लॉकडाउन में रद्द हवाई यात्रा के टिकट का होगा पूरा भुगतान! SC ने केंद्र को जारी किया नोटिस

लॉकडाउन में रद्द हवाई यात्रा के टिकट का होगा पूरा भुगतान! SC ने केंद्र को जारी किया नोटिस
सुप्रीम कोर्ट ने रद्द हवाई टिकट के पूरे भुगतान के मामले में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए नागरिक विमानन मंत्रालय और डीजीसीए को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कोविड-19 की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान रद्द किए गए हवाई यात्रा के टिकट (Cancelled Flights Ticket) के पूरे भुगतान को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय और नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. सुप्रीम कोर्ट ने कोविड-19 (COVID-19) की रोकथाम के लिए लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान रद्द किए गए हवाई यात्रा के टिकट (Cancelled Flights Ticket) का पूरा भुगतान करने के मामले की सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है. याचिका में एयरलाइंस कंपनियों को रद्द टिकट का पूरा करने का निर्देश देने की मांग की गई है. याचिका में आरोप लगाया गया है कि एयरलाइंस ने रद्द टिकट का भुगतान अब तक नहीं किया है. सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के जस्टिस अशोक भूषण की अध्‍यक्षता में जस्टिस एसके कौल और एमआर शाह की बेंच ने नागरिक विमानन मंत्रालय और नागरिक विमानन महानिदेशालय (DGCA) को नोटिस जारी करते याचिका पर जवाब तलब किया है.

'एयरलाइंस ने गैर-कानूनी तरीके से लागू कर दी है क्रेडिट शेल व्‍यवस्‍था'
याचिका में आरोप लगाया गया है कि एयरलाइंस (Airlines) ने यात्रियों की इच्‍छा के विरुद्ध गैर-कानूनी तरीके से रद्द किए गए हवाई टिकट के एवज में 'क्रेडिट शेल' (Credit Shell) व्‍यवस्‍था लागू कर दी. एयर पैसेंजर एसोसिएशन ऑफ इंडिया की ओर से दायर याचिका में दावा किया गया है कि एयरलाइंस कंपनियों ने मनमानी करते हुए रद्द टिकट की पूरी राशि वापस करने से इनकार कर दिया. ये नागरिक उड्डयन आवश्यकताओं (CAR) का घोर उल्लंघन है. अंत में 'क्रेडिट शेल' स्‍वीकार करना ही हवाई यात्रियों के पास अकेला विकल्‍प बचा है.

ये भी पढ़ें- अपने घर के सामने की सड़क का करा सकते हैं बीमा, टूटने पर मरम्‍मत का मुआवजा देगी इंश्‍योरेंस कंपनी!
'क्रेडिट शेल को लेकर दायर दूसरी याचिका के साथ सुना जाएगा मामला'


एसोसिएशन की ओर से पेश अधिवक्‍ता रोहित राठी ने कहा कि एयरलाइंस अवैध तरीके से क्रेडिट शेल प्रणाली को यात्रियों के ऊपर थोप रही हैं. इन क्रेडिट शेल का इस्‍तेमाल यात्री इसी एयरलाइंस की अगली यात्रा (Next Air Travel) के दौरान टिकट बुक कराते समय कर सकते हैं. ये क्रेडिट शेल एक साल के लिए वैध (Valid for 1 Year) होंगे. इस पर बेंच ने कहा कि इस मामले को ऐसी ही दूसरी याचिका के साथ सुना जाएगा. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि याची इसकी एक कॉपी सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (SG Tushar Mehta) को सौंप देंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading