नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का होगा कायाकल्प, अडाणी और GMR समेत 9 कंपनियों ने लगाई बोली

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन दिल्ली के केंद्र में है. कनाट प्लेस के नजदीक है.

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन दिल्ली के केंद्र में है. कनाट प्लेस के नजदीक है.

रेलवे लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (Rail Land Development Authority) की ओर से जारी बयान में कहा गया कि आरएफक्यू (Request for quotation) को बुधवार को खोला गया.

  • Share this:

नई दिल्ली. नौ वैश्विक और घरेलू कंपनियों ने नई दिल्ली रेलवे स्टेशन (New Delhi Railway Station) के रिडेवलपमेंट के लिए बोली लगाई है. रेलवे ने बुधवार को यह जानकारी दी. जिन कंपनियों ने बोली लगाई है उनमें अडाणी रेलवे ट्रांसपोर्ट (Adani Railways Transport), आईएसक्यू एशिया इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट्स (ISQ Asia Infrastructure Investments) और जीएमआर हाइवेज (GMR Highways) शामिल हैं.

बुधवार को खोला गया RFQ

इसके अलावा एंकरेज इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट्स होल्डिंग्स लि., कल्पतरू पावर ट्रांसमिशन, बीआईएफ चार इंडिया इन्फ्रास्ट्रक्चर होल्डिंग, ओमैक्स लि. और एल्पिस वेंचर्स ने भी रिक्वेस्ट फॉर कुटेशन (आरएफक्यू) में भाग लिया. रेलवे लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी की ओर से जारी बयान में कहा गया कि आरएफक्यू (Request for Quotation) को बुधवार को खोला गया.

ये भी पढ़ें- फ्रैंकलिन टेंपलटन के यूनिटहोल्‍डर्स के लिए अच्‍छी खबर, सुप्रीम कोर्ट ने 20 दिन में पैसे वापस करने का दिया आदेश, जानें पूरा मामला
बयान में कहा गया है कि अब इन कंपनियों को तकनीकी आकलन की प्रक्रिया से गुजरना होगा. अगले चरण में रेलवे लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (Rail Land Development Authority) चुनी गई कंपनियों के लिए अनुरोध प्रस्ताव (Request for Proposal) निकालेगा.

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का विकास आरएलडीए की प्रमुख प्रोजेक्ट है. इस पर 68 करोड़ डॉलर की लागत आएगी. इस प्रोजेक्ट का विकास डिजाइन-निर्माण-वित्त-परिचालन-स्थानांतरण (DBFOT) मॉडल पर किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- Paytm यूजर्स को झटका! अब क्रेडिट कार्ड से वॉलेट में पैसे ऐड करना हुआ और महंगा, जानें कितना लगेगा एक्‍सट्रा चार्ज



एनसीआर में आर्थिक वृद्धि को मिलेगा प्रोत्साहन 

रेलवे लैंड डेवलपमेंट अथॉरिटी के वाइस चेयरमैन वेद प्रकाश डुडेजा ने कहा, ''यह हमारी प्रमुख परियोजना है और इससे एनसीआर में आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहन मिलेगा. इस परियोजना को लेकर कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय अंशधारकों ने रचि दिखाई है.''

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज