ग्रुप के शेयरों पर सकंट के बाद गौतम अडानी को एक घंटे में 73 हजार करोड़ रुपए का नुकसान

गौतम अडाणी

मुंबई. अडानी ग्रुप के प्रमोटर और देश के दूसरे सबसे रईस आदमी गौतम अडानी को सोमवार को भारतीय शेयर बाजार के खुलते ही एक घंटे के अंदर 73 हजार करोड़ रुपए (10 अरब डॉलर) से ज्यादा का नुकसान हुआ.

  • Share this:
    मुंबई. अडानी ग्रुप के प्रमोटर और देश के दूसरे सबसे रईस आदमी गौतम अडानी को सोमवार को भारतीय शेयर बाजार के खुलते ही एक घंटे के अंदर 73 हजार करोड़ रुपए (10 अरब डॉलर) से ज्यादा का नुकसान हुआ. ब्लूमबर्ग बिलिनेयर इंडेक्स के मुताबिक शुक्रवार के अडानी की पर्सनल वेल्थ 77 बिलियन डॉलर थी. सोमवार को National Securities Depository Ltd (NSDL) की रिपोर्ट आने के बाद अडानी कंपनियों के शेयरों में 20 फीसदी तक गिरावट आई.

    43500 करोड़ रुपए के शेयर हैं इन विदेशी फंडों के पास
    इकोनॉमिक टाइम की रिपोर्ट के मुताबिक, NSDLने तीन विदेशी फंड्स के अकाउंट को फ्रीज कर दिया है. इन तीनों के पास अडानी की चार कंपनियों के 43500 करोड़ रुपए वर्थ के शेयर है. अब ये फंड्स इन शेयरों को खरीद बेच नहीं सकते है. इस खबर के आने के बाद अडानी की कंपनियों में धड़ाधड़ लोअर सर्किट लगने लगे.

    यह भी पढ़ें- अडानी ग्रुप में 43 हजार करोड़ निवेश करने वाले विदेशी फंड्स का पता, ओनरशिप व वेबसाइट तक अपडेट नहीं

    अडानी की कंपनियों के ज्यादातर शेयर प्रमोटर्स  के पास
    अडानी ग्रुप इस समय दुनिया में सबसे तेज वेल्थ क्रिएटर था. सोमवार को बिकवाली में अडानी ग्रुप की कंपनियों का मार्केट कैप 15 अरब डॉलर कम हो गया. अडानी ग्रुप की ज्यादातर लिस्टेड कंपनियों की लगभग 75 फीसदी हिस्सेदारी प्रमोटर्स के पास ही है. बाकी के ज्यादातर फ्रीफ्लोट शेयर 6 से 7 विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के हाथ में हैं.

    ये भी पढ़ें- NSDL की बड़ी कार्रवाई को लेकर अडानी ग्रुप ने दी सफाई, अकाउंट फ्रीज वाली खबरों पर कही ये बात

    बाकी डे टू डे ट्रेडर या रिटेल निवेशकों के लिए बहुत कम शेयर बचते हैं, जो मार्केट में आर्टिफिशियल डिमांड क्रिएट करते हैं. निशेषज्ञों इसको भी कंपनियों के शेयरों की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि का कारण मानते है.

    एनएसडीएल ने जिन तीन फंडों के अकाउंट को फ्रीज किया है कि उनके अडानी एंटरप्राइजेज (Adani Enterprises) में 6.82 फीसदी, अडानी ट्रांसमिशन (Adani Transmission) में 8.03 फीसदी, अडानी टोटल गैस (Adani Total Gas) में 5.92 फीसदी और अडानी ग्रीन (Adani Green) में 3.58 फीसदी हिस्सेदारी है.

    प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत बेनिफिशियल ऑनरशिप के बारे में पूरी जानकारी देनी जरूरी है. लेकिन इन विदेशी फंड्स ने बेनिफिशियल ऑनरशिप (beneficial ownership) के बारे में पूरी जानकारी नहीं दी. इस वजह से उनके अकाउंट्स को फ्रीज कर दिया गया है.

    अकाउंट फ्रीज होने का मतलब
    एक अधिकारी ने बताया कि अमूमन कस्टोडियन अपने क्लाइंट्स को इस तरह की कार्रवाई के बारे में आगाह कर देते हैं, लेकिन अगर फंड इस बारे में जवाब नहीं देता है या इसका पालन नहीं करता है तो अकाउंट्स को फ्रीज किया जा सकता है. अकाउंट फ्रीज करने का मतलब है कि फंड न तो कोई मौजूदा सिक्योरिटीज बेच सकता है और न ही नई खरीद सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.