जेवर एयरपोर्ट के पास घर-ऑफिस, फैक्ट्री के लिए जमीन लेने वालों की लगी भीड़, जानिए कितने आए आवेदन

Noida और Jewar के कारोबार को मिलेगी रफ्तार

Noida और Jewar के कारोबार को मिलेगी रफ्तार

यमुना अथॉरिटी के लिए खुश होने वाली बात यह है कि हर कोई जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar Airport) के पास अपना घर-ऑफिस और फैक्ट्री बनाने की दौड़ में है. सबसे ज्यादा आवेदन घर लेने वालों के आ रहे हैं. एयरपोर्ट के पास ऑफिस और फैक्ट्री बनाने वालों की भीड़ भी कम नहीं है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 31, 2021, 5:29 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: यमुना एक्सप्रेस-वे इंडस्ट्रियल डवलपमेंट अथॉरिटी (Yeida) ने हाल ही में जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास घर-ऑफिस और फैक्ट्री लिए जमीन बेचने की दो योजनाएं लांच की हैं. इन योजनाओं में टॉय सिटी (Toy City), हैंडीक्राफ्ट पार्क, एमएसएमई पार्क और जनरल इंडस्ट्रियल प्लॉट के साथ-साथ घर बनाने के लिए प्लॉट आवंटन की योजना भी शामिल हैं. यमुना अथॉरिटी के लिए खुश होने वाली बात यह है कि हर कोई जेवर इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Jewar Airport) के पास अपना घर-ऑफिस और फैक्ट्री बनाने की दौड़ में है. सबसे ज्यादा आवेदन घर लेने वालों के आ रहे हैं. एयरपोर्ट के पास ऑफिस और फैक्ट्री बनाने वालों की भीड़ भी कम नहीं है.

गौरतलब रहे जेवर में बनने वाला सिर्फ इंटरनेशनल एयरपोर्ट ही यमुना एक्सप्रेस-वे इंडस्ट्रियल डवलपमेंट अथॉरिटी की योजनाओं में शामिल नहीं है. इसके अलावा दिल्ली-मुम्बई रेल कॉरिडोर, दिल्ली-बनारस बुलैट ट्रेन, ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे को एयरपोर्ट से जोड़ा जा रहा है. फिल्म सिटी और टॉय सिटी जैसी योजनाएं भी शामिल हैं. इसी के चलते हर किसी की चाहत है कि जेवर एयरपोर्ट के पास ही उसका घर हो और ऑफिस-फैक्ट्री भी पास में ही बन जाए.

Youtube Video


यह भी पढ़ें : इंडिया में फ्रीज हुए TikTok के पैरेंट कंपनी Bytedance के बैंक अकाउंट, जानें क्या है मामला
367 प्लॉट के लिए आए 4450 आवेदन

यमुना अथॉरिटी ने टॉय सिटी, हैंडीक्राफ्ट पार्क, एमएसएमई पार्क और जनरल इंडस्ट्रियल प्लॉट आवंटन के लिए योजना लांच की थी. इसमे टॉय सिटी में 24, हैंडीक्राफ्ट में 47 और एमएसएमई और जनरल प्लॉट की संख्या 296 रखी गई है. ये प्लॉट 4 हजार वर्गमीटर से कम क्षेत्रफल वाले हैं. यमुना अथॉरिटी के मुताबिक इस योजना के लिए 25 मार्च तक आवेदन लिए गए हैं. ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत इस योजना में 4450 आवेदन आए हैं. अब आवेदनों की जांच की जा रही है. सभी तरह की जांच के बाद सफल आवेदकों की सूची वेबसाइट पर अपलोड कर दी जाएगी. अथॉरिटी के मुताबिक इस योजना का ड्रॉ 15 अप्रैल को निकाला जाएगा.

एक अप्रैल से नोएडा और ग्रेटर नोएडा में होगी वाहनों की चेकिंग, तैयार रखें पेपर, वरना कटेगा चालान



आवासीय भूखंड योजना के 22 हजार फॉर्म बिके

यमुना अथॉरिटी की आवासीय योजना के तहत 60 वर्ग मीटर से लेकिर 4 हजार वर्गमीटर क्षेत्रफल वाले प्लॉट के लिए आवेदन मांगे गए थे. इस आवासीय योजना के लिए भी ऑनलाइन प्रक्रिया अपनाते हुए आवेदन मांगे गए हैं. अच्छी बात यह है कि यमुना अथॉरिटी की इस

योजना को भी लोगों ने हाथों-हाथ लिया है. योजना के तहत आवेदन करने की आखिरी तारीख 30 थी. लेकिन 25 मार्च तक 22 हजार आवेदन बिक चुके हैं. इस योजना के लिए बैंक द्वारा मदद करने के चलते भी आवेदन करने वालों की भीड़ लगी हुई है. ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि आवेदन की यह संख्या 30 हजार को भी पार कर जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज