अपना शहर चुनें

States

नहीं मिला खरीदार तो 6 माह में बंद हो सकती है एयर इंडिया: अधिकारी

एअर इंडिया
एअर इंडिया

एअर इंडिया (Air India) के ए​क वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अगर समय रहते खरीदार नहीं मिलता है तो जून माह तक कंपनी बंद हो सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारी कर्ज के बोझ से जूझ रही एअर इंडिया (Air India) को अगर कोई खरीदार नहीं मिलता है तो जून तक यह कंपनी बंद हो सकती है. इस सरकारी एयरलाइन के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, संकट के दौर से गुजर रही एअर इंडिया को अगर कोई नया खरीदार नहीं मिला तो जून माह तक इसे बंद करना पड़ सकता है. छोटी-छोटी पूंजीगत व्यवस्था की मदद से इस एअर इंडिया का परिचालन जारी रखना मुश्किल हो रहा है.

एअर इंडिया पर 60 हजार करोड़ रुपये का कर्ज
एअर इंडिया के भविष्य को लेकर असमंजस की स्थिति में इस अधिकारी ने कहा कि फिलहाल 12 नैरो बॉडी प्लेन्स (Narrow Body Planes) का संचालन फिर से शुरू करने के लिए भी फंड की आवश्यकता है. बता दें कि इस सरकारी विमान कंपनी पर ​करीब 60 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है और सरकार इसके विनिवेश की तैयारी में है.

एअर इंडिया की बुरे हालत पर चिंता जताते हुए अधिकारी ने कहा कि अगले साल जून माह तक अगर कोई खरीदार नहीं मिलता है तो एअर इंडिया का हाल भी जेट एयरवेज (Jet Airways) की तरह हो जाएगा.
यह भी पढ़ें: 1 जनवरी से सरकार शादी में देगी 1 तोला सोना, आपको करना होगा ये काम





फंड जुटाकर हो रहा एअर इंडिया का परिचालन
सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि वो एअर इंडिया को अब कोई अतिरिक्त फंंड नहीं दे सकती है. इस बीच कंपनी को परिचालन जारी रखने के ​लिए छोटे-छोटे हिस्सों में पूंजीगत मदद लेनी पड़ रही है.

सरकार ने अब तक दिए 30,520 करोड़ रुपये
सरकार के मुताबिक, वित्त वर्ष 2011-12 से लेकर अब तक एअर इंडिया को 30,520.21 करोड़ रुपये का फं​ड दिया है. साल 2012 में ही UPA सरकार के दौर में एअर इंडिया को 10 साल की अवधि में 30 हजार करोड़ रुपये देने की बात कही गई थी.

यह भी पढ़ें: नए साल पर कर्मचारियों को तोहफा दे सकती है मोदी सरकार, 10 हजार तक बढ़ेगी सैलरी!

अधिकारी ने बताया, 'हमने सॉवरेन गारंटी फंड के जरिए 2,400 करोड़ रुपये जुटाने की मांग की थी ताकि संचालन को खर्च मेंटेन कर लिया जाएगा. लेकिन, सरकार ने 500 करोड़ रुपये की ही मंजूरी दी.'

खरीदार मिलने पर भी लगेगा 6 महीने का समय
सरकार चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में एअर इंडिया में अपनी हिस्सेदारी की बिक्री के लिए रुचि पत्र जारी कर सकती है. अधिकारी के मुताबिक, खरीदार मिल जाने की सूरत में लेनदेन को पूरा करने में कम से कम छह महीने का समय लगेगा. बशर्तें की बिक्री की प्रकिया अगले महीने की शुरुआत में हो. अधिकारी ने 'आर्थिक स्थिति' को देखते हुए सरकार को निवेशक मिलने की बहुत ज्यादा उम्मीद नहीं जताई है.

यह भी पढ़ें:  ICICI बैंक ने ग्राहकों को दिया तोहफा, ट्रेन टिकट बुकिंग पर नहीं लगेगा ये चार्ज
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज