अब आपके घर तक दवाएं भी पहुंचायेगा अमेजन, कंपनी ने लॉन्च की ऑनलाइन डिलीवरी सेवा

अमेजन इंडिया ने बेंगलुरु में 'अमेजन फार्मेसी' लॉन्च कर दिया है.

दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी Amazon अब ऑनलाइन मेडिसिन सेग्मेंट में भी उतर गई है. कंपनी ने गुरुवार को बेंगलुरु में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर 'अमेजनन फार्मेसी' को लॉन्च किया है. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से ग्राहक अब ऑनलाइन कंसल्टेशन, ट्रीटमेंट, मेडिकल टेस्ट्स और दवाओं की डिलीवरी को वरीयता दे रहा है.

  • Share this:
    बेंगलुरु. ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन इंडिया (Amazon India) ने 'अमेजन फार्मेसी' को लॉन्च कर दिया है. इसके साथ ही अब यह दिग्गज कंपनी ऑनलाइन मेडिसिन सेग्मेंट भी उतर चुकी है. ​अमेजन इंडिया ने इस सर्विस को सबसे पहले बेंगलुरु में पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर लॉन्च किया है. जल्द ही इसे इसे अन्य शहरों में भी लॉन्च किया जाएगा. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से ग्राहक अब ऑनलाइन कंसल्टेशन, ट्रीटमेंट, मेडिकल टेस्ट्स और दवाओं की डिलीवरी को वरीयता दे रहा है. पिछले कुछ महीनों में कोविड-19 महामारी के बीच इस बाजार में काफी तेजी देखने को मिल रही है. प्रैक्टो, नेटमेड्स, 1mg, फार्मईजी और मेडलाफ जैसे स्टार्टअप्स के पास ऑनलाइन सेवाओं की मांग बढ़ गई है.

    अमेजन के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा, 'अपने ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध हैं. अब हम बेंगलुरु में अमेजन फॉर्मेसी को लॉन्च कर रहे हैं ताकि ग्राहक प्रिस्क्रिप्शन आधारित दवाओं को घर बैठे ही आॅर्डर कर सकें. इस सर्विस के तहत उन्हें दवाएं, बेसिक हेल्थ डिवाइसेज और आयुर्वेद मेडिकेशन सर्टिफाइड सेलर्स के जरिए उपलब्ध कराया जाएगा. मौजूदा समय में यह ग्राहकों के लिए बेहद मददगार होगा.'

    यह भी पढ़ें: Private Train में मिलेंगी इस तरह की Hightech फैसिलिटी, Railway ने बनाया Draft

    इस साल 4.5 अरब डॉलर की हो जाएगी यह इंडस्ट्री
    RedSeer कंसल्टिंग के अनुसार, चालू वित्त वर्ष में भारत के डिजिटल हेल्थ मार्केट का विस्तार 4.5 अरब डॉलर तक का होगा. पिछले वित्त वर्ष में यह 1.2 अरब डॉलर ही रहा था. इस कंसल्टेंसी ने 2025 तक के अपने अनुमान को बढ़ाकर 25 अरब डॉलर तक कर दिया है. कोरोना काल से पहले यह अनुमान 19 अरब डॉलर का ही था. ऑनलाइन बाजार के एक बड़े हिस्से में अब मेडिसिन डिलिवरी का विस्तार होगा.

    क्यों इस क्षेत्र में दिख रही तेज ग्रोथ
    Practo, 1mg, Medlife, PharmEasy, Netmeds जैसे बड़े फर्म्स के साथ-साथ BeatO और mfine जैसे प्लेटफॉर्म्स में लोगों की रुचि बढ़ रही है. कोविड-19 महामारी के बीच लोगों अपनी रोग-प्रतिरोधक  क्षमता (Immunity) बढ़ाने पर जोर दे रहे हैं और ऑनलाइन कंसल्टेशन के जरिए बीमारियों को इलाज करा रहे हैं. यही कारण है ​इस क्षेत्र में तेज ग्रोथ देखने को मिल रही है.

    यह भी पढ़ें: ट्रेन में भीख मांगने व सिगरेट पीने पर अब नहीं होगी जेल, रेलवे ने भेजा प्रस्ताव

    छोटे शहरों के ग्राहक ले रहे इस सुविधा का लाभ
    पिछले कुछ महीनों में बेंगलुरु की डिमांड आधारित टेलिकंसल्टेशन और हे​ल्थेकयर सर्विस स्टार्टअप Mfine का ग्रोथ तीन से चार गुना तक बढ़ गया है. लॉकडाउन के बाद से अब तक ई-हेल्थ प्लेटफॉर्म प्रैक्टो टेक्नोलॉजी के ऑनलाइन कंसल्टेशन में भी 600 फीसदी का इजाफा हुआ है. इसमें 70 फीसदी यूजर्स पहली बार इस सेवा का इस्तेमाल कर रहे हैं और 45 फीसदी ग्राहक छोटे शहरों के हैं. भारत के अलावा कई अन्य देश भी हेल्थेकयर डिलीवरी को ऑनलाइन शिफ्ट करने पर जोर दे रहे हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.