होम /न्यूज /व्यवसाय /बस इन बातों को बांध लें गांठ, पैसों के मैनेजमेंट और उसे बढ़ाने में नहीं होगी कोई परेशानी

बस इन बातों को बांध लें गांठ, पैसों के मैनेजमेंट और उसे बढ़ाने में नहीं होगी कोई परेशानी

बेहतर मनी मैनेजमेंट कैसे करें. (फोटो- न्यूज18)

बेहतर मनी मैनेजमेंट कैसे करें. (फोटो- न्यूज18)

पैसे कमाना और उसे मैनेज करना दोनों ही काफी जद्दोजहद वाले काम हो सकते हैं. जब पैसा आता है तो कई लोग उसे खर्च करने से पहल ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सेविंग और पैसे बढ़ाने में मदद करता है मनी मैनेजमेंट.
एक निरंतर आय इसका पहला कदम होता है.
पोर्टफोलियो डायवर्सिफिकेशन भी पैसे का बेहतर प्रबंधन है.

नई दिल्ली. आजकल के समय में पैसे कमाना जितना मुश्किल है लगभग उतना ही कठिन है उसको मैनेज करना. जिस तरह की जीवन शैली हम जी रहे हैं उसमें आमतौर पर हम भी बेतरतीबी से पैसे खर्च करते हैं. हालांकि, ऐसा करना लंबे समय में हमारे लिए नुकसानदायक हो सकता है इसलिए जरूरी है कि हम पैसे कमाने के साथ उसे बचाने पर भी ध्यान दें.

पैसे बचाने के लिए जरूरी है कि आप उसका मैनेजमेंट अच्छे से करें. यानी उसका निवेश, खर्च और बचत आप सब कुछ ठीक अनुपात में करें. आज हम आपके सामने ऐसे 5 पॉइंट्स रखेंगे जिससे आपको यह समझने में आसानी होगी कि आप क्या पैसे का मैनेजमेंट सही कर रहे हैं या नहीं.

ये भी पढ़ें- ये दो बैंक दे रहे सीनियर सिटीजन को एफडी पर 9 फीसदी से ज्‍यादा ब्याज, कहां लगाए पैसा

आय की निरंतरता
अगर आपके पास एक निरंतर आय स्रोत है यानी कि सुनिश्चित समय पर एक निश्चित आय आपके खाते में पहुंच जाती है तो यह मनी मैनेजमेंट का पहला कदम है. इससे आप यह अंदाजा लगाने के लिए बेहतर स्थिति में रहते हैं कि आपको कितना खर्च करना है और कितना नहीं. इससे आपको पैसा बचाने और उसे बढ़ाने दोनों में मदद मिलती है.

समझदारी के साथ ऐसेट एलोकेशन
अगर आप अपने विवेक के आधार पर साधारण लेकिन प्रभावकारी तरीके से ऐसेट एलोकेट करते हैं  तो यह भी बेहतर मनी मैनेजमेंट दिखाता है. अगर आप अपने पैसे को अलग-अलग निवेश विकल्पों में लगा रहे हैं तो यह बेहतर रणनीति है. इससे आपका पैसा भी बढ़ेगा और जोखिम भी कम रहेगा. आप इक्विटी, डेट और गोल्ड में निवेश करके अपना पोर्टफोलियो डायवर्सिफाई कर सकते हैं. ऐसेट एलोकेशन के लिए आप 12-20-80 का फार्मूला अपना सकते हैं. इसमें आप अपने 12 महीने के खर्च के बराबर पैसा लिक्विड फंड में लगाएं. जहां रिटर्न से ज्यादा सेफ्टी पर फोकस हो. अपने कुल निवेश का 20 फीसदी गोल्ड और 80 फीसदी इक्विटी फंड में लगाएं.

ये भी पढ़ें- आपके पैसे पर मंडरा रहे ये 4 बड़े खतरे, इन्‍हें पहचानिए और जानिए कैसे बचाएं अपनी कमाई

समय पर बिल का भुगतान करना
आपका क्रेडिट स्‍कोर भी अच्‍छा होता है. साथ ही अंतिम समय में बिल जमा करने की आपाधापी से भी बच जाते हैं. आजकल क्रेडिट कार्ड कंपनियां इस बात को भी ट्रेक करती हैं कि आप अपने कार्ड का बिल कब जमा करते हैं. क्रेडिट कार्ड के अलावा फोन और मोबाइल का बिल भी आपके क्रेडिट स्‍कोर पर असर डालता है.

रिटायरमेंट की तैयारी
रिटायरमेंट की तैयारी आपको अपनी पहली सैलरी के साथ ही शुरू कर देनी चाहिए. अगर आप अभी से अपने रिटायरमेंट की प्लानिंग कर रहे हैं और उसके लिए पैसे बचा रहे हैं तो आप अपने धन का अच्छा प्रबंधन कर रहे हैं.

क्रेडिट कार्ड का कर्ज नहीं 
क्रेडिट कार्ड लेना सही है या नहीं इस पर हमेशा विवाद रहता है. खासतौर पर भारत में कर्ज लेने को अच्छा नहीं माना जाता है. ऐसे में अगर आप क्रेडिट कार्ड के कर्ज से दूर रहते हैं तो आप अपने पैसे का  बेहतर प्रबंधन कर रहे हैं. अगर आप सही तरीके से क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं तो इससे कई लाभ भी उठा सकते हैं

Tags: Business news, Business news in hindi, Invest money, Personal finance

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें