80 फीसदी लोगों ने माना, आधार से बढ़ी सहूलियतें: सर्वे

80 फीसदी लोगों ने माना, आधार से बढ़ी सहूलियतें: सर्वे
आधार कार्ड

देश में आधार कार्ड (Aadhaar Card) को लेकर एक प्राइवेट कंपनी ने सर्वे किया है. इस सर्वे की रिपोर्ट में कई बातें सामने आई है. 80 फीसदी लोगों ने माना कि आधार की वजह से उनको सहूलियत मिली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 8:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के अधिकांशत: लोग महीने में कम से कम एक बार आधार कार्ड (Aadhaar Card) का इस्तेमाल करते हैं. आधार के तहत मिलने वाली अधिकतर सुविधाएं लोगों के लिए बेहतर रही हैं. हालांकि, कुछ लोगों को आधार सेवाओं की वजह से परेशानियों का भी सामना करना पड़ा है. एक प्राइवेट सर्वे (Private Survey on Aadhaar) में यह बात सामने आई है. इस सर्वे में कहा गया है कि कई लोगों के पास आधार नहीं होने की वजह से उन्हें वेलफेयर स्कीम का लाभ नहीं मिल पाता है.

इन राज्यों में अधिकतर लोगों के पास नहीं है आधार
डालबर्ग एंड इन्वेस्टमेंट फर्म ओमिद्यार नेटवर्क इंडिया ने हाल ही में एक सर्वे किया है. इस प्राइवेट सर्वे में पता चला है कि देश के 95 फीसदी व्यस्क लोग आधार पंजीकृत है. वहीं, 75 फीसदी बच्चों के पास भी आधार है. पूर्वोत्तर राज्य असम और मेघालय में अधिकतर लोगों के पास आधार नहीं है. साथ ही बेघर लोग भी आधार के तहत पंजीकृत नहीं है.

ये भी पढ़ें: चीन को झटका दे सकती है सरकार! आसान नहीं होगा भारत में इस चीज का निर्यात



सोमवार को जारी किया गया यह सर्वे मई से लेकर सितंबर के बीच किया गया था. इसमें 1 लाख 67 हजार लोगों ने भाग लिया, जिसमें पता लगाने की कोशिश की गई की आखिर आधार ने लोगों को कितनी सहूलियत प्रदान की है और आधार को लेकर लोग कितने सहज हैं.

80 फीसदी लोगों को आधार से सहूलियत
इस सर्वे में भाग लेने वाले 80 फीसदी लोगों का मानना है कि आधार की वजह से उनके लिए पब्लिक डिस्ट्रीब्युशन सिस्टम (Public Distribution Survey) के तहत राशन लेने, ग्रामीण क्षेत्रों में गारंटी रोजगार और सोशल पेंशन की लाभ लेने में मदद मिली है. 40 फीसदी लोगों ने माना है कि आधार की वजह से उन्हें एक दिन में ही सिम कार्ड मिल जाता है. हालांकि, सर्वे में भाग लेने वाले लोगों का यह भी मानना है कि आधार में गड़बड़िया होने या फिर आधार न होने की वजह से उन्हें सोशल वेलफेयर स्कीम (Social Welfare Scheme) का लाभ नहीं मिल पाता.

ये भी पढ़ें: बड़ी खबर! कम हो सकती है आपकी सैलरी, बेसिक सैलरी में शामिल हो सकते हैं अलाउंसेस

आधार में गड़बड़ियों से नहीं मिला सोशल स्कीम का लाभ
1 फीसदी से भी कम लोगों का मानना है कि आधार की वजह से उन्हें पब्लिक डिस्ट्रीब्युशन सिस्टम जैसे वेलफेयर स्कीम, मनरेगा और सोशल पेंशन स्कीम (Social Pension Scheme) का लाभ नहीं मिल सका है. पिछली बार हर 100 में 1 लोगों को मनरेगा (MNREGA) में रोजगार नहीं मिल सका, क्योंकि उनके पास आधार संबंधित परेशानी थी. 0.5 फीसदी लोगों को आधार में दिक्कतें होने की वजह से सोशल पेंशन स्कीम का लाभ नहीं मिला है.

1.5 फीसदी लोगों ने बताया कि बॉयोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन (Biometric Authentication) फेल होने की वजह से उन्हें राशन नहीं मिला है. जबकि, 3.5 फीसदी लोगों ने कहा कि बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन फेल्योर के बाद भी उन्हें राशन देने से मना नहीं किया गया.

ये भी पढ़ें: 100 रुपये बचाकर ऐसे करें मोटी कमाई, बढ़ती मंहगाई की भी नहीं होगी चिंता
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading