Article 370 के हटने के बाद कश्मीर के कारोबारियों को लगा बड़ा झटका, हुआ करोड़ों का नुकसान

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को दो राज्यों में बांट दिया गया है. दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद लागू की गई पाबंदियों के कारण पिछले सप्ताह यहां कारोबारी समुदाय को करीब 1,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ

भाषा
Updated: August 13, 2019, 7:51 AM IST
Article 370 के हटने के बाद कश्मीर के कारोबारियों को लगा बड़ा झटका, हुआ करोड़ों का नुकसान
370 के हटने के बाद J&K कारोबारियों को हुआ करोड़ों का नुकसान
भाषा
Updated: August 13, 2019, 7:51 AM IST
आर्टिकल 370 ख़त्म कर दिया गया है. जिसके बाद से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को दो राज्यों में बांट दिया गया है. दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के बाद लागू की गई पाबंदियों के कारण पिछले सप्ताह यहां कारोबारी समुदाय को करीब 1,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ. कश्मीर चैंबर ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री (केसीसीआई) के एक सदस्य ने कहा कि प्रशासन की ओर से लागू पाबंदियों के कारण राज्य में जनजीवन ठप रहा है. कश्मीर में आज के वक्त में कम-से-कम 175 करोड़ रुपये प्रतिदिन के हिसाब से कारोबारी नुकसान हो रहा है.

कारोबारियों के संगठन के नेता ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि मैं किसी तरह की परेशानी मोल नहीं लेना चाहता हूं. आगे उन्होंने कहा कि पाबंदियों की वजह से लोग घरों के बाहर नहीं आ पा रहे हैं और इस वजह से बेकरी और मवेशियों के डीलरों का कारोबार सबसे अधिक प्रभावित हुआ है.

ये भी पढ़ें: बकरीद से पहले पाकिस्तान में महंगाई पर हाहाकार!

बेकरी मालिकों को 200 करोड़ रुपये तक नुकसान झेलना पड़ा है क्योंकि उनके उत्पाद जल्द खराब हो जाते हैं. शहर के करण नगर इलाके के एक बेकरी मालिक ने कहा कि अकेले उन्हें एक करोड़ रुपये का नुकसान हुआ.

हालांकि, शहर के सिविल लाइन इलाके में कुछ बेकरी चल रहे हैं लेकिन शहर के निचले इलाकों में अधिकारी दुकानों को खोलने की इजाजत नहीं दे रहे. पूंछ के रहने वाले मवेशियों के कारोबारी बशीर अहमद बताते हैं कि ईद-उल-अजहा से पहले कुर्बानी के जानवरों की बिक्री के जरिए कुछ लाभ कमाने की आशा में वह भेड़ों और बकरियों को लेकर आए थे. लेकिन अहमद को लग रहा है कि उन्हें अधिकतर मवेशियों को वापस लेकर जाना पड़ेगा. लोगों की आवाजाही पर पाबंदियों के कारण मवेशियों के डीलरों को अपने जानवरों के लिए चारा ढूंढने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

ये भी पढ़ें: एजेंट की बताई बातें निकली झूठी तो ऐसे करें LIC पॉलिसी वापस!
First published: August 13, 2019, 7:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...