इस दिन प्रधानमंत्री मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को तत्काल प्रभाव से चलन से बहार कर दिया था. जानें तबसे अब तक कैश का सर्कुलेशन कैसा रहा:

  • Share this:
    आज नोटबंदी की दूसरी सालगिरह है. 2016 में इस दिन प्रधानमंत्री मोदी ने 500 और 1000 रुपए के नोटों को तत्काल प्रभाव से चलन से बाहर कर दिया था. उस वक्त बाजार में चल रही कुल करेंसी का 86 फीसदी हिस्सा 500-1000 रुपए के नोट थे. नोटबंदी लागू करने का मकसद कैश के कम इस्तेमाल को बढ़ावा देना है और ब्लैक मनी को रोकना था.

    हालांकि, अब दो साल बाद भी ऐसा लगता है कि इस मकसद को हासिल नहीं किया जा सका. रिजर्व बैंक की ओर से जारी डेटा के मुताबिक, 26 अक्टूबर 2018 तक बाजार में करेंसी का चलन बढ़कर कुल 19.6 लाख करोड़ रुपये हो गया, जोकि दो साल पहले के मुकाबले 9.5 पर्सेंट ज्यादा है. नोटबंदी को लागू करने के हफ्ते भर पहले यानी 4 नवंबर 2016 को बाजार में कुल 17.9 लाख करोड़ रुपये की करेंसी ही चलन में थी.

    ये भी पढ़ें: LIC की इस स्कीम में रोजाना लगाएं 35 रुपये, बोनस के साथ मिलेंगे 4.72 लाख

    बाजार में कैश के पूरी तरह लौटते ही एटीएम से पैसे की निकासी में उछाल आया. आरबीआई के आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त 2018 में एटीएम से कैश विदड्रॉल 2.75 लाख करोड़ रुपये था. यह अक्टूबर 2016 में 2.54 लाख करोड़ रुपये की नकद निकासी के मुकाबले 8 पर्सेंट ज्यादा था. अक्टूबर 2018 में एटीएम से कितना पैसा निकाला गया, इसके आंकड़े दिसंबर में आएंगे.

    नोटबंदी हो जाने के एक महीने बाद एटीएम से धन निकासी में तेज गिरावट हुई. दिसंबर 2016 में महज 1.06 लाख करोड़ रुपये ही एटीएम से निकाले गए. एक दिलचस्प बात जो सामने आई है वह है कि एटीएम से ज्यादा कैश विदड्रॉल होने के बावजूद देश में नए एटीएम की संख्या उस रफ्तार से नहीं बढ़ी.

    ये भी पढ़ें: OTP चुराकर आपके बैंक खातों से ऐसे हो रही है धोखाधड़ी, जानें बचने के तरीके

    बीते दो साल में तकरीबन 8 हजार नए एटीएम ही लगे. वहीं, मोबाइल बैंकिंग के जरिए पैसे के लेनदेन में भी जबर्दस्त उछाल आया है. अगस्त 2018 में मोबाइल बैंकिंग के जरिए 2.06 लाख करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ जोकि अक्टूबर 2016 के 1.13 लाख करोड़ रुपये के मुकाबले 82 प्रतिशत ज्यादा है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज