विदेशों में माल खरीदने-बेचने पर घरेलू कंपनियों को देना होगा GST, जानिए क्यों

विदेशों में माल खरीदने-बेचने पर घरेलू कंपनियों को देना होगा GST, जानिए क्यों
AAR ने कहा है, GST का भुगतान देश में करना होगा. भले ही वह उत्पाद भारत की सीमा में नहीं आया हो.

अगर कोई घरेलू कंपनी विदेश से माल खरीदती है और इसे किसी अन्य देश में बेचती है तो इसके लिए उन्हें भारत में GST चुकाना है. एक आवेदन के जवाब में एडवांस रूलिंग प्राधिकरण (AAR) ने यह जानकारी दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली. एडवांस रूलिंग प्राधिकरण (AAR) ने कहा है कि अगर कोई घरेलू कंपनी विदेश से माल खरीदती है और उसे किसी दूसरे देश में बेचती है, तो उसे ऐसे सौदे के लिये GST का भुगतान देश में करना होगा. भले ही वह उत्पाद भारत की सीमा में नहीं आया हो.

स्टरलाइट टेक्नोलॉजी के आवेदन पर AAR की गुजरात पीठ ने कहा है कि जहां देश से बाहर सीधे बिक्रेता से सामान लेकर ग्राहकों के परिसरों में पहुंचाया जाता है, वहां देश में जीएसटी भुगतान का मामला बनता है.

आवेदनकर्ता ने यह जानना चाहा था कि क्या वस्तु व्यापार लेनदेन (MTT) पर जीएसटी बनता है. AAR ने व्यवस्था दी, ‘‘ऐसा लगता है कि सौदा अंतरराज्यीय आपूर्ति के दायरे में आता है और यह न तो सेवा निर्यात में आता है और न ही इस पर छूट है. ....ऐसे में हम इस निष्कर्ष पर पहुंचते हैं कि इस प्रकार की आपूर्ति पर एकीकृत जीएसटी (IGST) शुल्क लग सकता है.’’



यह भी पढ़ें: ध्यान दें! 21 जून को बंद रह सकती हैं SBI की ये सर्विसेज, पहले ही रहें तैयार
क्यों MTT पर लगेगा GST?
प्राधिकरण के इस निर्णय का मतलब है कि GST उन मामलों में MTT पर लगेगा जहां आवेदनकर्ता को देश के बाहर के ग्राहक से आर्डर मिलता है और निर्देश के अनुसार देश के बाहर स्थित बिक्रेता सीधे माल ग्राहक को पहुंचा देता है. बिक्रेता आवेदनकर्ता को बिल देगा. बिल का भुगतान विदेशी मुद्रा में होगा और आवेदनकर्ता बिल ग्राहक को देगा तथा विदेशी मुद्रा में राशि प्राप्त करेगा. इस सौदे में वस्तु भारत में नहीं आई लेकिन देश से बाहर एक जगह से दूसरे जगह गया.

यह भी पढ़ें: कौन सा सेलिब्रिटी किस चीनी ब्रांड का विज्ञापन करता है? यहां देखें लिस्ट

AMRG & Associate के वरिष्ठ भागीदार रजत मोहन ने कहा कि वैश्विक स्तर पर एमटीटी पर कहीं भी मध्यस्थ मेजबान देश में कर नहीं लिया जाता और पुरानी व्यवस्था में यही स्थिति भारत में थी. जीएसटी कानून भी कहता है कि एममटीटी जीएसटी के दायरे से बाहर है.’’ मोहन ने कहा, ‘‘गुजरात एएआर के निर्णय को सीजीएसटी कानून के अनुसूची-तीन के प्रावधानों के तहत गौर करने की जरूरत है. ऐसा नहीं होने से उद्योग के लिये समस्या होगी.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading