लाइव टीवी

महाराष्ट्र: PMC बैंक स्कैम के बाद अब गुडविन ज्वैलर्स फरार, लोगों के करोड़ों रुपए फंसे

News18Hindi
Updated: October 28, 2019, 7:12 PM IST
महाराष्ट्र: PMC बैंक स्कैम के बाद अब गुडविन ज्वैलर्स फरार, लोगों के करोड़ों रुपए फंसे
मालिक पिछले चार दिनों से अपनी दुकानें बंद कर फरार

PMC बैंक (PUNJAB & MAHARASHTRA CO-OPERATIVE BANK LTD) घोटाले के बाद महाराष्ट्र में ही एक और बड़े घोटाले के सामने आने का अंदेशा लगाया जा रहा है. दरअसल मुंबई का एक जूलरी स्टोर जिसकी कई ब्रांच हैं उसका मालिक पिछले चार दिनों से अपनी दुकानें बंद कर फरार हैं. जानिए क्या है पूरा मामला..

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2019, 7:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  पीएमसी बैंक (PUNJAB & MAHARASHTRA CO-OPERATIVE BANK LTD- PMC) घोटाले के बाद महाराष्ट्र में ही एक और बड़े घोटाले के सामने आने का अंदेशा जताया जा रहा है. दरअसल मुंबई का एक जूलरी स्टोर, जिसकी कई ब्रांच हैं, उसका मालिक पिछले चार दिनों से अपनी दुकानें बंद कर फरार हैं. इस जूलरी स्टोर के बंद होने से हजारों लोगों की हालत खराब है. लोगों की हालत ख़राब होने का कारण यह है कि इन लोगों ने इस स्टोर की दो स्कीमों में भारी-भरकम निवेश कर रखा है. इस स्टोर का नाम गुडविन ज्वेलर्स (Goodwin Jewellers) है.

महाराष्ट्र के ठाणे में पुलिस स्वर्ण एवं अन्य योजनाओं में निवेश करने वाले ग्राहकों को कथित रूप से चूना लगाने वाली गुडविन ज्वैलरी श्रृंखला के मालिकों के खिलाफ लुकआऊट नोटिस जारी कर दिया है. पड़ोसी पालघर जिले की पुलिस ने इस ज्वैलरी फर्म के मालिकों पर 'महाराष्ट्र वित्तीय प्रतिष्ठान जमाकर्ता हित संरक्षण (एमपीआईडी) अधिनियम' के तहत भी मामला दर्ज किया है. इस कानून में ग्राहकों को चूना लगाने वालों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के प्रावधान हैं.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक जब पुलिस जूलरी स्टोर गुडविन स्टोर्स के मालिकों के डोंबिवली स्थित आवास पर पहुंची तो उसे बंद पाया, जिसके बाद इसी इलाके में स्थित उनके शोरूम को सील कर दिया.



सोशल मीडिया पर चल रहे एक वीडियो में ठाणे और पालघर में जमाकर्ता अपने निवेश का रिफंड मांगने के लिए गुडविन की बंद दुकानों के बाहर एकत्रित नजर आ रहे हैं और ज्वैलरी श्रृंखला के मालिक कथित रूप से उन्हें आश्वासन दे रहे हैं कि वे भागे नहीं हैं और वे ग्राहकों का पैसा लौटायेंगे. मालिक ग्राहकों से उन पर विश्वास करने की अपील करते हुए नजर आ रहे हैं. ठाणे के डोम्बिवली थाने के वरिष्ठ निरीक्षक एस पी आहेरा ने कहा, 'हम वीडियो का भी परीक्षण कर रहे हैं.'

दो दिन पहले दुकानें की बंद
गुडविन ज्वैलरी श्रृंखला ने दिवाली से दो दिन पहले ठाणे, पालघर और मुंबई में अपनी दुकानें बंद कर दीं जिससे उसकी स्वर्ण एवं सावधि जमा योजनाओं में पैसा लगाने वाले सैंकड़ों लोग मुश्किल में घिर गये. एक अन्य अधिकारी ने कहा कि गुडविन की अन्य सावधि जमा एवं निवेश योजनाओं में पैसा लगाने के लिए अपने गहने उसके पास रखने वाले कई लोगों को त्योहार के दौरान दुकानें बंद नजर आयीं जबकि उन्हें वादे के अनुसार रिटर्न में कुछ धन के वितरण की उम्मीद थी.
Loading...



अधिकारी ने कहा कि कंपनी के मालिक और पूर्णकालिक निदेशक ए एम सुनीलकुमार और ए एम सुदेशकुमार का तब से पता नहीं चल रहा है. वे केरल के रहने वाले हैं. आहेरा ने कहा, 'यह सुनिश्चित करने के लिए ज्वैलरी श्रृंखला के मालिकों के खिलाफ लुकआऊट नोटिस जारी किया जा रहा है कि वे देश छोड़कर नहीं भागें.' एक अन्य अधिकारी ने कहा कि यह मामला ठाणे पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा को सौंपा जा सकता है क्योंकि यह करोड़ों रूपये का मामला है. सैंकड़ों लोग शिकायतें दर्ज कराने के लिए अपने अपने इलाके के थाने पहुंचे और पालघर पुलिस ने ज्वैलरी श्रृंखला के मालिकों के खिलाफ एमपीआईडी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया.

कौन है गुडविन ग्रुप के मालिक?
सुनील तथा सुधीश केरल के रहने वाले हैं और मुंबई तथा पुणे में उनके कम से कम 13 आउटलेट हैं. गुडविन जूलर्स के मालिक सुनील तथा सुधीश पिछले 22 वर्षों से जूलरी के कारोबार में हैं. माना जा रहा है कि एक वॉइस मैसेज में चेयरमैन ने निवेशकों से कहा है कि उनका निवेश सुरक्षित है और उन्हें उनकी रकम वापस मिल जाएगी. मैसेज में कहा गया है कि जो कुछ भी हुआ है, वह तीन साल पहले शुरू हुए एक मिस कैंपेन का नतीजा है, जब हमारी फैमिली संकट में फंसी. कारोबार प्रभावित हुआ, लेकिन हम इससे निपटने के लिए नए आइडिया पर काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: नवंबर में कुल 8 दिन रहेंगे बैंक बंद, छुट्टियों की यहां देखें पूरी लिस्ट

इस वजह से बढ़ी निवेशको की चिंता
एक निवेशक का दावा है कि डोंबिवली ऑफिस 21 अक्टूबर को बंद किया गया और जब उन्होंने फोन पर स्टोर के कर्मचारियों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि स्टोर दो दिन के लिए बंद रहेगा. लेकिन दुकान दिवाली पर भी बंद रही, जिसके कारण चिंता बढ़ी.

गुडविन ग्रुप ने कैसे शुरू किया कारोबार
गुडविन ग्रुप ने जूलरी, कंस्ट्रक्शन, सिक्यॉरिटी डिवाइसेज तथा आयात-निर्देश में निवेश कर रखा है. 1992 में इसने केरल में जूलरी बनाना शुरू किया और अगले तीन साल में यह जूलरी का होलसेल कारोबार करने लगा. साल 2004 में यह मुंबई के बाजार में उतरा. कंपनी की शाखाएं वाशी, ठाणे, डोंबिवली में दो, चेंबूर, वसई, अंबरनाथ, पुणे में तीन तथा केरल में हैं. इसने विदेश में भी शोरूम खोलने वाला था.

ये भी पढ़ें: अब दिल्ली के इस सहकारी बैंक में जमा खाताधारकों के ₹600 करोड़ पर मंडराया संकट!

क्या भी कंपनी की वो स्कीमें जिसने निवेशको का बढ़ाया था उत्साह
गुडविन ग्रुप की पहली स्कीम में फिक्स्ड डिपॉजिट पर 16% इंट्रेस्ट की पेशकश की गई थी. दूसरी स्कीम में डिपॉजिट के 1 साल पूरे होने पर गोल्ड जूलरी देने की पेशकश की गई थी. कोई निवेशक 1 साल के लिए 1 महीने में चाहे कितनी भी रकम का निवेश कर सकता था. निवेशक अपनी रकम के बराबर गोल्ड ले सकता था या कैश चाहने वालों को 14 महीने के लिए इंतजार करना पड़ता था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 28, 2019, 9:15 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...