Akshaya Tritiya 2021पर गोल्ड में करें निवेश, सालभर में होंगे मालामाल! जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

आज सोने के साथ चांदी के दाम में भी गिरावट आई

आज सोने के साथ चांदी के दाम में भी गिरावट आई

शुक्रवार यानी 14 मई 2021 को अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) है. इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है. पिछले कुछ दिनों से सोने की कीमतों (Gold Price) में काफी तेजी देखी गई है. ऐसे में निवेश करना फायदेमंद रहेगा और आने वाले समय में मोटा रिटर्न देगा.

  • Share this:

नई दिल्ली. इस शुक्रवार यानी 14 मई 2021 को अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya 2021) है. इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है. पिछले कुछ दिनों से सोने की कीमतों (Gold Price) में काफी तेजी देखी गई है. एक्सपर्ट्स का मानना है कि आने वाले महीनों में भी सोने में तेजी रहेगी. अप्रैल महीने में ही सोना 2,601 रुपये महंगा हुआ है. ऐसे में इस अक्षय तृतीया पर सोने में निवेश आपको मोटा मुनाफा दिला सकता है.

तो आइए जानते हैं क्या कहते हैं एक्सपर्ट-

मोतीलाल ओसवाल कहते हैं कि मांग और आपूर्ति के समीकरण और त्योहारी सीजन के बारे में बात करते हैं तो हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि अक्षय तृतीया या तीज समेत हिंदुओं और जैन समुदाय के त्योहार इस हफ्ते नजदीक आ रहे हैं. इन त्योहारों के समय गोल्ड की मांग में इजाफा होता है और आयात के आंकड़ों को देखा जाए तो इस बार भी ऐसा ही होने की उम्मीद है. बेशक इस बार देश के अलग-अलग हिस्सों में लगाए गए प्रतिबंधों को लेकर चिंताएं हैं, लेकिन यह पिछली बार की तरह लॉकडाउन के मुकाबले बेहतर स्थिति है. वहीं ऑनलाइन गोल्ड (मी गोल्ड), ईटीएफ जैसे अन्य प्लेटफॉर्म हैं, जहां खरीदार जोखिम के मुताबिक चयन कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें- Bank का ये मैसेज भूल कर भी न करें Ignore, वरना भरना पड़ेगा 1 हजार रुपये जुर्माना, फटाफट चेक करें डिटेल
क्या यह गोल्ड खरीदने का सही समय है?

डॉलर की कीमतों में गिरावट, अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड में इजाफा, ETF मांग में तेजी और वैश्विक स्तर पर ब्याज दरों में कमी जैसे कई कारक हैं, जिस पर बाजार के भागीदारों की नजर है. हालांकि केंद्रीय बैंकों का रुख डोविश (अपेक्षाकृत कम सक्रिय) है लेकिन ब्याज दरों के निम्न स्तर पर ही रहने की उम्मीद है. चूंकि अब केंद्रीय बैंकों ने फिर से खरीदारी शुरू कर दी है तो हम भविष्य में उच्च आंकड़ों की उम्मीद कर सकते हैं और इससे कीमतों में तेजी देखने को मिल सकती है. कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामले, लगातार मिल रही तरलता, महंगाई की बढ़ती उम्मीद, कर्ज के दम पर बढ़ती अर्थव्यवस्था, मध्य पूर्व में तनाव, अमेरिका और चीन के बीच व्यापार युद्ध और कुछ अन्य कारक रुझानों को मजबूती देंगे और गोल्ड की कीमतों में तेजी आने की संभावना मजबूत होगी.

सोने का भाव होगा 56,500 रुपये



मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक, पिछले कुछ महीनों के दौरान कीमतों में मजबूती की स्थिति देखने को मिली है और हाल ही में इसमें तेजी आई है जिसकी वजह से यह कॉमेक्स में 1800 डॉलर के करीब है. ऐसी स्थिति ठीक है और हम 2050 डॉलर और 2200 डॉलर के लक्ष्य के साथ शॉर्ट से मीडियम टर्म में खरीदारी की सलाह देते हैं. घरेलू मामलों में बजट के बाद कीमतों में आई गिरावट ठीक स्तर पर है और इस कीमत पर एक बार फिर से पोजीशन बनाई जा सकती है और इसके लिए तात्कालिक लक्ष्य 50,000 रुपये रखा जाना चाहिए. वहीं अगले 12-15 महीनों के लिए 56,500 का नया लक्ष्य बनाया जा सकता है.

60 हजार तक पहुंचेगा सोना

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया कहते हैं कि देश में कोरोना लगातार बढ़ रहा है. इससे भी लोगों में डर का माहौल है। इसके अलावा देश में महंगाई भी बढ़ने लगी है. इससे भी सोने के दाम आने वाले दिनों में बढ़ेंगे. अगर ऐसा ही माहौल रहा तो इस साल के आखिर तक सोना 55 हजार रुपये पर पहुंच सकता है. वहीं अगर आने वाले एक साल की बात करें तो 2022 की अक्षय तृतीया तक ये 58 से 60 हजार तक जा सकता है.

ये भी पढ़ें- Bank Holidays: आज ही निपटा लें सभी जरूरी काम, 13-14 मई को बंद रहेंगे बैंक! बाहर से जाने से पहले चेक करें ये लिस्ट

अक्षय तृतीया पर डिजिटल गोल्ड में करें निवेश

Emkay Global Financial Services के करेंसी रिसर्च हेड राहुल गुप्ता बताते हैं कि अक्षय तृतीया को सोना खरीदने के लिए एक शुभ दिन माना जाता है और आमतौर पर हम इस दिन खरीदारी देखते हैं. कुल मिलाकर, MCX पर सोने की कीमत में तेजी है. वर्तमान में सोना 47 हजार के ऊपर कारोबार कर रहा है. आने वाले समय में सोना 50 हजार के आसपास पहुंच जाएगा. वहीं, Millwood Kane International के CEO & Founder, Nish Bhatt कहते हैं कि भारतीयों के बीच पीली धातु को लेकर काफी आकर्षण है. इसका असर अक्षय तृतीया पर हर साल देखा जाता है. इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है, लेकिन इस बार भारत के शहरों में COVID की दूसरी लहर के फैलने से सोने की खरीदारी प्रभावित हो सकती है. निवेशकों के लिए यह सलाह है कि वे इस समय भौतिक सोने के बजाय डिजिटल/पेपर गोल्ड का विकल्प चुनें.

कमजोर नौकरियों के आंकड़ों, UDS में नरमी से सोने की कीमतों में तेजी का रुख है. अंतरराष्ट्रीय बाजारों में सोने की कीमतें 3 महीने के उच्च स्तर के साथ कारोबार कर रही हैं, घरेलू स्तर पर सोने की कीमतें 48,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के आसपास हैं. टीकाकरण अभियान, कोविड मामलों की संख्या पर नियंत्रण और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन अमेरिकी डॉलर के आंदोलन के साथ सोने की कीमतों को आगे बढ़ाएगा. आने वाले समय सोना महंगा होगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज