लाइव टीवी

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट 4 लाख लोगों को भेजेगा नोटिस, टैक्‍स में गड़बड़ी के बाद ऐसे होगी कार्रवाई

News18Hindi
Updated: September 26, 2019, 11:47 PM IST
इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट 4 लाख लोगों को भेजेगा नोटिस, टैक्‍स में गड़बड़ी के बाद ऐसे होगी कार्रवाई
इनकम टैक्‍स ड‍िपार्टमेंट

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने टैक्‍स में गड़बड़ी को लेकर 4 लाख टैक्‍सपेयर्स (Taxpayers) को स्‍क्रुटनी लेटर्स (Scrutiny Letters) जारी किया है. इनमें से करीब 1 लाख से भी अधिक लोगों को नोटिस जारी किया जा चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 26, 2019, 11:47 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने 4 लाख ऐसे टैक्‍सपेयर्स (Taxpayers) की पहचान की है, जिनकी जांच नए फेसलेस एसेसमेंट स्‍कीम (Faceless Assessment Scheme) के तहत होगी. इन 4 लाख लोगों में से करीब 1 लाख से अधिक लोगों को नोटिस जारी किया जा रहा है. बिजनेस न्‍यूज वेबसाइट बिजनेस स्‍टैंडर्ड की एक रिपोर्ट में इसके बारे में जानकारी दी गई है. इस रिपोर्ट में मामले से जुड़े अधिकारी के हवाले से लिखा गया है कि इन 1 लाख से भी अधिक टैक्‍सपेयर्स से 15 दिन के अंदर जवाब मांगा गया है. हालांकि, इसमें करीब 10 हजार से लोगों को जारी किए गए लेटर्स बिना डिलिवर हुए ही इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट को वापस आ गए हैं. इन स्‍क्रुटनी लेटर्स की अंतिम तारीख 30 सितंबर है.

इन टैक्‍सपेयर्स को क्‍यों जारी होगा नोटिस

बिजनेस स्‍टैंडर्ड की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि टैक्‍स डिपार्टमेंट ने कम्‍प्‍यूटर असिस्‍टेड स्‍क्रुटनी सेलेक्‍शन (CASS) साइकल को पूरी तरह से तैयार कर लिया है, जिसमें नए सिस्‍टम के तहत टैक्‍स जांच के लिए 100 पैरामीटर्स को ध्‍यान में रखा गया है. सूत्रों से प्राप्‍त जानकारी के आधार पर कहा गया है कि जिन आधार पर इन टैक्‍सपेयर्स को नोटिस जारी किया गया है, उनमें विदेशी इनकम, हाई वैल्‍यू ट्रांजैक्‍शन, लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गेन्‍स के बारे में गलत जानकारी, टीडीएस क्‍लेम टैक्‍स फॉर्म से नहीं मैच करना और अचल संपत्ति के बारे में पूरी जानकारी नहीं दी गई है.



ये भी पढ़ें: बढ़त के साथ बंद हुआ शेयर बाजार, नि‍वेशकों को 1.50 लाख करोड़ रुपये का मुनाफा





इनकम टैक्‍स ड‍िपार्टमेंट


फिलहाल पूरी तरह से फेसलेस नहीं होगा एसेसमेंट

इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शुरुआती एक्‍शन प्‍लान के तहत, अभी ई-एसेसमेंट (E-Assessment) पूरी तरह से फेसलेस नहीं होगा, क्‍योंकि अधिकारी टैक्‍सपेयर्स के प्रोफाइल के बारे में जानते होंगे और नोटिस सर्व करते समय वे इसे देख भी सकते हैं.

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट द्वारा तैयार किए गए एसेसमेंट मॉड्यूल (Assessment Module) के तहत, 2019 CASS के लिए टैक्‍स अथॉरिटी नोटिस को सेंट्रलाइज्‍ड तरीके से जेनरेट करेंगे और फिर जारी इसे जारी करेंगे. इस नोटिस के जारी होने के बाद आगे एसेसमेंट प्रक्रिया पूरी की जाएगी. इन्‍हें इनकम टैक्‍स बिजनेस एप्‍लीकेशंस के जरिए अधिकारी इस प्रक्रिया को पूरा करेंगे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 26, 2019, 4:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading