​हस्तशिल्प कला के कारोबार को ऐसे बढ़ावा दे रहा Amazon, शुरू किया खास पहल

अमेजन इंडिया
अमेजन इंडिया

Amazon Handicraft Mela : देश में हस्तशिल्प कला को बढ़ावा देने और ऑनलाइन बिक्री के लिए अमेजन इंडिया 15 दिन के 'हैंडिक्राफ्ट मेला' का आयोजन कर रहा है. इसमें 8 लाख से ज्यादा कारीगार और शिल्पकार हिस्सा ले रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 27, 2020, 2:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. ई-कॉमर्स वेबसाइट अमेजन इंडिया (Amazon India) ने 26 सितंबर से 10 अक्टूबर तक 'हैंडिक्राफ्ट मेला' आयोजन करने का ऐलान किया है. इसमें देश के विभिन्न हिस्सों के 270 से ज्यादा शिल्पकला को प्रदर्शित किया जा रहा. 1,500 से ज्यादा अमेजन कारीगर सेलर्स और 17 सरकार इम्पोरियम से जुड़े 8 लाख से ज्यादा शिल्पकार व कारीगार इसमें हिस्सा ले रहे हैं. 17 सरकारी इम्पोरियम में तंतुजा, हरीत खादी, ट्राइब्स इंडिया और दस्तकारी हाट समिति शामिल हो रहे हैं.

अमेजन के इस हस्पशिल्प मेले में 55 हजार से ज्यादा यूनिक प्रोडक्ट्स की प्रदशर्नी लगाई गई है. ग्राहक हैंडलूम ज़ोन, हैंडिक्रॉफ्ट होम डेकोर, किचन आइटम्स, हैंडमेट टॉय, हैंडक्राफ्टेड फेस्टिवल कलेक्शन जैसे ज़ोन में शॉपिंग कर सकेंगे.

यह भी पढ़ें: चेक पेमेंट के लिए Positive Pay सिस्टम ला रहा RBI, 1 जनवरी 2021 से लागू होगी नई व्यवस्था



जुलाई में भी किया था एक आयोजन
अमेजन इंडिया के इस वर्चुअल हस्तशिल्प मेले का मकसद कला और शिल्प के क्षेत्र में देश की विरासत को बढ़ावा देने और प्रदर्शित करने का है. जुलाई में इस ई-कॉमर्स कंपनी ने 10 हफ्तों के लिए 'Stand for Handmade' पहल का आयोजन किया था, ताकि इन कारीगारों और शिल्पकारों के बिजनेस को रिवाइव किया जा सके.

अमेजन इंडिया के डायरेक्टर (MSME and Customer Experience) प्रणव भसीन ने कहा कि पहले के सेल इवेंट और पहल की सफलता को देखते हुए हमने इसके आयोजन का फैसला लिया है. हम आशावदी हैं कि इस हस्तशिल्प मेले के आयोजन से लाखों कारीगारों और शिल्पकारों के जीवन पर साकारात्मक असर पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: बच्ची की पढ़ाई से लेकर शादी तक ऐसे करें प्लानिंग, नहीं होगी पैसों की चिंता

बीते 4 साल के कारीगर प्रोग्राम का आयोजन कर रहा अमेजन इंडिया
बता दें कि साल 2016 में ही अमेजन इंडिया कारीगर प्रोग्राम का आयोजन किया था ताकि भारत के सभी तरह के शिल्प कलाओं को ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर लाया जा सके. अभी तक कंपनी ने 3000 से ज्यादा मास्टर बुनकर, को-ऑपरेटिव्स, कारीगारों और विभिन्न मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले सरकारी संस्थाओं को अपने प्लेटफॉर्म पर लाया है, ताकि आॅनलाइन भी इनके सामान की बिक्री हो सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज