सबसे बड़ी लॉजिस्टिक कंपनी बनने की तैयारी में Amazon

अमेजन ने पाटनी ग्रुप के साथ मिलाया हाथ.

अमेजन ने पाटनी ग्रुप के साथ मिलाया हाथ.

अमेजन पहले से ही 300 विक्रेताओं के साथ लॉजिस्टिक सर्विस के एक पायलट पर काम कर रही है. कंपनी की लॉजिस्टिक सर्विस अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज (ATS) के द्वारा दी जाती है.

  • Share this:
अमेजन भारत में सबसे तेजी से डिलीवरी करने वाला प्लेटफॉर्म बनने की तैयारी कर रहा है. ई-कॉमर्स कंपनी के प्लान के मुताबिक, अब वह किसी भी प्रॉडक्ट की डिलीवरी करेगी, चाहे वह उसकी वेबसाइट से बुक किया गया हो या नहीं.



दिग्गज अमेरिकी कंपनी भारत में अपना लॉजिस्टिक बिजनेस बढ़ा रही है, इसलिए वह ऑनलाइन और ऑफलाइन कंपनियों को डिस्ट्रीब्यूशन फैसिलिटी दे रही है, फिर चाहे वह प्रतिस्पर्धी फ्लिपकार्ट हो या स्नैपडील. अमेजन फूड डिलीवरी सर्विस में भी उतरने की सोच रहा है. इसके लिए वह कुछ फूड-स्टार्टअप कंपनियों से बातचीत कर रही है.



जल्द शुरू होगी अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विस 

अमेजन पहले से ही 300 विक्रेताओं के साथ लॉजिस्टिक सर्विस के एक पायलट पर काम कर रही है. कंपनी की लॉजिस्टिक सर्विस अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज (ATS) के द्वारा दी जाती है. अमेजन पहले से ही एटीएस सर्विस (FBA) आर्डर के लिए यूज कर रही है. एफबीए वो ऑर्डर्स हैं जो सेलर अमेजन के वेयरहाउस में स्टोर करते हैं और जो वहीं पैक किए जाते हैं.
ई-कार्ट और ब्लूडार्ट को टक्कर देने की तैयारी 



अमेजन ATS को एक इंडिपेंडेंट लॉजिस्टिक सर्विस बनाना चाहती है, जो फ्लिपकार्ट की ई-कार्ट और ब्लूडार्ट जैसी कंपनियों को टक्कर दे सके. इंडस्ट्री के एक एग्जिक्यूटिव के मुताबिक, एटीएस ने हाल में प्रमुख कुरियर कंपनियों से बहुत सारे अधिकारियों को अपने यहां काम पर रखा है. अमेजन ने ATS सर्विस के लिए जो दाम रखे हैं, वो बाकी कुरियर कंपनियों से काफी कम हैं.



ई-कार्ट को मजबूत बनाने में लगी है फ्लिपकार्ट 

प्रतिद्वंद्वी फ्लिपकार्ट भी अपनी ई-कार्ट सर्विस को बढ़ाने के लिए ऑफलाइन नेटवर्क ढूंढ रही है, जिससे वह डीटीडीसी और ब्लूडार्ट जैसी कंपनियों की बराबरी कर सके. फ्लिपकार्ट ग्रुप की कंपनियां अभी अपनी 90 फीसदी डिलीवरी ई-कार्ट से कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज