Tech Industry के 90 फीसदी कर्मचारी घर से कर रहे काम, WFH को प्रोत्‍साहित करने से बढ़ेगी महिलाओं की भागेदारी: अजीम प्रेमजी

अजीम प्रेमजी ने कहा, लोग महामारी के बाद भी कार्यालय और घर से आंशिक रूप से काम करेंगे.

अजीम प्रेमजी ने कहा, लोग महामारी के बाद भी कार्यालय और घर से आंशिक रूप से काम करेंगे.

विप्रो के संस्‍थापक अजीम प्रेमजी (Azim Premji) ने कहा कि आईटी सेक्‍टर में लागू काम करने के हाइब्रिड मॉडल का मशक लाभ होगा. साथ ही कहा कि वर्क फ्रॉम होम (Work From Home) को बढ़ावा देना समावेशी विकास, देश के सभी हिस्सों से बेहतर भागीदारी और अधिक से अधिक महिलाओं को घर से काम करने के लिए लचीलापन देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 5:11 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. देश में लॉकडाउन के दौरान टेक्नाेलॉजी इंडस्ट्री (Technology Industry) में 90 फीसदी काम घर से ही (Work From Home)  हाे रहा था. अब भी इतने ही लाेग घराें से काम कर रहे हैं. विप्रो के संस्‍थापक अजीम प्रेमजी ने बेंगलुरु में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) की मौजूदगी में चैंबर ऑफ इंडस्ट्री एंड कॉमर्स (Chamber of Commerce and Industry) के कार्यक्रम में कहा कि केंद्र सरकार महामारी के नियंत्रण में आने के बाद भी इस हाइब्रिड मॉडल काे प्राेत्साहित करे. इस मॉडल से देश काे फायदा हाेगा और ज्यादा से ज्यादा महिलाओं काे घर से काम करने का विकल्प मिलेगा.



 सरकार की योजनाएं और सहायता कार्यक्रम बड़े पैमाने तक पहुंचे

अजीम प्रेमजी ने कहा कि टेक्नाेलॉजी न सिर्फ बिजनेस बल्कि इंसानाें के लिए भी लाइफ लाइन बन रही है. टेक्नाेलॉजी ने यह सुनिश्चित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है कि सरकार की सामाजिक योजनाएं और सहायता कार्यक्रम बड़े पैमाने पर आबादी तक पहुंच पाएं. टियर -2 शहरों में डिजिटल इन्फ्रास्ट्रक्चर की उपलब्धता ने कई व्यवसायों को फलने-फूलने में काफी मदद की है.



ये भी पढ़े - सोना खरीदने का है बेहतरीन मौका! अब तक ₹10,000 हुआ सस्ता, जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट?




परोपकार हमेशा भारत की संस्कृति और परंपरा का हिस्सा रहा है

देश के सबसे बड़े दानवीर उद्यमियों में शामिल प्रेमजी ने लोगों को परोपकार के कुछ कार्यों से जुड़ने पर जोर दिया. उन्होंने कहा, 'परोपकार की संस्कृति भारत की बुनियाद है, जाे हमेशा से हमारी संस्कृति और परंपरा का हिस्सा रहा है.' उन्हाेंने जाेर दिया कि हमें इस बात काे भूलना नहीं चाहिए और धर्म के साथ साथ दान के कार्याें काे भी करते रहना चाहिए. 


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज