Home /News /business /

निवेश से जुड़े जोखिम को कम करने के ये हैं 5 आसान तरीके... जानिए

निवेश से जुड़े जोखिम को कम करने के ये हैं 5 आसान तरीके... जानिए

निवेश के लिए जरूरी हैं ये बातें जानना

निवेश के लिए जरूरी हैं ये बातें जानना

ज्यादातर निवेशक जोखिम का सही मतलब नहीं जानते हैं और इस कारण उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है. आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बता रहे हैं जिससे आप निवेश से जुड़े जोखिम को घटा सकते हैं.

    नई दिल्ली. ज्यादातर निवेशक जोखिम का सही मतलब नहीं जानते हैं. बहुत सतर्क रहने वाले निवेशकों (कंजर्वेटिव इंवेस्टर) को जहां हर जगह रिस्क दिखता है. वहीं, आक्रामक निवेशक (एग्रेसिव इंवेस्टर) केवल रिटर्न के पीछे भागते हैं. उन्हें लगता है कि वे हर तरह के जोखिम का सामना कर सकते हैं. हालांकि, जोखिम का कॉन्सेप्ट इतना सरल नहीं है. निवेशकों को अक्सर अपनी जोखिम लेने की क्षमता का पता नहीं होता है. अगर इसे जान लिया जाए तो जोखिम लेने की क्षमता के बाहर जाकर रिस्की विकल्पों में निवेश से बचा जा सकता है.

    1. अपने निवेश में विविधता लाएं
    अपने निवेश पोर्टफोलियो में विविधता लाएं. हर एसेट क्लास (गोल्ड, प्रॉपर्टी, स्टॉक्स, फिक्स्ड डिपाजिट) में निवेश पर एक जैसा जोखिम नहीं होता. पोर्टफोलियो में अलग अलग तरह के एसेट शामिल कर आप कुल जोखिम को बहुत हद तक कम कर सकते हैं.

    2. इस तरह करें निवेश
    उदाहरण के लिए मान लीजिए कि आपने स्टॉक में 30%, बीमा में 20%, सावधि जमा में 30% और अचल संपत्ति में 20% निवेश किया है. इसलिए, यदि स्टॉक की कीमत गिरती है, तो आपका नुकसान सीमित हो जाता है क्योंकि आपके निवेश का 70% अन्य जगह है.

    ये भी पढ़ें: टाटा कम्युनिकेशंस में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचेगी सरकार, TCL में हैं 7.44 करोड़ शेयर

    3. नियमित रूप से करें निगरानी
    कई बार आपके द्वारा एक साल पहले किया गया निवेश पोर्टफोलियो मौजूदा बाजार की स्थिति के अनुसार काम नहीं करता है. ऐसे में अगर आप समय समय पर अपने निवेश की निगरानी नहीं करते तो आपके पोर्टफोलियो पर निवेश का जोखिम बढ़ सकता है. इस प्रकार, आपको निवेश होल्डिंग्स पर नज़र रखना महत्वपूर्ण हो जाता है. आपको समय पर उनका मूल्यांकन करना होगा क्योंकि यह आपके पोर्टफोलियो को उचित परिसंपत्ति आवंटन में वापस लाने में मदद करता है और बदले में जोखिमों को कम करने में मदद करता है.

    4. अपनी जोखिम सहने की क्षमता को पहचानें
    प्रत्येक व्यक्ति के पास बाजार में निवेश करते समय जोखिम उठाने की क्षमता होती है. निवेश करते समय व्यक्ति को अपनी आयु, आय, आश्रितों आदि के अनुसार जोखिम की सीमा निर्धारित करनी चाहिए. निवेशकों को अक्सर अपनी जोखिम लेने की क्षमता का पता नहीं होता है. अगर इसे जान लिया जाए तो जोखिम लेने की क्षमता के बाहर जाकर रिस्की विकल्पों में निवेश से बचा जा सकता है.

    ये भी पढ़ें: PNB ने अपने करोड़ोंं ग्राहकों को किया अलर्ट! भूलकर भी न करें ये गलती, वरना होगा बड़ा नुकसान

    5. रणनीति बनाना
    निवेश की स्थिति में उतार चढ़ाव के मामले में नुकसान कम करने या सीमित करने के हिसाब से निवेश को भुनाकर जोखिम घटाया जा सकता है. इस हिसाब से रणनीति बनाना जोखिम कम करने का कारगर उपाय साबित होता है. इससे हालांकि निवेश की लागत बढ़ती है और रिटर्न में कमी आ सकती है.

    Tags: Business news in hindi, Investment and return, Investment scheme, Investment tips

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर