राशन कार्ड है तो अनाज देने से कोई नहीं करेगा मना, केंद्र सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला

राशन कार्ड है तो अनाज देने से कोई नहीं करेगा मना, केंद्र सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला
राशन कार्ड

सोमवार को सरकार ने जानकारी दी कि सभी राज्यों व यूनियन टेरिटरी (UTs) के लिए आधार नंबर को राशन कार्ड (Ration Card) से लिंक करने की डेडलानइन को 30 सिंतबर 2020 तक बढ़ा दी गई है. इस बीच किसी भी लाभा​र्थी को राशन कार्ड के जरिए अनाज खरीदने से मना नहीं किया जा सकता है.

  • Share this:
नई दिल्ली. सभी यूनियन टेरिटरी और राज्यों द्वारा आधार नंबर से राशन कार्ड (Ration Card) को लिंक करने की डेडलाइन 30 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी गई है. कंज्यूमर अफेयर्स, फूड एंड पब्लिक डिस्ट्रीब्युशन डिपार्टमेंट ने सोमवार को इस बारे में जानकारी दी. डिपार्टमेंट ने कहा कि तब तक लाभार्थियों को कोटा के माध्यम से अनाज लेने से नहीं रोका जा सकता है. अगर किसी लाभार्थी के पास आधार कार्ड नहीं है तो उन्हें राशन देने से कोई नहीं मना कर सकता है.

मार्च के अंत लॉकडाउन लगाने के बाद ही केंद्र सरकार ने राशन कार्ड धारकों को राहत देने का ऐलान किया था. इसके साथ ही अब यह भी सुनिश्चित हो सकेगा कि अगर किसी लाभार्थी के पास आधार नंबर नहीं है या उनका आधार नंबर राशन कार्ड से लिंक नहीं है फिर भी उन्हें इस स्कीम के तहत लाभ मिल सके.


बायोमेट्रिक प्रोसेस फेल होने पर भी मिलेगा लाभ
आगे यह भी बताया गया अगर किसी ​लाभार्थी का आधार ऑथेन्टिकेशन या बायोमेट्रिक प्रोसेस फेल हो जाता है तो भी उन्हें NFSA के तहत अनाज देने से मना नहीं किया जा सकता है. मौजूदा संकट के बीच सरकार चाहती है कि सभी जरूरतमंद लोगों को इस स्कीम के तहत लाभ मिल सके.



बता दें कि अब कुल 23.5 करोड़ राशन कार्ड्स में से 90 फीसदी राशन कार्ड को लाभार्थियों के आधार नंबर से लिंक किया जा चुका है. लाभार्थी परिवार के कम से कम किसी एक सदस्य का आधार राशन कार्ड से लिंक किया जा चुका है. केंद्र सरकार के निर्देश के बाद सभी राज्य सरकार लगातार प्रयास कर रही हैं कि दो डॉक्युमेंट्स के लिंकिंग की प्रक्रिया जल्द से जल्द पूरी की जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज