होम /न्यूज /व्यवसाय /ब्रिटेन में 45 फीसदी टैक्स से नहीं मिलेगी राहत, नई सरकार ने लिया यू-टर्न, भारत में क्या है सर्वोच्च टैक्स स्लैब?

ब्रिटेन में 45 फीसदी टैक्स से नहीं मिलेगी राहत, नई सरकार ने लिया यू-टर्न, भारत में क्या है सर्वोच्च टैक्स स्लैब?

ब्रिटेन की लिज ट्रस सरकार ने 45 फीसदी आयकर खत्म करने की योजना ठंडे बस्ते में डाली.

ब्रिटेन की लिज ट्रस सरकार ने 45 फीसदी आयकर खत्म करने की योजना ठंडे बस्ते में डाली.

ब्रिटेन के वित्त मंत्री क्वासी क्वार्टेंग ने ट्वीट कर इस फैसले की जानकारी दी. दरअसल, सत्तारुढ़ कंजर्वेटिव पार्टी के अंद ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बिट्रेन में उच्च आय वर्ग को 45 फीसदी इनकम टैक्स देना होता है.
सरकार के टैक्स कटौती प्लान में इनकम टैक्स केवल एक हिस्सा था.
यही हिस्सा बहस का मुद्दा बना और वित्तीय बाजार में असर दिखा.

नई दिल्ली. ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस ने सर्वोच्च आय वर्ग पर टैक्स की ऊंची दरों में कटौती की योजना वापस लेना का फैसला किया है. ब्रिटेन के वित्त मंत्री क्वासी क्वार्टेंग ने ट्वीट कर इस फैसले की जानकारी दी. उन्होंने करीब 10 दिन पहले ही उच्च टैक्स कटौती खत्म करने की घोषणा की थी. इसके बाद उनकी पार्टी के अंदर ही कई सांसदों ने इस फैसले के खिलाफ आवाज बुलंद कर दी थी.

वित्त मंत्री ने सोमवार को कहा कि वह 1.5 लाख पाउंड से अधिक आय पर 45 फीसदी की दर से आयकर लगाने के प्रावधान को नहीं हटाएंगे. उन्होंने कहा, “हमने इस बारे में उठ रही आवाजों को सुन लिया है.” लिज ट्रस के प्रधानमंत्री बनने के बाद यह उनका पहला बड़ा यू-टर्न है. यह टैक्स कटौती सरकार के नए ‘ग्रोथ प्लान’ का हिस्सा थी, जिसकी घोषणा वित्त मंत्री ने 23 सितंबर को ही की थी. इस योजना में 45 अरब पाउंड की अलग-अलग टैक्स कटौतियां शामिल थीं. उच्च आय वाली टैक्स कटौती केवल 2 अरब पाउंड की थी. लेकिन, पूरे प्लान में सबसे बड़ी चर्चा का विषय यही बना था.

ये भी पढें- सितंबर में सुस्‍त हुई मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियां, पर मंदी की आशंका के बावजूद अच्छी स्थिति में ग्रोथ!

किया था पुरजोर बचाव
प्रधानमंत्री ट्रस को इस घोषणा के बाद अपनी पार्टी के सांसदों समेत व्यापक स्तर पर विरोध झेलना पड़ रहा था. इसके बावजूद वह लगातार इसका समर्थन कर रही थीं. उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार इस योजना पर आगे बढ़ना जारी रखेगी. उन्होंने यह भी कहा था कि इस फैसले के पहले थोड़ी जमीन तैयार कर लेनी चाहिए थी. घोषणा के बाद ब्रिटेन के वित्तीय बाजार में काफी गिरावट देखने को मिली थी. डॉलर के मुकाबले पाउंड सबसे निचले स्तर 1.0327 पर पहुंच गया था. हालांकि, सोमवार को इसमें 0.8 फीसदी तक की बढ़त दर्ज की गई.

भारत में क्या है सर्वोच्च टैक्स स्लैब?
भारत में 2.5 लाख रुपये तक की वार्षिक आय पर कोई टैक्स नहीं लगता है. नई टैक्स व्‍यवस्‍था के तहत भारत में 7 टैक्स स्लैब्स हैं. इसमें 2.5-3 लाख रुपये और 3-5 लाख रुपये तक सालाना आय पर 5 फीसदी टैक्स लिया जाता है. हालांकि, टैक्‍सपयर्स के पास आयकर अधिनियम की धारा 87ए के तहत टैक्स रिबेट की सुविधा होती है. इसके बाद 5-7.5 लाख रुपये पर 10 फीसदी, 7.5-10 लाख पर 15 फीसदी, 10-12.50 लाख पर 20 फीसदी, 12.5-15 लाख पर 25 फीसदी और 15 लाख रुपये से अधिक की आय पर 30 फीसदी टैक्स लगता है. उदाहरण से समझें तो अगर आप की आय 7.5 लाख रुपये सालाना है तो आपकी टैक्स देनदारी 75000 रुपये बनती है.

Tags: Britain, Business news in hindi, Income tax, United kingdom

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें