50 हजार रुपये से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन का बदला नियम, फटाफट जानें

अब 50 हजार रुपये से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड (PAN Card) के बजाय आधार कार्ड (Aadhaar Card) का इस्तेमाल सकेगा.

News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 9:52 AM IST
50 हजार रुपये से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन का बदला नियम, फटाफट जानें
50 हजार से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन का बदला नियम, फटाफट जानें
News18Hindi
Updated: July 7, 2019, 9:52 AM IST
अगर आप 50 हजार रुपये ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन करते हैं तो यह खबर आपके काम की है. दरअसल अब 50 हजार रुपये से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शन के लिए पैन कार्ड (PAN Card) के बजाय आधार कार्ड (Aadhaar Card) का इस्तेमाल सकेगा. अब आधार का इस्तेमाल उन सभी उद्देश्यों के लिए हो सकेगा, जहां आम तौर पर PAN जरूरी है. रेवेन्यू सेक्रटरीअजय भूषण पांडे के मुताबिक अभी तक जिन जगहों पर पैन अनिवार्य था, वहां आधार की स्वीकार्यता के लिए बैंकों और दूसरे संस्थानों को अपने बैकएंड सिस्टम को अपग्रेड करना होगा.

अब ITR भरने के लिए जरूरी नहीं PAN
बता दें कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट 2019 में टैक्सपेयर्स की सुविधा के लिए PAN और आधार को इंटरचेंजेबल बनाने का प्रस्ताव रखा. साथ ही ITR फाइल करने के लिए PAN की बजाय आधार इस्तेमाल करने का भी प्रस्ताव दिया गया. यह भी कहा गया कि अब जहां भी PAN का उल्लेख करने की जरूरत है, वहां आधार नंबर के जरिए काम चलाया जा सकता है.



काले धन पर लगाम लगाने के लिए 50,000 रुपये से ज्यादा के कैश ट्रांजेक्शन जैसे होटल या विदेश यात्रा बिल के लिए PAN को उल्लिखित करना अनिवार्य है. इसके अलावा 10 लाख रुपये से ज्यादा की अचल संपत्ति की खरीद पर भी PAN देना होता है.

ये भी पढ़ें: कम लागत में बढ़िया बिजनेस, सालाना हो सकती है 8 लाख रुपये तक कमाई

अब PAN जनरेट करने की जरूरत नहीं
Loading...

इस वक्त 22 करोड़ पैन कार्ड आधार से लिंक्ड हैं. देश में 120 करोड़ से ज्यादा लोगों के पास आधार है. अगर कोई PAN कार्ड चाहता है तो उसे पहले आधार का इस्तेमाल करना होता है, PAN जनरेट करना होता है, तब इसका इस्तेमाल वह शुरू करता है. अब आधार के चलते उसे PAN जनरेट करने की जरूरत नहीं होगी.



PAN नहीं होगा पूरी तरह खत्म
यह पूछे जाने पर कि क्या पैन का इस्तेमाल खत्म हो जाएगा, उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होगा क्योंकि लोगों के पास जरूरत की जगह पर या तो PAN या फिर आधार नंबर देने का विकल्प होगा. कुछ लोग पैन देने को सुविधाजनक मानते हैं तो कुछ आधार देने को. इसलिए पैन और आधार दोनों रहेंगे. लेकिन बैकएंड में हर पैन की जगह आधार होगा.

ये भी पढ़ें: देश का दूसरा सबसे बड़ा प्राइवेट बैंक बिना ब्याज दे रहा लोन, ऐसे उठाएं फायदा
First published: July 7, 2019, 9:50 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...