अपना शहर चुनें

States

इथियोपिया: बंधक बनाए गए IL&FS के 7 भारतीय कर्मचारी, विदेश मंत्रालय से मांगी मदद

मुंबई स्थित IL&FS हेडक्वॉर्टर
मुंबई स्थित IL&FS हेडक्वॉर्टर

भारी लोन संकट से जूझ रही कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज (IL&FS) के मैनेजमेंट को अक्टूबर में सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2018, 1:07 PM IST
  • Share this:
अफ्रीकी देश इथियोपिया में भारत के 7 नागरिकों को बंधक बनाने की खबर है है. ये सभी पैसों की तंगी से जूझ रही भारतीय कंपनी 'इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज' (IL&FS ) के कर्मचारी हैं. कहा जा रहा है कि यहां के लोकल कर्मचारियों ने सैलरी न मिलने की वजह से 24 नवंबर से इन्हें बंधक बना रखा है.

विदेश मंत्रालय फिलहाल मामले की जांच कर रही है. एक कर्मचारी ने ईमेल के जरिए बताया कि पिछले दिनों कुछ रोड प्रोजेक्ट्स को वहां रद्द कर दिया गया था. ये प्रोजेक्ट भारत और स्पेन की कंपनी मिलकर बना रही थी. हो सकता है कि इसी नाराजगी के चलते यहां के लोकल कर्मचारियों ने ऐसा किया हो.

ये मामला पहली बार तब सामने आया, जब बंधक बनाए गए एक कर्मचारी चैतन्य हरी ने ट्विटर पर भारतीय अधिकारियों से मदद मांगी. बाकी कर्माचरियों ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति भवन और सुषमा स्वराज से ट्विटर पर मदद मांगी है.



चैतन्य हरि ने हिन्दू बिज़नेस लाइन से बात करते हुए कहा, ''हमारे कैंप में भारतीयों को खाना, पानी और दूसरी ज़रूरी चीजों के लिए बाहर जाने नहीं दिया जा रहा है. स्थानीय लोगों को लगता है कि अगर हम कैंप से बाहर जाते हैं तो उन्हें सैलरी नहीं मिलेगी.''
न्यूज़ एजेंसी ब्लूमबर्ग के मुताबिक, इथियोपिया में भारतीय उच्चायोग के अधिकारी हालात पर नजर बनाए हुए हैं. IL&FS के बड़े अधिकारियों ने कहा है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कंपनी पर कई तरह की पाबंदी लगा दी है इसलिए वे सैलरी नहीं दे पा रहे हैं. इथियोपिया में IL&FS ने पिछले 9 महीने से कोई टैक्स नहीं भरा है.

मुश्किल में IL&FS
भारी लोन संकट से जूझ रही कंपनी इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज (IL&FS) के मैनेजमेंट को अक्टूबर में सरकार ने अपने कब्जे में ले लिया था. सरकार ने कंपनी का मैनेजमेंट संभालने के लिए 6 सदस्यीय बोर्ड का गठन किया है. कोटक महिंद्रा बैंक के हेड उदय कोटक इस नए बोर्ड के अध्यक्ष बनाए गए हैं. पिछले कुछ महीनों से कंपनी ने तय समय पर अपनी किश्तों का पेमेंट नहीं किया है. सिर्फ IL&FS पर 16,500 करोड़ रुपए का कर्ज है. उसकी सभी कंपनियों को मिलाकर कुल 91 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है.

क्या है IL&FS?
आईएल एंड एफएस एक पब्लिक सेक्टर कंपनी है जिसकी 40 सहायक कंपनियां हैं. यह एक नॉन-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी है जो बैंकों से लोन लेती है. इस कंपनी में दूसरी कंपनियां निवेश करती हैं और आम जनता इसके शेयर खरीदती है. इस कंपनी को कई रेटिंग एजेंसियों ने अति सुरक्षित रैंक दी हुई है. हाल ही में इस कंपनी ने 250 करोड़ रुपये के इंटरेस्ट पेमेंट का डिफॉल्ट कर दिया. यानी कंपनी अपनी कर्ज की किश्त नहीं चुका पाई.

ये भी पढ़ें:

आतंकी मसूद अजहर की धमकी- अयोध्या में राम मंदिर बना तो दिल्ली से काबुल तक मचेगी तबाही

इमरान खान की सफाई: मोदी के लिए नहीं था 'छोटे लोग-बड़े दफ्तर' वाला ट्वीट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज