भारत की कंपनियां इस फार्मूले पर देती हैं जॉब, अच्छी नौकरी पाने के लिए जानें यह तरीका

रिपोर्ट के अनुसार, भविष्य के टेलेंट को तय करने में HR भी एक बड़ी भूमिका निभाएगा : लिंक्डइन रिपोर्ट

रिपोर्ट के अनुसार, भविष्य के टेलेंट को तय करने में HR भी एक बड़ी भूमिका निभाएगा : लिंक्डइन रिपोर्ट

पेशेवर नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डिन (LinkedIn) ने भारत में 500 कंपनियों का सर्वे कर बताया है कि भारत में 10 में से 9 कंपनियां अंदरूनी सिफारिश पर ही हायरिंग करती हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 14, 2021, 5:34 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कंपनियां हायरिंग के लिए अपने इंटर्नल सिस्टम को प्राथमिकता देती है. इंटर्नल सिस्टम यानी कंपनी में कार्यरत लोग जिनकी सिफारिश करते हैं, उन्हें कंपनियां ज्यादा नौकरियां देती है. यह खुलासा पेशेवर नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डिन (LinkedIn) की फ्यूचर ऑफ टैलेंट (Future of Talent) रिपोर्ट, 2021 में हुआ है.

रिपोर्ट के मुताबिक Covid-19 महामारी के कारण कंपनियों के भीतर कई महत्वपूर्ण बदलावों की शुरुआत हुई है, जिसमें देखा गया कि 10 में से नौ कंपनियां इंटर्नली यानी कंपनी के अंदर ही, जो सिफारिशें आती हैं, उन्हीं में से किसी को नौकरी देती हैं. पेशेवर नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म ने भारत में 500 कंपनियों का सर्वे किया, जिसमें एचआर (HR) मैनेजमेंट ने सहमति जताई कि उनका विभाग अब संगठनों को कारगर बनाने, रणनीति बनाने और Covid-19 के दौरान भी ज्यादा कुशलता से काम करने वालों को हायर करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा.

यह भी पढ़ें : नौकरी की बात :  इंटरव्यू में नई स्किल के बेहतर प्रदर्शन से मिलेगी जॉब की गारंटी, जानिए ऐसे ही अहम मंत्र


2020 में भारत में छंटनी की दर 1.5 गुना बढ़ी

रिपोर्ट में यह चिंता जताई गई है कि 2020 में भारत में छंटनी की दर 1.5 गुना बढ़ गई, क्योंकि दूर से काम करने के दौरान कर्मचारियों को काफी लंबी शिफ्ट से जूझना पड़ा. दूसरी लहर के संकेतों के रूप में, भारत की दूरस्थ कार्य जरूरतों में तेजी आई है. रिपोर्ट से पता चलता है कि भविष्य के टेलेंट को तय करने में HR भी एक बड़ी भूमिका निभाएगा. रिपोर्ट के अनुसार, टेलेंट स्ट्रेटजी के लिए अपस्किलिंग सबसे मुख्य होगी. इंटरनल मोबेलिटी और डेटा जैसे ट्रेंड के आधार पर हायरिंग के फैसले लिए जाएंगे. साथ ही 2021 में कर्मचारी अनुभव में सुधार पर ही कंपनियों का फोकस होगा.

यह भी पढ़ें :  कोरोना वैक्सीन बनाने वाली सीरम ने इस बड़ी कंपनी में किया निवेश, जानें सब कुछ 



2021 में भारत में ज्यादातर कंपनियां मर्ज होंगी

टैलेंटेड और लर्निंग सॉल्यूशंस, लिंक्डिन इंडिया की डायरेक्टर रूचि आनंद कहती हैं, "2021 में भारत में ज्यादातर कंपनियां मर्ज होंगी, अपने कर्मचारियों को आगे बढ़ाएंगी, और ऑपरेशनल कॉस्ट बढ़ाए बिना बिजनेस ग्रोथ को बढ़ाने के लिए आंतरिक रूप से ही हायरिंग होगी. डेटा-लीडिंग हायरिंग प्रैक्टिस भी कंपनियों को अपने कर्मचारियों के साथ जुड़ने, सही टेलेंट को आकर्षित करने और 2021 में ज्यादा प्रभावी ढंग से हायरिंग करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी."रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में 10 में से सात कंपनियां अंदरूनी स्तर पर दृष्टिकोण या प्रगति की भावना बढ़ाने के लिए कंपनी के अंदर से आई सिफारिशों के आधार पर हायरिंग करती हैं. ऐसा करने में, भारत में कंपनियां टॉप तीन स्किल को दिखते हैं, वो हैं अच्छा कम्यूनिकेशन, समस्या को सुलझाने की स्किल और टाइम मैनेजमेंट.

यह भी पढ़ें :  पेटीएम, भारत पे जैसे स्टार्टअप आप भी बना सकते हैं, बस यह काम करना होगा 

91% कंपनियां डेटा का इस्तेमाल टेलेंट बेस्ड हायरिंग में करती हैं

रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि आज की तेजी से डिजिटलीकरण की जरूरतों के साथ तालमेल रखने के लिए, कंपनियां अपने कर्मचारियों की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए भी उत्सुक हैं, 95% कंपनियां कर्मचारियों को नई स्किल सीखाने और भविष्य के लिए तैयारी में मदद करने के लिए डेवलपमेंट प्रग्रोम को सपोर्ट करती हैं. भारत में कई कंपनियां आज हायरिंग करते समय प्रासंगिक टैलेंट पूल में टैप करने के लिए डेटा एनालिटिक्स पर भी फोकस कर रही हैं. लिंक्डिन के रिसर्च से पता चलता है कि भारत की 91% कंपनियां डेटा का इस्तेमाल टेलेंट बेस्ड हायरिंग के लिए करती हैं. जबकि 53% अक्सर ओपन पॉजिशन रिक्वायरमेंट के साथ मैप स्किल के लिए डेटा का इस्तेमाल करती हैं.

यह भी पढ़ें :  सरकारी बैंकों में एफडी पर मिल रहा है सबसे ज्यादा ब्याज, जानिए किस बैंक में एफडी कराएंगे तो मिलेगा बड़ा फायदा

कई रोल को मर्ज कर एक ही पोस्ट के लिए कर रही हायरिंग

भारत में 10 में से 8 (85%) कंपनियां पहले से ही कर्मचारियों को प्रेरित करने और अलग काम करने के बावजूद अपनी टीमों के साथ जुड़े रहने के लिए ज्यादा एंगेजमेंट एक्टिविटी कर रही हैं. रिमोट हायरिंग को और अधिक कुशल बनाने के लिए, 10 में से 9 कंपनियां आज टेलेंट कॉस्ट को कम करने के लिए कई रोल को मर्ज कर एक ही पोस्ट के लिए हायरिंग कर रही हैं. HR प्रोफेशनल भी कंपनियों को कर्मचारी अनुभव को प्राथमिकता देने और अपने रिमोट कर्मचारियों को आज एंगेज रखने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज