यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए DGCA कर रही है एयरलाइंस की निगरानी, कही कॉस्ट कटिंग का असर सुरक्षा पर तो नहीं?

यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए DGCA कर रही है एयरलाइंस की निगरानी, कही कॉस्ट कटिंग का असर सुरक्षा पर तो नहीं?
यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए DGCA कर रही है एयरलाइंस की निगरानी

कोझिकोड दुर्घटना के बाद सभी बड़े एयरपोर्ट और एयरलाइंस के (Safe Air Travel) सुरक्षा मानकों पर सरकार ने एक बार फिर से निगरानी तेज कर दी है. इस दुर्घटना के बाद सुरक्षा का विशेष ऑडिट किया जा रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोझिकोड दुर्घटना के बाद सभी बड़े एयरपोर्ट और एयरलाइंस के (Safe Air Travel) सुरक्षा मानकों पर सरकार ने एक बार फिर से निगरानी तेज कर दी है. इस दुर्घटना के बाद सुरक्षा का विशेष ऑडिट किया जा रहा है. सिविल एविएशन रेगुलेटर DGCA एयरलाइंस के ना सिर्फ सुरक्षा पहलुओं पर जांच कर रहा है बल्कि ये भी देख रहा है कि कहीं कोरोना की वजह से हुई cost-cutting में एयरलाइंस सुरक्षा से जुड़े जरूरी खर्च तो नहीं काट रहे. एयर इंडिया और स्पाइसजेट का ऑडिट पूरा हो गया है. DGCA ने इनके सुरक्षा ऑडिट के आदेश दिए थे. दिल्ली, मुंबई, चेन्नई एयरपोर्ट का भी सुरक्षा ऑडिट पूरा हो गया है.



औसतन 1 लाख यात्री प्रतिदिन हवाई यात्रा कर रहे 
एविएशन सेक्टर में भले ही मंदी दिख रही हो लेकिन इसमें अब फिर से ग्रोथ की उम्मीदें नजर आ रही हैं. DGCA के सूत्रों के मुताबिक अगस्त में करीब 30 लाख यात्रियों ने देश में हवाई यात्रा की. यानी औसतन 1 लाख यात्री प्रतिदिन हवाई यात्रा कर रहे हैं. हवाई यात्रा में करीब 42 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है. जुलाई में एयर ट्रैफिक 21 लाख था. सूत्रों के मुताबिक दिवाली के दौरान अच्छे ट्रैफिक की उम्मीद है. यही नहीं, Oct-Nov तक पिछले साल का स्तर छूने की उम्मीद है. देश में इस वक्त करीब 661 विमान हैं. लॉकडाउन के बाद से 10 नए विमान खरीदे गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज