होम /न्यूज /व्यवसाय /निर्मला सीतारमण बोलीं- 2020-21 में 44 यूनिकॉर्न बने, यह ‘अमृत काल’ का संकेत

निर्मला सीतारमण बोलीं- 2020-21 में 44 यूनिकॉर्न बने, यह ‘अमृत काल’ का संकेत

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (फाइल फोटो)

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने लोकसभा में बजट पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि देश में 2020-2 ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने लोकसभा में बजट पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए गुरुवार को कहा कि ‘अमृतकाल’ की तरफ बढ़ने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने कई कदम उठाए हैं. देश में 2020-21 में 44 यूनिकॉर्न (Unicorn) बने, यह ‘अमृत काल’ का ही संकेत है. बता दें कि यूनिकॉर्न का मतलब ऐसे स्टार्टअप से है जिसका वैल्यूएशन कम से कम एक अरब डॉलर हो.

वित्त वर्ष 2022-23 के बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘आज जनधन योजना के कारण सभी भारतीय समस्त वित्तीय व्यवस्थाओं से जुड़े हैं और इन अकाउंट्स में 1.57 लाख करोड़ रुपये जमा हैं. इनमें 55.6 फीसदी अकाउंट्स महिलाओं के हैं.’’

ये भी पढ़ें- IT Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्सपेयर्स को भेजे 1.67 लाख करोड़ रुपये, नहीं आने पर यहां करें शिकायत

GDP में 9.57 लाख करोड़ रुपये की भारी गिरावट
वित्त मंत्री ने कहा कि कोविड-19 महामारी की मार से वित्त वर्ष 2020-21 में देश के ग्रॉस डोमेस्टिक प्रोडक्ट यानी जीडीपी (GDP) में 9.57 लाख करोड़ रुपये की भारी गिरावट आई.

रोजगार की स्थिति में अब सुधार का संकेत
वित्त मंत्री ने कहा कि देश में रोजगार की स्थिति में अब सुधार का संकेत दिख रहा है. शहरों में बेरोजगारी अब कोविड-पूर्व के स्तर पर आ गई है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2015 में शुरू की गई प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अब तक 1.2 करोड़ अतिरिक्त रोजगार अवसर पैदा हुए हैं.

ये भी पढ़ें- काम की बात : क्‍या होता है रेपो रेट, कैसे आम आदमी से लेकर शेयर बाजार तक डालता है असर? डिटेल में जानें

सीतारमण ने कहा कि बैंकों ने आपात ऋण सुविधा गारंटी योजना के तहत एमएसमएई सेक्टर को 3.10 लाख करोड़ रुपये के कर्ज मंजूर किए.

Tags: Budget, Jan dhan, Nirmala sitharaman

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें