बजट 2021-22: देश में पहली बार होगी डिजिटल जनगणना, 3,726 करोड़ रुपये आवंटित

देश में पहली बार होगी डिजिटल जनगणना

देश में पहली बार होगी डिजिटल जनगणना

बजट 2021-22 (Aam Budget 2021-22): बजट घोषणा के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा है कि ये पहली बार है जब देश में डिजिटल जनगणना होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2021, 1:04 AM IST
  • Share this:
बजट 2021-22 (Aam Budget 2021-22): वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को कहा कि सरकार ने आगामी जनगणना के लिए 3,726 करोड़ रुपये आवंटित किये हैं. बजट घोषणा के दौरान वित्त मंत्री ने बताया देश में पहली बार डिजिटल जनगणना होगी. वित्त मंत्री ने 2021-22 के लिए आम बजट प्रस्तुत करते हुए कहा कि सरकार एक राष्ट्रीय भाषा अनुवाद पहल पर भी काम कर रही है. सीतारमण ने पांच साल में 4,000 करोड़ रुपये से अधिक के परिव्यय के साथ गहरे महासागर में मिशन के परिचालन की भी घोषणा की.

उन्होंने कहा कि सरकार ने संविदा विवादों के त्वरित निस्तारण के लिए सुलह की प्रणाली स्थापित की है. सीतारमण ने कहा कि सरकार ने नेशनल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी कमीशन विधेयक लाने का भी प्रस्ताव रखा है.

अमित शाह ने पहले ही की थी घोषणा- बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पहले घोषणा की थी कि 2021 की जनगणना मोबाइल फोन एप्लिकेशन के माध्यम से की जाएगी. शाह ने कहा कि इससे हमें कागज से डिजिटल जनगणना की तरफ जाने में मदद मिलेगी. डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए ऐसा किया जाएगा. उन्होंने बताया था कि जनगणना के आंकड़ों को एक मोबाइल ऐप के माध्यम से एकत्र किया जाएगा.

Youtube Video

ये भी पढ़ें: बजट से पहले मोदी सरकार के लिए खुशखबरी, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा GST कलेक्शन

16 भाषाओं में तैयार किया जाएगा ऐप- डिजिटल जनगणना के लिए अमित शाह ने कहा था, लोग नए विकसित मोबाइल ऐप पर स्वयं और परिवार के विवरण अपलोड कर सकेंगे. अमित शाह ने कहा था कि 12,000 करोड़ रुपये की लागत से 16 भाषाओं में तैयार किया जाएगा.

बता दें कि वर्ष 2011 में हुई जनगणना के मुताबिक देश की कुल आबादी 121 करोड़ थी. केंद्र सरकार ने इस साल मार्च में घोषणा की थी कि अगली जनगणना एक मार्च 2021 से शुरू होगी. गृह मंत्रालय ने इस संबंध में एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा कि यह निर्णय केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 3 के तहत लिया गया है. जम्मू-कश्मीर और अन्य ऐसी जगहों पर जहां बर्फबारी होती है जनगणना अक्टूबर 2020 में ही शुरू की जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज