लाइव टीवी

अब इन तीन सरकारी कंपनियों का होगा विलय! फैसला कुछ देर में संभव

News18Hindi
Updated: December 11, 2019, 1:58 PM IST
अब इन तीन सरकारी कंपनियों का होगा विलय! फैसला कुछ देर में संभव
नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस और ओरिएंटल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के विलय पर फैसला होगा.

कैबिनेट की बैठक में आज नेशनल इंश्योरेंस कंपनी (National Insurance Company), यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी (United India Insurance Company) और ओरिएंटल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी (Oriental India Insurance Company) को मिलाकर नई कंपनी बनाने पर फैसला हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2019, 1:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की तीन बड़ी सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों (PSU General Insurance Companies) के मर्जर यानी विलय पर कैबिनेट की बैठक में आज फैसला हो सकता है. सरकार, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी (National Insurance Company), यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी (United India Insurance Company) और ओरिएंटल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी (Oriental India Insurance Company) को मिलाकर एक कंपनी बनाएगी. इस मर्जर के बाद यह देश की सबसे बड़ी जनरल इंश्योरेंस कंपनी (General Insurance ) बन जाएगी. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने इसको लेकर हाल में कैबिनेट नोट जारी किया था. आपको बता दें कि प्रीमियम के हिसाब से तीनों कंपनियों को मिलाकर 25 फीसदी प्रीमियम का हिस्सा सिर्फ तीनों कंपनियों के हिस्से से आता है.

इन तीनों कंपनियों के मर्जर के साथ ही सरकार उन तीनों कंपनियों को मर्जर के वक्त करीब 12,500 करोड़ रुपये देगी. ये रकम इन तीनों को रेगुलेटरी जरूरतों को पूरा करने के लिए होगी.

ये भी पढ़ें-प्याज के बाद अब अंडा और चिकन खाना होगा महंगा! इस वजह से बढ़ सकते हैं दाम 

मर्जर के बाद बनेगी देश की सबसे बड़ी जनरल इंश्योरेंस कंपनी- इन कंपनियों के पास संयुक्त रूप से 9,243 करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी है.

>> कर्मचारियों की संख्या 44,000 है जो देशभर में स्थित 6,000 से अधिक कार्यालयों में काम कर रहे हैं.

>> अनुमानों में कहा गया है कि विलय के बाद बनने वाली संयुक्त इकाई देश की सबसे बड़ी गैर-जीवन बीमा कंपनी होगी, जिसका मूल्य 1.25 से 1.5 लाख करोड़ रुपये होगा.

>> 200 से अधिक इंश्योरेंस प्रोडक्ट- तीनों सरकारी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों के बाजार में 200 से अधिक इंश्योरेंस प्रोडक्ट हैं.>> इनकी बाजार हिस्सेदारी करीब 35 फीसदी है. सरकारी साधारण बीमा कंपनियों के पास तकरीबन 8,000 शाखाएं हैं.



ये भी पढ़ें-'जीरो बजट खेती' से 5.78 लाख किसानों ने की कमाई! जानिए इसके बारे में सबकुछ

ग्राहकों पर क्या होगा असर- एक्सपर्ट्स बताते हैं इस फैसले से ग्राहकों पर खास असर नहीं होगा. उनकी पॉलिसी पर मिलने वाले फायदे वैसे ही बरकरार रहेंगे. साथ ही, कुछ और अन्य सुविधाएं उनको मिल सकती हैं.

>> मान लीजिए अगर नेशनल इंश्योरेंस कंपनी बीमे के साथ कोई सुविधा देती है तो मर्जर के बाद यूनाइटेड इंडिया इंश्योरेंस कंपनी और ओरिएंटल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी के ग्राहकों को भी उसका फायदा मिलेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2019, 1:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर