एक्सीडेंटल इंश्योरेंस का क्लेम किन वजहों से हो सकता है कैंसिल, जानिए यहां

एक्सीडेंटल इंश्योरेंस में इन वजह से कैंसिल हो सकता है क्लेम.

एक्सीडेंटल इंश्योरेंस में इन वजह से कैंसिल हो सकता है क्लेम.

कई बार इंश्योरेंस लेने के बावजूद आपको इसका क्लेम नहीं मिलता. 23 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐसे ही मामले की सुनवाई करते हुए क्लेम की राशि न देने का फैसला सुनाया है. जिसमें पॉलिसी धारक की शराब पीने के बाद दम घुटने से मौत हुई थी. जिसे सुप्रीम कोर्ट ने एक्सीडेंटल डेथ की कैटेगरी में नहीं माना.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2021, 1:39 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आज के दौर में सभी लोग अपनी जरूरत के मुताबिक सेफ्टी और बुरे वक्त में सहायता के लिए कोई न कोई इंश्योरेंस जरूरत लेते हैं. लेकिन कई बार इंश्योरेंस लेने के बावजूद आपको इसका क्लेम नहीं मिलता. 23 मार्च को सुप्रीम कोर्ट ने एक ऐसे ही मामले की सुनवाई करते हुए क्लेम की राशि न देने का फैसला सुनाया है. जिसमें पॉलिसी धारक की शराब पीने के बाद दम घुटने से मौत हुई थी. जिसे सुप्रीम कोर्ट ने एक्सीडेंटल डेथ की कैटेगरी में न मानते हुए नॉमिनी को इंश्योरेंस का क्लेम देने से इनकार कर दिया. ऐसे में यदि आपने भी एक्सीडेंटल, टर्म और लाइफ इंश्योरेंस करा रखा है तो आपके लिए ये जानना जरूरी है कि, किन परिस्थितियों में आपको इंश्योरेंस का क्लेम नहीं मिलेगा. आइए जानते हैं इसके बारे में... 

एक्सीडेंटल इंश्योरेंस में इन वजहों पर नहीं मिलता क्लेम 

नशे में ड्राइविंग करना - अगर किसी व्यक्ति ने एक्सीडेंट इंश्योरेंस करा रखा है और नशे की हालत में कहीं उसका एक्सीडेंट हो जाता है. तो इंश्योरेंस कंपनी ऐसी स्थिति में मौत होने के बावजूद इंश्योरेंस का क्लेम रद्द कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें: सस्ते और लंबे वक्त के लिए लोन मिलने से इंफ्रास्ट्रक्चर को मिलेगा बूम, नया बैंक करेगा यह काम
कानून को तोड़ना - अगर किसी अपराध में शामिल होने या फिर कानून तोड़ने के नतीजे के रूप में पॉलिसी होल्डर की मौत हो जाती है. तो भी इंश्योरेंस कंपनी क्लेम देने से इनकार कर सकती है.

भारत के बाहर मृत्यु - अगर पॉलिसी धारक विदेश में बसने की योजना बना रहा है और उसकी मौत विदेश में हो जाती है. तो इंश्योरेंस कंपनी कैंसिल कर सकती है. लेकिन इससे बचने का एक रास्ता है. इसके लिए आपको विदेश में बसने से पहले इंश्योरेंस कंपनी को बताना होगा. जिससे पॉलिसी होल्डर को क्लेम किये गये दावों को निपटाने के लिए अपने नए रेजिडेंट कंट्री के बारे में इंश्योरेंस कंपनी बता सके. हालांकि, टर्म इंश्योरेंस प्लान में ऐसी कोई बात नहीं होती.

यह भी पढ़ें: RBI ने यूनिवर्सल और स्मॉल फाइनेंस बैंक के लिए बनाई समिति, जानें क्या होगा पैनल का काम?



आतंकवादी हमला - एक्सीडेंटल इंश्योरेंस प्लान के अंदर आतंकवादी हमलों को शामिल नहीं किया जाता है. इस तरह के दावों को मानवीय आधार पर निपटाया जाता है और वो भी तब जबकि नॉमिनी इस बाबत इरडा से संपर्क करें. लेकिन ज्यादातर इंश्योरेंस कंपनियां इस तरह की घटनाओं के लिए बीमा कवर उपलब्ध नहीं कराती हैं.

एडवेंचर स्पोर्ट्स - अगर आपने एक्सीडेंटल इंश्योरेंस का प्लान ले रखा है और आप बंजी जम्पिंग, स्काई डाइविंग जैसे खेल में भाग लेते है और आपकी जान चली जाती है. तो इंश्योरेंस पॉलिसी में कवर नहीं होती. वहीं कार रेसिंग और बाइक रेसिंग में शामिल होने के दौरान हुई मौत के लिए भी बीमा कंपनियां कोई भुगतान नहीं करती.

प्राकृतिक आपदा - प्राकृतिक आपदा जैसे कि भूकंप, बाढ़, सुनामी की वजह से हुई मौत आमतौर पर इंश्योरेंस प्लान के अंदर नहीं आते. हालांकि, इस तरह की आपदाओं को कवर करने के लिए आप एड-ऑन प्लान चुन सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज