Home /News /business /

5 years of gst everyday things became cheaper the governments earnings also increased rrmb

GST के 5 साल : सरकार और आम आदमी दोनों को फील गुड करा रहा नया टैक्‍स नियम, कितना हुआ बदलाव?

GST से छोटे दुकानदार से लेकर बड़ी कंपनियों तक को व्‍यापार करने में आसानी हुई है.

GST से छोटे दुकानदार से लेकर बड़ी कंपनियों तक को व्‍यापार करने में आसानी हुई है.

भारत में 1 जुलाई 2017 को गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स (GST) लागू हुआ था. अपने पांच साल के सफर में GST ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं. खास बात है कि जीएसटी से आम आदमी से लेकर सरकार तक को फायदा हुआ है. रोजमर्रा के इस्‍तेमाल की वस्‍तुएं जीएसटी लागू होने के बाद सस्‍ती हुईं है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. देश में  वस्‍तु एवं सेवा कर (GST) को लागू हुए पांच साल बस पूरे होने वाले हैं. देश की अप्रत्‍यक्ष कर प्रणाली में जीएसटी से आमूल-चूल परिवर्तन हुआ है. सरकार के खजाने और आम आदमी की जेब पर जीएसटी लागू होने का बहुत सकारात्‍मक प्रभाव पड़ा है. इससे एक ओर जहां सरकार की आमदनी में भारी इजाफा हुआ है, वहीं आम उपभोक्‍ता को भी रोजमर्रा की बहुत सी चीजें सस्‍ती मिलने लगी हैं. टैक्‍स व्‍यवस्‍था के सरलीकरण से छोटे दुकानदार से लेकर बड़ी कंपनियों तक को व्‍यापार करने में आसानी हुई है.

मनीकंट्रोल डॉट कॉम की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 1 जुलाई 2017 को गुड्स एंड सर्विस टैक्‍स लागू हुआ था. अपने पांच साल के सफर में GST ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं. टैक्‍स कलेक्‍शन घटने की तमाम शंकाओं को दूर करते हुए जीएसटी ने सरकारी खजाने को खूब भरा है. 2017-18 (अगस्त-मार्च) में रु 7.18 लाख करोड़ जीएसटी संग्रह हुआ. 2018-19 में 11.17 लाख करोड़ रुपए, 2019-20 12.22 लाख करोड़ रुपए, 2020-21 में 11.37 लाख करोड़ रुपए और 2021-2022  में 14.83 लाख करोड़ रुपए सरकारी खजाने में आए. जीएसटी लागू होने से टैक्स चोरी पर भी लगाम लगी है. पिछले 18 महीने में 50,000 करोड़ रु का GST  फ्रॉड पकड़ा गया है.

ये भी पढ़ें-  क्रेडिट कार्ड आपके पास है तो ये गलतियां न करें, वरना फंस जाएंगे आर्थिक संकट में और देना पड़ेगा भारी ब्याज

रोजमर्रा के उपयोग की चीजें हुई सस्‍ती
जीएसटी लागू होने के बाद रोजमर्रा के इस्‍तेमाल की 117 वस्‍तुओं के दाम घटे हैं. ऐसा हुआ है इन पर लगने वाली टैक्‍स दरों के कम होने के कारण. इनमें से कई वस्‍तुओं पर तो अब टैक्‍स लगता ही नहीं है. जीएसटी हमारे लिए कितना काम का साबित हुआ है इसे हम हॉर्लिक्‍स और टूथपेस्‍ट के दाम से समझ सकते हैं.  अगर अभी आप हॉर्लिक्स का एक पैकेट खऱीदते हैं तो आपको 790 रुपए देनें होंगे जो कि  इसका अधिकतम खुदरा मूल्‍य है. लेकिन अगर जीएसटी लागू नहीं हुआ होता तो आपको इसके करीब 857 रुपए देने होते. ऐसा इसलिए होता क्‍योंकि पहले केंद्र और राज्‍य का टैक्‍स मिलाकर इस पर 28 फीसदी टैक्‍स देना होता था. लेकिन, अब इस पर सिर्फ 18 फीसदी ही टैक्‍स लगता है.

इसी तरह, आपको आज जिस टूथपेस्ट को खरीदने पर 253 रुपये खर्च करने पड़ते हैं,  उसके लिए आपको अगर जीएसटी के बजाय पुरानी टैक्‍स व्‍यवस्‍था लागू होती तो 272 रुपए देने होते क्‍योंकि अब इस पर लगने वाला टैक्‍स 10 फीसदी घट गया है. इसलिए अब यह सस्‍ता मिल रहा है.

ये भी पढ़ें-  डीमैट अकाउंट आपका डीएक्टिवेट हो जाएगा, सिर्फ 3 दिन का मौका, फटाफट कर लें ये जरूरी काम

माल ढुलाई हुई आसान और सस्‍ती
देश में एक ही कर व्‍यवस्‍था होने के कारण अब फैक्ट्रियों से दुकानों तक माल ढुलाई करना न केवल आसान हुआ है बल्कि अब इसमें लगने वाले समय की भी बचत होती है. ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के प्रेसिडेंट कुलतरण सिंह अठवाल का कहना है कि आज से 5 साल पहले हर एक राज्य के बॉर्डर पर घंटों रुकना पड़ता था. दिल्ली से बैंगलोर जाने में 15 नाकों पर चेकिंग होती थी. अब ये सब नहीं है. अब दिल्‍ली बैंगलोर 50 लीटर डीजल की बचत होती है.

Tags: Gst, Gst latest news in hindi, Gst news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर