Home /News /business /

अफगानिस्तान में तालिबान के आने से आपके जेब पर भी पड़ेगा असर! महंगे होने लगे ड्राई फूट्स सहित खाने के ये सामान

अफगानिस्तान में तालिबान के आने से आपके जेब पर भी पड़ेगा असर! महंगे होने लगे ड्राई फूट्स सहित खाने के ये सामान

अफगानिस्तान के ताजा राजनीतिक हालात भारत के साथ व्यापार को भी प्रभावित कर रहा है.

अफगानिस्तान के ताजा राजनीतिक हालात भारत के साथ व्यापार को भी प्रभावित कर रहा है.

Trade in Afghanistan: अफगानिस्तान के ताजा राजनीतिक हालात (Afghanistan Political Situation) भारत के साथ व्यापार (Trade) को भी प्रभावित कर रहा है. अफगानिस्तान से आयातित ड्राई फ्रूट्स (Prices of Dry Fruits) और ताजे फलों के दाम बढ़ने लगे हैं. महज कुछ ही दिनों के अंदर ड्राई फ्रूट्स की कीमतों में तो 10 से 12 फीसदी तक उछाल आ गया है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. अफगानिस्तान के ताजा राजनीतिक हालात (Afghanistan Political Situation) भारत के साथ व्यापार (Trade) को भी प्रभावित कर रहा है. अफगानिस्तान से आयातित ड्राई फ्रूट्स (Prices of Dry Fruits) और ताजे फलों के दाम बढ़ने लगे हैं. महज कुछ ही दिनों के अंदर ड्राई फ्रूट्स की कीमतों में तो 10 से 12 फीसदी तक उछाल आ गया है. इधर भारतीय निर्यातकों (Exporters) ने आंशका जताई है कि तालिबान शासन  (Taliban Rule) आने के बाद अफगानिस्तान और भारत के बीच द्विपक्षीय व्यापार पर असर पड़ेगा. खासकर अफगानिस्‍तान से आने वाले सूखे मेवों और ताजे फलों की कमी से भारतीय बाजार प्रभावित होगा. फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन (FIEO) ने अफगानिस्तान के ताजा हालात पर चिंता जताते हुए कहा है कि इससे घरेलू निर्यातकों को काफी नुकसान उठाना पड़ सकता है. वहीं, कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने भी कहा है कि काबुल और भारत के बीच द्विपक्षीय व्यापार बुरी तरह प्रभावित होगा, क्योंकि अब इन परिस्थितियों में व्यापारियों का भविष्य अनिश्चित होगा.

आयात-निर्यात पर कितना असर पड़ेगा?
देश के 8 करोड़ व्यापारियों के प्रमुख संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा, ‘भारत को अफगानिस्तान से सूखे किशमिश, अखरोट, बादाम, अंजीर, पाइन नट, पिस्ता, सूखे खुबानी और खुबानी, चेरी, तरबूज और औषधीय जड़ी-बूटियों और ताजे फल आयात करने पड़ते हैं. वहीं, अफगानिस्तान को भारत के निर्यात में चाय, कॉफी, काली मिर्च, कपास, खिलौने, जूते और विभिन्न अन्य उपभोग्य वस्तुएं शामिल हैं. अब अफगानिस्तान में अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं. इसलिए अगले कुछ दिनों में अफगानिस्तान से आयात होने वाले ड्राइ फ्रूट्स और ताजे फलों के दाम बढ़ सकते हैं.’

 trade in afghanistan, direct impact on trade with India, Taliban, bilateral trade between Afghanistan and India, Federation of Indian Export Organisations, FIEO, Afghanistan, Kabul, cait,dry fruits, fresh fruits, ड्राइ फ्रूट्स, किशमिश, बादाम, महंगा, तालिबान, अखरोट महंगे, इन वस्तुओं के भी बढ़ सकते हैं दाम, अफगानिस्तान, अफगानिस्तान के राजनीतिक हालात

काबुल और भारत के बीच द्विपक्षीय व्यापार बुरी तरह प्रभावित होगा. (फाइल फोटो)

क्या कहना है कैट का
कैट के मुताबिक, ‘अफगानिस्तान में राजनीतिक स्थिति की अनिश्चितता के कारण बाजारों में कीमतें बढ़ सकती हैं. भारत और अफगानिस्तान के बीच द्विपक्षीय व्यापार 2020-21 में 1.4 बिलियन अमरीकी डालर था, जबकि 2019-20 में 1.52 बिलियन अमरीकी डालर था. भारत से निर्यात 826 मिलियन अमरीकी डालर था और 2020-21 में आयात 510 मिलियन अमरीकी डालर था.’

व्यापारियों को क्या सलाह है
कैट ने घरेलू निर्यातकों को सतर्क रहने की सलाह दी है और घटनाक्रम पर पैनी नजर रखने की हिदायत दी है. वर्तमान में आयात निर्यात शिपमेंट फंसे हुए हैं, जिससे व्यापारियों को भारी नुकसान हो सकता है. बड़ी मात्रा में भुगतान अवरुद्ध होने की संभावना है जो व्यापारियों को कमजोर स्थिति में डाल देगा. सरकार को इसका संज्ञान लेना चाहिए और वित्तीय संकट का सामना करने की स्थिति में व्यापारियों की मदद करनी चाहिए.

 trade in afghanistan, direct impact on trade with India, Taliban, bilateral trade between Afghanistan and India, Federation of Indian Export Organisations, FIEO, Afghanistan, Kabul, cait,dry fruits, fresh fruits, ड्राइ फ्रूट्स, किशमिश, बादाम, महंगा, तालिबान, अखरोट महंगे, इन वस्तुओं के भी बढ़ सकते हैं दाम, अफगानिस्तान, अफगानिस्तान के राजनीतिक हालात

कैट ने घरेलू निर्यातकों को सतर्क रहने की सलाह दी है और घटनाक्रम पर पैनी नजर रखने की हिदायत दी है. (फाइल फोटो)

ये भी पढ़ें: दिल्ली-NCR में सस्ता घर खरीदने का मौका, सिर्फ 4.5 लाख रुपये में मिल रहा है इस तरह का फ्लैट

बता दें कि अफगानिस्तान से सामान आयात और निर्यात करने का हवाई मार्ग ही मुख्य माध्यम है जो कि अब बाधित हो गया है. सबसे अधिक संभावना है कि निजी खिलाड़ियों को अफगानिस्तान को निर्यात करने के लिए अब तीसरे देशों के माध्यम से सौदा करना होगा. लेकिन, यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि आगे स्थिति कैसे बदलती है. फिलहाल भारत से निर्यात पूरी तरह से बंद हो जाएगा, क्योंकि अब समय पर भुगतान की समस्या होगी.

Tags: Afganistan, India afghanistan, Indian export, Taliban rule in Afghanistan, Trade unprofitable

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर