• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • जानिए क्या है एयरसेल-मैक्सिस डील, चिदंबरम कैसे बने इसके आरोपी

जानिए क्या है एयरसेल-मैक्सिस डील, चिदंबरम कैसे बने इसके आरोपी

पी चिदंबरम (File Photo)

पी चिदंबरम (File Photo)

सीबीआई ने इस मामले में चिदंबरम समेत 18 लोगों को आरोपी बनाया है, जिनमें से 11 व्यक्ति और सात कंपनियां हैं.

  • Share this:
    एयरसेल-मैक्सिस डील मामले में बुधवार को सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की. सीबीआई ने इस मामले में चिदंबरम समेत 18 लोगों को आरोपी बनाया है, जिनमें से 11 व्यक्ति और सात कंपनियां हैं. 31 जुलाई को पटियाला हाउस कोर्ट इस मामले पर सुनवाई करेगी. अब सवाल यह है कि एयरसेल मैक्सिस डील क्या है और क्यों इस मामले में पी. चिदंबरम को आरोपी बनाया गया है.

    क्या है एयरसेल मैक्सिस केस?

    यह केस फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से जुड़ा है. 2006 में एयरसेल-मैक्सिस डील को पी चिदंबरम ने बतौर वित्त मंत्री ने मंजूरी दी थी. पी चिदंबरम पर आरोप है कि उनके पास 600 करोड़ रुपए तक के प्रोजेक्‍ट प्रपोजल्‍स को ही मंजूरी देने का अधिकार था. इससे बड़े प्रोजेक्ट को मंजूरी देने के लिए उन्हें आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति से मंजूरी लेनी जरूरी थी. एयरसेल-मैक्सिस डील केस 3500 करोड़ की एफडीआई की मंजूरी का था. इसके बावजूद एयरसेल-मैक्सिस एफडीआई मामले में चिदंबरम ने कैबिनेट कमेटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स की मंजूरी के बिना मंजूरी दी गई.

    सुब्रमण्यम स्वामी ने किया था मामले का खुलासा
    साल 2015 में सुब्रमण्यन स्वामी ने कार्ति चिदंबरम की विभिन्न कंपनियों के बीच वित्तीय लेनदेन का खुलासा किया था. स्वामी ने आरोप लगाया कि यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहते हुए पी. चिदंबरम ने अपने बेटे कार्ति की एयरसेल-मैक्सिस डील से लाभ उठाने में मदद की. इसके लिए उन्होंने दस्तावेजों को जानबूझकर रोका और अधिग्रहण प्रक्रिया को नियंत्रित किया ताकि कार्ति को अपनी कंपनियों के शेयर की कीमत बढ़ाने का वक्त मिल जाए.

    चिदंबरम से कई बार हुई पूछताछ
    एयरसेल-मैक्सिस डील मामले में ईडी पी.चिदंबरम से कई बार पूछताछ कर चुकी है. 28 फरवरी को इसी मामले में उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को भी गिरफ्तार किया गया था जो फिलहाल बेल पर बाहर हैं. बता दें कि तीन अप्रैल को ईडी ने एयरसेल-मैक्सिस डील के संबंध में जांच की स्टेटस रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की थी. वहीं 15 मई 2017 को सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर आरोप लगाया कि साल 2007 में आईएनएक्स मीडिया से पैसे लेने में कई तरह की अनियमित्ताएं हुईं. चिदंबरम उस दौरान केंद्र सरकार में मंत्री थी. इसलिए ईडी ने उन पर मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज