6 साल में सबसे ज्यादा कमजोर हुआ पाकिस्तान! नेपाल, भूटान से भी पिछड़ जाएगा

6 साल में सबसे ज्यादा कमजोर हुआ पाकिस्तान! नेपाल, भूटान से भी पिछड़ जाएगा

6 साल में सबसे ज्यादा कमजोर हुआ पाकिस्तान! नेपाल, भूटान से भी पिछड़ जाएगा

एशियन डेवल्पमेंट बैंक (Asian Development Bank) की ओर से जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि दक्षिण एशियाई देशों (South Asian Countries) में पाकिस्तान की जीडीपी ग्रोथ सबसे कम रहने वाली है. वित्त वर्ष 201-20 में यह 2.8 फीसदी रह सकती है. यह 6 साल का निचला स्तर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2019, 9:58 AM IST
  • Share this:
 नई दिल्ली. पाकिस्तान के आर्थिक हालात (Pakistan Weak Economy) दिन प्रति दिन खराब होते जा रहे है. आर्थिक तंगहाली के दौर से गुजर रहे पाकिस्तान की स्थिति आने वाले साल में और भी बदतर होने वाली है. आलम ये हैं कि इस साल पाकिस्तान की जीडीपी (Pakistan GDP Growth Rate) रफ्तार नेपाल और मालदीव से भी पिछड़ जाएगी. एशियन डेवल्पमेंट बैंक (Asian Development Bank) की ओर से जारी रिपोर्ट में बताया गया है कि दक्षिण एशियाई देशों (South Asian Countries) में पाकिस्तान की जीडीपी ग्रोथ सबसे कम रहने वाली है. वित्त वर्ष 2019-20 में यह 2.8 फीसदी रह सकती है. यह 6 साल का निचला स्तर है.



ये भी पढ़ें-Alert! इनकम टैक्स विभाग ने चेताया, ITR की डेडलाइन बढ़ने का मैसेज फर्जी



श्रीलंका और भूटान से भी कमजोर हुआ पाकिस्तान!- पाकिस्तान के अखबार द न्यूज में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, एडीबी ने वित्त वर्ष में जारी किए अपने अनुमान में बताया है कि दक्षिण एशियाई देशों में पाकिस्तान की आर्थिक ग्रोथ सबसे कम रह सकती है. एडीबी की रिपोर्ट के मुताबिक, अफगानिस्तान की जीडीपी ग्रोथ मौजूदा वित्त वर्ष में 3.4 फीसदी, श्रीलंका की 3.5 फीसदी, भूटान की 6 फीसदी, मालदीव और नेपाल की 6.3 फीसदी, भारत की 7.2 फीसदी और बांग्लादेश की 8 फीसदी रहने का अनुमान है.






महंगाई तोड़ेगी आम आदमी की कमर- ADB की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस साल आम आदमी को महंगाई से राहत नहीं मिलने वाली है. पाकिस्तानी रुपये की कमजोरी और ज्यादा टैक्स के चलते महंगाई दर 12 फीसदी के आस-पास रहने का अनुमान है. मौजूदा समय में महंगाई 11 फीसदी के ऊपर बनी हुई है.



पाकिस्तान की बदहाली की वजह क्या है-एडीबी की रिपोर्ट में बताया गया है कि कृत्रि क्षेत्र में सुधार के बावजूद पाकिस्तान की आर्थिक ग्रोथ तेजी से गिर रही है. पाकिस्तान की कमजोर नीतियों की वजह से राजकोषीय घाटा बढ़ता जा रहा है.







एडीबी ने कहा कि जब तक आर्थिक असंतुलन को कम नहीं किया जाता है तब तक पाकिस्तान की आर्थिक ग्रोथ में धीमापन जारी रहेगा. महंगाई की वजह से मुद्रा पर दबाव बना रहेगा. उसे थोड़ा बहुत विदेशी मुद्रा भंडार भी बनाए रखने के लिये भारी मात्रा में बाहरी फंडिंग की जरूरत होगी.



Youtube Video




ये भी पढ़ें-1 अक्टूबर से कार खरीदना और होटल में ठहरना होगा सस्ता, यहां देखें पूरी लिस्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज