व्यापारी संगठन CAIT ने सचिन तेंदुलकर से पूछा सवाल-धन बड़ा या देश?

व्यापारी संगठन CAIT ने सचिन तेंदुलकर से पूछा सवाल-धन बड़ा या देश?
सचिन तेंदुलकर (पूर्व भारतीय क्रिकेटर)

क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के चीनी निवेश वाली कंपनी पेटीएम फ़र्स्ट गेम्स (Paytm First Games) का ब्रांड एंबेसडर बनने पर व्यापारियों ने निराशा व्यक्त की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2020, 1:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-चीन सीमा पर चीनी सेना पीएलए की हरकतें हो या चीनी कंपनियों (Chinese Companies) द्वारा भारतीयों की जासूसी, इन करतूतों से पूरे देश में चीन के प्रति गुस्सा है. व्यापारी संगठन कैट (CAIT -The Confederation of All India Traders) ने तो चीन और चीनी सामान के बहिष्कार के लिए मुहिम ही छेड़ रखी है. क्रिकेट खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के चीनी निवेश वाली कंपनी पेटीएम फ़र्स्ट गेम्स के ब्रांड अंबेसेडर बनने पर व्यापारियों ने निराशा व्यक्त की है. कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज़ (कैट) ने सचिन तेंदुलकर से सख़्त लहजे में कहा कि मौजूदा असाधारण परिस्थितियों में जब चीन के साथ भारत का एक तरह से शीत युद्ध चल रहा है ऐसे में सचिन का किसी भी बड़े चीनी निवेश वाली कंपनी का ब्रांड एंबेसडर बनना उनकी मंशा जाहिर करता है. कैट ने कहा कि सचिन तेंदुलकर के इस कदम से साफ़ तौर पर पता चलता है कि वे किसी भी स्थिति में ज़्यादा से ज़्यादा धन कमाना चाहते हैं. कैट ने सचिन तेंदुलकर के इस कदम की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि वह देश को बताएं कि उनके लिए धन बड़ा है या देश?

सचिन तेंदुलकर के इस कदम से उनके फैंस भी नाराज़ - व्यापारी संगठन ने दावा किया कि पूर्व क्रिकेटर के इस नासमझी कदम से ना सिर्फ व्यापारी बल्कि करोड़ों फैंस (प्रशंसक) नाराज़ हैं. कैट ने सचिन तेंदुलकर को चिट्ठी भेजकर अपना फ़ैसला बदलने का आग्रह किया है.





अगर अपना फैसला नहीं बदला तो देश के व्यापारी उठाएंगे ये कदम-  सचिन तेंदुलकर को लिखी चिठ्ठी में कैट ने जिक्र किया है कि वे रविवार तक उनके जवाब का इंतज़ार करेंगे. जवाब नहीं मिलने पर अगले सप्ताह देश भर में इस मुद्दे पर सचिन के रवैये के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे .
व्यापारियों ने सचिन तेंदुलकर से की ये मांग - कैट राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि एक तरफ चीनी कंपनियां राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित देश के 10 हज़ार प्रमुख व्यक्तियों की जासूसी करता है वहीं दूसरी खुद को भारत का बेटा कहने वाले सचिन तेंदुलकर चीनी निवेश वाली कंपनी का ब्रांड अंबेसेडर बनने में कोई शर्म महसूस नहीं करते हैं.

सचिन को नहीं भूलना चाहिए कि देश के लोगों ने उन्हें अपनी सर आंखों पर बिठाया, सम्मान, प्यार और धन दिया. वही सचिन आज थोड़े से धन के लिए देशवासियों के विश्वास का अपमान कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि विज्ञापनों में आने वाली हस्तियां एक प्रकार से हमारे युवाओं के लिए रोल मॉडल होते हैं. हमारे युवा इन कलाकारों को देखकर उनकी नकल करना चाहते हैं. उनके समान बनना चाहते हैं. इसलिए जो भी व्यक्ति सामाजिक जीवन से जुड़ा है, उसका व्यवहार उच्चतम मापदंड के अनुसार होना ज़रूरी है. लेकिन यहां सचिन तेंदुलकर इन मापदंडों पर फेल साबित हो रहे हैं. सचिन तेंदुलकर को चाहिए कि अविलंब कंपनी का ब्रांड एंबेसडर पद छोड़ने की घोषणा कर दें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज