'कारगिल' ने भारतीय चॉकलेट कारोबार में रखा कदम, हर साल बनाएगी 10,000 टन चॉकलेट

'कारगिल' ने भारतीय चॉकलेट कारोबार में रखा कदम, हर साल बनाएगी 10,000 टन चॉकलेट
अमेरिकी कंपनी कारगिल ने कहा कि एशियाई बाजार में चॉकलेट उत्पादों की उपभोक्ता मांग लगातार बढ़ रही है.

अमेरिकी फूड कंपनी कारगिल (Cargill) ने कहा कि एशियाई बाजार (Asian Market) में चॉकलेट उत्पादों की मांग लगातार बढ़ रही है. इसे देखते हुए कंपनी पश्चिम भारत में एक स्थानीय कंपनी के साथ साझेदारी कर रही है, ताकि वह एशिया में अपना पहला चॉकलेट प्रोडक्‍शन यूनिट शुरू कर सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 23, 2020, 10:59 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अमेरिका (US) की फूड कंपनी कारगिल (Cargill) ने भारत के चॉकलेट कारोबार (Indian Market) में कदम रखने की घोषणा की है. कंपनी ने मंगलवार को कहा कि उसने हर साल 10,000 टन चॉकलेट उत्पादन के लिए लोकल मैन्‍युफैक्‍चरर के साथ समझौता किया है. कारगिल ने 1987 में भारत में अपना परिचालन शुरू किया था. कंपनी रिफाइंड ऑयल, खाद्य सामग्री, अनाज व तिलहन, कपास, पशु पोषण सामग्री, जैव-औद्योगिक और बिजनेस स्‍ट्रक्‍चर्ड फाइनेंस सेक्‍टर में कारोबार करती है.

कंपनी अगले साल शुरू भारत में कर देगी चॉकलेट प्रोडक्‍शन
कारगिल ने कहा कि एशियाई बाजार (Asian Market) में चॉकलेट उत्पादों की उपभोक्ता मांग लगातार बढ़ रही है. इस बढ़ती मांग को देखते हुए कंपनी पश्चिम भारत में स्थानीय कंपनी के साथ साझेदारी कर रही है, ताकि वह एशिया में अपना पहला चॉकलेट प्रोडक्‍शन का काम शुरू कर सके. इस प्रोडक्‍शन यूनिट में 2021 के मध्य में परिचालन शुरू होने की उम्मीद है. कंपनी के मुताबिक, यहां शुरू में सालाना 10,000 टन चॉकलेट का उत्पादन किया जाएगा. बता दें कि भारत में चॉकलेट का बाजार 13-14 फीसदी सालाना की दर से बढ़ रहा है, जो दुनिया में सबसे ज्‍यादा है.

ये भी पढ़ें- भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बने रहने में हुआ सफल, ग्‍लोबल GDP में 8,051 अरब डॉलर की हिस्‍सेदारी
लोकल मैन्‍युफैक्‍चरर से किया करार, रोजगार भी पैदा होगा


कंपनी की ओर से कहा गया है कि लोकल मैन्‍युफैक्‍चरर के साथ समझौते के कारण स्‍थानीय स्‍तर कम से कम 100 नौकरियों का सृजन (Employment) होगा. कारगिल कोकोआ और चॉकलेट एशिया-प्रशांत की प्रबंध निदेशक फ्रेंचेस्का क्लीमन्स ने कहा कि कारगिल के लिए भारत प्रमुख बाजार है. यह नई साझेदारी एशिया में हमारी क्षेत्रीय उपस्थिति और क्षमताओं को बढ़ाने के लिए हमारी प्रतिबद्धता को मजबूत करती है. यह हमारे स्थानीय भारतीय ग्राहकों के साथ-साथ क्षेत्र के बहुराष्ट्रीय ग्राहकों की जरूरतों को पूरा करने में कारगर साबित होगी.

ये भी पढ़ें- CIPLA ने पेश की कोरोना इलाज की सबसे कारगर दवा रेमडेसिवीर, इतनी होगी कीमत

भारत में कई ब्रांड से खाने-पीने की चीजें बेचती है 'कारगिल'
कारगिल ने 1995 में इंडोनेशिया के मकास्सर में कोकोआ का काम स्थापित कर एशिया के बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई थी. कारगिल ने 2014 में इंडोनेशिया के ग्रेसिक में कोको प्रसंस्करण उत्पाद बनाने के लिए एक संयंत्र खोला. बता दें कि कारगिल के 70 देशों में मौजूद कार्यालयों में 1,60,000 कर्मचारी काम करते हैं. भारत में कारगिल खाद्य तेलों के प्रमुख ब्रांड जैसे नेचर फ्रेश, मिथुन, स्वीकार, लियोनार्डो ऑलिव ऑयल, रथ और हाइड्रोजनीकृत वसा के सूरजमुखी ब्रांड की मार्केटिंग करती है. नेचर फ्रेश ब्रांड नाम के तहत गेहूं के आटा भी बेचती है. भारत में कारगिल के कर्मचारियों की संख्या करीब 4,000 है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading