AGR मामला: वोडाफोन Idea, Airtel को चाहिए बेलआउट पैकेज, भुगतान के लिए मांगा और समय

लॉकडाउन को देखते हुए टेलिकॉम कंपनियों ने प्लान की वैलिडिटी बढ़ा दी है.

AGR मामले में टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) और भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने सरकार से बेलआउट पैकेज की मांग की है. इसके अलावा टेलीकॉम कंपनियों ने एजीआर बकाये के भुगतान को लेकर और समय मांगा है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू (AGR) मामले में टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया (Vodafone Idea) और भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने सरकार से बेलआउट पैकेज की मांग की है. इसके अलावा टेलीकॉम कंपनियों ने एजीआर बकाये के भुगतान को लेकर और समय मांगा है. बता दें कि वोडाफोन आइडिया पर कुल 53,000 करोड़ रुपए बकाया है. वहीं एयरटेल को 35,586 करोड़ रुपए चुकाने हैं. हालांकि, दोनों कंपनियों ने इस हफ्ते एजीआर बकाया का आंशिक भुगतान कर दिए हैं. दूरसंचार विभाग के आकलन के अनुसार कंपनियों पर 1.47 लाख करेाड़ रुपये का सांवधिक बकाया है.

    बेलआउट पैकेज की मांग
    टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, वोडाफोन आइडिया और एयरटेल को बेलआउट पैकेज चाहिए. एजीआर बकाये के भुगतान के लिए कंपनियों को सरकार से फंडिंग की सुविधा मिले ताकि उसी हिसाब से भुगतान किया जा सके. इसके अलावा एजीआर भुगतान के लिए और वक्त भी चाहिए. ये भी पढ़ें: होली पर रेल यात्रियों को नहीं होगी टिकट बुक कराने की टेंशन, रेलवे चला रही है स्पेशल ट्रेनें



    वोडाफोन आइडिया ने 1 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया
    वोडाफोन आइडिया ने एजीआर बकाये को लेकर दूरसंचार विभाग को गुरुवार को एक हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया. कंपनी ने सोमवार को एजीआर बकाये को लेकर 2,500 करोड़ रुपये का भुगतान किया था. कंपनी के ऊपर 53 हजार करोड़ रुपये का एजीआर बकाया है. वहीं, सुप्रीम कोर्ट की फटकार और सरकार की सख्ती के बाद एयरटेल ने सोमवार को एजीआर बकाये में से 10,000 करोड़ का भुगतान किया था. टाटा टेलीसर्विसेज ने सोमवार को 2,197 करोड़ रुपये का भुगतान किया है.

    किन कंपनियों पर कितना है बकाया
    दूरसंचार विभाग द्वारा तैयार आंकड़ों के मुताबिक एयरटेल पर लाइसेंस फीस और स्पेक्ट्रम उपयोग शुल्क के तौर पर करीब 35,586 करोड़ रुपये का बकाया है. वोडाफोन आइडिया पर 53,000 करोड़ रुपये का बकाया है. इसमें 24,729 करोड़ रुपये स्पेक्टूम बकाया और 28,309 करोड़ रुपये लाइसेंस फीस का बकाया है. टाटा टेलिसविर्सिज पर 13,800 करोड़ रुपये और बीएसएनएल पर 4,989 करोड़ रुपये तथा एमटीएनएल पर 3,122 करोड़ रुपये का बकाया है.

    ये भी पढ़े: इस काम के लिए PAN कार्ड का नहीं कर सकते हैं इस्तेमाल, जानें कहां-कहां है जरूरी!

    टेलीकॉम सेक्टर साढे़ तीन साल से दबाव में
    देश की प्रमुख दूरसंचार कपनी भारती एयरटेल के प्रमुख सुनील भारती मित्तल ने बुधवार को कहा था कि दूरसंचार क्षेत्र पिछले साढ़े तीन साल से दबाव में है, ऐसे में सरकार को इस क्षेत्र की सेहत पर ध्यान देना चाहिये.

    वोडाफोन आइडिया के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला ने भी वित्त मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात की. मंगलवार को उन्होंने दूरसंचार सचिव से मुलाकात की. बहरहाल, यह स्पष्ट नहीं हो पाया कि अधिकारियों के साथ उनकी मुलाकात एक साथ ही अथवा अलग-अलग मिले.

     

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.