पायलट्स एसोसिएशन की धमकी! कोरोना वैक्सीन नहीं लगी तो हड़ताल पर जाएंगे Air India के पायलट

कई क्रू मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

कई क्रू मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

इंडियन कमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन (ICPA) ने एयर इंडिया प्रबंधन को लिखा है कि फ्लाइंग क्रू मेंबर और उनके परिवार वाले ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए संघर्ष कर रहे हैं. हमें इलाज के लिए अपने ऊपर छोड़ दिया गया है. हम इस स्थिति में नहीं हैं कि कोरोना वैक्सीनेशन के बिना अपने पायलट की जान लगातार जोखिम में डालते रहें.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना की लहर और उसको लेकर भय बढ़ता ही जा रहा है. आलम यह है कि इंडियन कमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन (ICPA) ने भारत सरकार को धमकी दी है कि यदि 18 वर्ष के अधिक उम्र के फ्लाइंग क्रू को प्राथमिकता के आधार पर कोरोना वैक्सीन लगे वर्ना पायलेट्स उड़ानों का संचालन बंद करके हड़ताल पर चले जाएंगे. ICPA एयर इंडिया पायलटों का संगठन (Air India pilot union) है. ICPA ने एयर इंडिया को लिखे पत्र में कहा है कि 18 साल से ऊपर के सभी फ्लाइंग क्रू के लिए अगर देश भर में वैक्सीनेशन कैंप लगाकर प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन नहीं लगाई गई, तो हम काम रोक देंगे।



ICPA ने एयर इंडिया प्रबंधन को लिखा है कि फ्लाइंग क्रू मेंबर और उनके परिवार वाले ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए संघर्ष कर रहे हैं. हमें इलाज के लिए अपने ऊपर छोड़ दिया गया है. उन्होंने कहा कि फ्लाइंग क्रू को बिना हेल्थ केयर सपोर्ट और वेतन कटौती के कारण हम इस स्थिति में नहीं है कि कोरोना वैक्सीनेशन के बिना अपने पायलट की जान लगातार जोखिम में डालते रहें.



कई क्रू मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं

पायलट यूनियन ने यह कदम तब उठाया है जब इसके कई क्रू मेंबर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. एअर इंडिया पायलट्स का कहना है कि अगर प्रबंधन 18 साल से अधिक उम्र के क्रू मेंबर्स के लिए पैन इंडिया वैक्सीनेशन शिविर लगाने में विफल रहता है, तो वे फ्लाइट्स का संचालन बंद करके हड़ताल पर चले जाएंगे. आपको बता दें कि कोरोना संकट के इस दौरान पायलट्स की भूमिका काफी अहम है, क्योंकि ऑक्सीजन से लेकर दवाइयों तक सबकी लॉजिस्टिक कर रहे हैं. 


ये भी पढ़ें -  बेंटले, एस्टन मार्टिन और जगुआर जैसी कारों को डिजाइन करने वाले बर्गेस करेंगे ओला इलेक्ट्रिक के नए मॉडल्स पर काम



कोविड से पहले मिलने वाला वेतन भी बहाल करने की मांग

इसके अलावा ICPA ने कोविड-19 से पहले मिलने वाले वेतन बहाल करने की मांग करते हुए कहा कि उसके सदस्य घरेलू बाजार में सबसे बुरे और सबसे लंबे समय तक बने हुए वेतन कटौती की सजा झेल रहे हैं. नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को लिखे एक और पत्र में इंडियन कमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन ने कहा कि मंत्री ने पूर्व में जो आश्वासन दिए थे, वह मुश्किल के इस समय में पायलटों के प्रति एयर इंडिया प्रबंधन के कथित उदासीन रवैये के खिलाफ ढाल की तरह काम किया.





ये भी पढ़ें- कोरोना से जंग: Paytm दर्जनभर से ज्‍यादा शहरों में लगाएगा ऑक्सीजन प्लांट, Samsung देगा 50 लाख डॉलर की मदद



हमारी शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया जा रहा

पत्र में लिखा गया है कि लेकिन कोविड-19 महामारी के 12 महीनों से ज्यादा समय के साथ यह हमारे लिए काफी हतोत्साहित करने की बात है कि आपके कार्यालय ने भी हमारी शिकायतों पर ध्यान नहीं दिया. पिछले साल एयर इंडिया ने महामारी के बीच अपने पायलटों के वेतन में 55 प्रतिशत तक की कटौती की थी. हालांकि पिछले साल दिसंबर में कुल कटौती में पांच प्रतिशत की कमी कर दी गई, पायलटों को तब भी कोविड से पहले मिलने वाले वेतन की तुलना में वेतन का 50 प्रतिशत हिस्सा ही मिल रहा है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज