कोरोना से लोगों को बचाने के लिए Amul ने लांच किया हल्दी वाला दूध, जानिए क्या होगी कीमत?

कोरोना से लोगों को बचाने के लिए Amul ने लांच किया हल्दी वाला दूध, जानिए क्या होगी कीमत?
कोरोना से लोगों को बचाने के लिए Amul ने लांच किया हल्दी वाला दूध, जानिए कीमत?

गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) के तहत काम करने वाली अमूल ने कोरोना महामारी के बीच अच्छी खबर दी है. बीमारियों से बचाव के लिए अमूल ने हल्दी वाला दूध लांच किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2020, 12:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) के तहत काम करने वाली अमूल ने कोरोना महामारी के बीच अच्छी खबर दी है. बीमारियों से बचाव के लिए अमूल ने हल्दी वाला दूध लांच किया है. अमूल ने 200 एमएल की बोतल में दूध बोतल लांच किया है जिसकी कीमत 30 रुपये रखी गई है. रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने के लिए गोल्डन दूध अच्छा होता है. आपको बता दें कि अमूल आने वाले दिनो में अदरक, तुलसी समेत के कई और तरह के दूध भी लांच कर सकता है.

पिछले साल अमूल ने कैमल मिल्क लांच किया था
कैमल मिल्क पचने में तो आसान है ही, इसके कई अन्य फायदे भी हैं. इसमें इन्सुलिन प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होने की वजह से यह डायबिटीज से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद है. कैमल मिल्क का इस्तेमाल हजारों सालों से विविध संस्कृतियों में होता आया है. आरोग्य के विविध फायदों को देखते हुए इस दूध की वजह से बाजार में एक नया क्षेत्र खुला है.

ये भी पढ़ें:- लॉकडाउन के बीच 21 हजार रुपए से कम सैलरी पाने वालों के लिए सरकार ने की 5 बड़ी घोषणाएं
वित्तवर्ष 2020 में अमूल का कारोबार 17% बढ़ा


अमूल ब्रांड के तहत डेयरी प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग करने वाली संस्था, गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड (GCMMF) का कारोबार पिछले फाइनेंशियल ईयर में 17 प्रतिशत बढ़कर 38,550 करोड़ रुपये का हो गया. जीसीएमएमएफ ने कहा कि इस सहकारी कंपनी ने वित्त वर्ष 2018-19 में 32,960 करोड़ रुपये का कारोबार किया था.

अमूल फेडरेशन की 18 सदस्यीय यूनियनों के पास गुजरात के 18,700 गांवों में 36 लाख से अधिक किसान सदस्य हैं. अमूल फेडरेशन पिछले 10 सालों से कम्पाउंड एनुअल ग्रोथ रेट (CAGR) 17 प्रतिशत से ज्यादा हासिल करने में कामयाब रहा है. सबसे ज्यादा इसका दूध बाजार में बेचा जा रहा है. इसके साथ, नए बाजार और नए प्रोडक्ट्स भी इसकी ग्रोथ का हिस्सा हैं.

ये भी पढ़ें:- किसान क्रेडिट कार्ड की लिमिट डबल और ब्याज 1 फीसदी करने की मांग
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज