अपना शहर चुनें

States

कोरोना संकट में छंटनी नहीं करेगी एअर इंडिया, लेकिन अन्य भत्तों में 50 फीसदी तक की कटौती का फैसला

एअर इंडिया पर 70 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है.
एअर इंडिया पर 70 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है.

कोरोना वायरस महामारी की वजह से हुए नुकसान की भरपाई के लिए अन्य विमान कंपनियों की तरह एअर इंडिया (Air India) अपने कर्मचारियों की छंटनी नहीं करेगी. इस सरकारी विमान कंपनी ने यह भी कहा कि वित्तीय स्थिति को देखते हुए कुछ अलाउंस को युक्तिसंगत बनाया गया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकारी विमान कंपनी एअर इंडिया (Air India) ने ऐलान किया कि वो अन्य विमान कंपनियों की तरह अपने कर्मचारियों की छंटनी नहीं करेगी. एअर इंडिया ने यह भी कहा कि उड़ाने भरने वाले क्रु मेंबर्स (Air Indian Crew Members) को भुगतान उनकी उड़ान के घंटे क आधार पर किया जाएगा. सरकारी विमान कंपनी की तरफ से यह फैसला एक ऐसे समय पर आया है, जब एअर इंडिया बोर्ड (Air India Board) के अधिकारियों ने नागर विमानन मंत्रालय (Ministry of Civil Aviation) के साथ बैठक की है. विमान कंपनी ने कहा कि बेसिक सैलरी और महंगाई भत्ता (DA- Dearness Allowances) व किराया भत्ता (HRA- House Rent Allowances) जैसे भुगतान में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा.

एअर इंडिया ने आज आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'आज नागर विमानन मंत्रालय और एअर इंडिया बोर्ड की बैठक में कर्मचारियों पर होने वाले खर्च की समीक्षा की गई. बैठक में इस बात पर जोर दिया गया कि अन्य विमान कंपनियों की तरह एअर इंडिया छंटनी नहीं करेगी.'
एक अन्य ट्वीट में कंपनी ने कहा, 'किसी भी कैटेगरी के कर्मचारियों के बेसिक पे, डीए और एचआरए में कटौती नहीं की गई है. हालांकि, कोविड-19 आउटब्रेक की वजह से कंपनी की वित्तीय हालत को देखते हुए अन्य भत्तों को युक्तिसंगत बनाया गया है.'

यह भी पढ़ें: क्या ज्यादा नोट छापने से खत्म हो जाएगा आर्थिक संकट? जानिए क्या है रघुराम राजन का कहना



बता दें कि एअर इंडिया ने अपने कर्मचारियों (Air India Employees) की मासिक भत्ते (Monthly Allowance) को 50 फीसदी तक घटाया है. यह 25,000 रुपये प्रति महीने से अधिक सैलरी पाने वाले कर्मचारियों के लिए किया गया है. न्यूज एजेंसी पीटीआई ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बारे में जानकारी दी है.

एअर इंडिया के आदेश में कहा गया है, 'जनरल कैटेगरी अधिकारियों के ​लिए अन्य सभी भत्तों को 50 फीसदी तक घटाया जा रहा है. जनरल कैटेगरी स्टाफ और ऑपरेटर्स के भत्ते में 30 फीसदी की कटौती की जाएगी. केबिन क्रु मेंबर्स को दी जाने वाली चेक भत्ता, फ्लाइंग भत्ता, और क्विक रिटर्न भत्ते में 20 फीसदी तक की कटौती की जाएगी.'



यह भी पढ़ें: 100 ट्रेनें बंद कर सकता है रेलवे, टाइम टेबल में भी होगा बड़ा बदलाव

इस आदेश से पता चलता है कि पायलटों के लिए 11 तरह के भत्तों में 40 फीसदी की कटौती की गई है. इसमें फ्लाइंग भत्ता, स्पेशल पे, वाइड बॉडी भत्ता, डोमेस्टिक लेओवर भत्ता और एग्जीक्युटिव फ्लाइंग भत्ता शामिल है.

कंपनी ने कहा, 'डोमेस्टिक और अंतर्राष्ट्रीय ऑपरेशन कोरोनाकाल के पहले के स्तर पर पहुंच जाता है तो वित्तीय स्थिति बेहतर होगी. इसके बाद इन भत्तों पर फिर से समीक्षा की जाएगी.' बता दें कि विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए करीब 60 पायलटों उड़ान भर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोना काल में शुरू हुआ ट्रेन टिकट चेकिंग का नया सिस्टम, देखिए कैसे करेगा काम

एअर इंडिया पर 70 हजार करोड़ रुपये का कर्ज
बता दें कि फिलहाल, एअर इंडिया पर 70 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है. केन्द्र सरकार इस सरकारी कंपनी के विनिवेश के लिए लगातार कोशिशें कर रही है, लेकिन अभी तक कोई डील नहीं हो सकी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज