Adani Ports का मुनाफा 288 फीसदी बढ़ा, 5 रुपये प्रति शेयर डिविडेंड देने का किया ऐलान

Adani Ports को वित्‍त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में तगड़ा मुनाफा हुआ है.

Adani Ports को वित्‍त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में तगड़ा मुनाफा हुआ है.

देश की सबसे बड़ी पोर्ट्स कंपनी अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन (Adani Ports & SEZ) ने वित्‍त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही के नतीजों (Q4 Results) का ऐलान कर दिया. कंपनी ने बताया कि उसे जनवरी-मार्च 2021 तिमाही के दौरान 1321 करोड़ रुपये का मुनाफा (Consolidated Profit) हुआ है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश की सबसे बड़ी पोर्ट्स कंपनी अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकनॉमिक जोन (Adani Ports) ने वित्‍त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही के नतीजों (Q4 Results) का ऐलान कर दिया है. जनवरी-मार्च 2021 तिमाही के दौरान कंपनी का एकीकृत मुनाफा (Consolidated Profit) साल 2019-20 की इसी अवधि के मुकाबले 288 फीसदी बढ़कर 1,321 करोड़ पर पहुंच गया है. जनवरी-मार्च 2020 के दौरान कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ (Consolidated Net Profit) 340.21 करोड़ रुपये रहा था. कंपनी ने अपने शेयरधारकों को 5 रुपये प्रति शेयर की दर से लाभांश (Dividend) देने का ऐलान भी किया है.

ऑपरेशनल इनकम बढ़कर हुई 3,608 करोड़ रुपये

कंपनी ने बीएसई को बताया है कि चौथी तिमाही में उसकी कुल आय बढ़कर 4,072.42 करोड़ रुपये हो गई. इसके पिछले साल की समान अवधि में यह आय 3,360.17 करोड़ रुपये रही थी. चौथी तिमाही में कंपनी का कुल खर्च घटकर 2,526.91 करोड़ रुपये हो गया, जबकि पिछले कारोबारी साल की चौथी तिमाही में यह 3,099.18 रहा था. जनवरी-मार्च 2021 के दौरान कंपनी की ऑपरेशनल इनकम करीब 24 फीसदी बढ़कर 3,608 करोड़ रुपये हो गई, जबकि इसके पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में यह 2,921 करोड़ रुपये रही थी. वित्‍त वर्ष 2020-21 के दौरान कंपनी की कुल परिचालन आय 6 फीसदी बढ़कर 12,550 हो गई. वित्त वर्ष 2019-20 में यह आंकड़ा 11,873 करोड़ रुपये का था.

ये भी पढ़ें- Bajaj Healthcare ने लॉन्च की कोरोना की दवा, Favijaj के नाम से मिलेगी फेविपिराविर की जेनेरिक टैबलेट
भारतीय रेलवे के साथ साझेदारी बढ़ाएगी कंपनी

अडानी पोर्ट्स ने नतीजों का ऐलान करते हुए कहा कि वित्‍त वर्ष 2020-21 का कारोबारी साल उनकी कंपनी के लिए नए विकास के शानदार मौके लेकर आया. इस दौरान कंपनी ने कई फैसले किए, जो आने वाले दशकों में उसके विकास की नींव का काम करेंगे. मुंद्रा पोर्ट इसी साल देश का सबसे बड़ा बंदरगाह बन गया है. कंपनी ने इस साल कृष्णापटनम पोर्ट, गंगावरम पोर्ट, दिघी पोर्ट और सरगुजा रेल लाइन का अधिग्रहण भी किया. इसके साथ ही अब कंपनी के देश में कुल 13 बंदरगाह हो गए हैं. सरगुजा रेल के अधिग्रहण और कई दूसरे ट्रैक्स के पुनर्गठन के साथ ही कंपनी अब इंडियन रेलवे के साथ पार्टनरशिप को आगे बढ़ाने के लिए तैयार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज