Home /News /business /

पराली को स्पेशल तरीके से निपटाती है ये कंपनी, आनंद महिंद्रा ने की तारीफ

पराली को स्पेशल तरीके से निपटाती है ये कंपनी, आनंद महिंद्रा ने की तारीफ

दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण की वजहों में से एक है किसानों द्वारा फसल के अवशेषों को खेत में ही जला देना.

दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण की वजहों में से एक है किसानों द्वारा फसल के अवशेषों को खेत में ही जला देना.

अर्बन फार्म्स कंपनी (Urban Farms Co.). ने दिल्ली के बाहरी क्षेत्र में पल्ला में रिजेनरेटिव फार्मिंग हब बनाया है. यहां पर फसलों के अवशेषों को एकत्र करके एक विशेष विधि द्वारा कम्पोस्ट तैयार किया जाता है. इस कम्पोस्ट की मदद से कैमिकल-फ्री फसलें उगाई जाती हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि इस कंपोस्ट से उगाई गई सब्जियों में काफी अच्छी मात्रा में विटामिन और न्यूट्रिएंट्स पाए गए हैं. कंपनी के इस कदम की सरहना खुद आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने भी की है. उन्होंने अर्बन फार्म्स कंपनी के एक वीडियो को ट्वीट करके हुए लिखा है- नेचर इज़ पावरफुल. नेचर इज़ रिजेनरेटिव.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण की वजहों में से एक है किसानों द्वारा पराली (फसल के अवशेषों) को खेत में ही जला देना. किसानों को लगता है कि यह सब से आसान और कम खर्चीला काम है और सही समय पर अगली फसल पाने के लिए ऐसा करना ही पड़ेगा. धान की फसल के बाद खेतों में पराली जलने के बाद हो रहे प्रदूषण से सांस लेने में परेशानी के केसेस बढ़ रहे हैं. राष्ट्रीय राजधानी और इसके आसपास के क्षेत्र की एयर क्वालिटी इंडेक्स लगातार बढ़ रहा है. अब इस बड़ी समस्या का हल एक कंपनी ने खोज लिया है. इस कंपनी ने न केवल फसलों के अवशेष से होने वाले प्रदूषण की समस्या से छुटकारा दिलाने की कोशिश की है, बल्कि अवशेषों से ही कम्पोस्ट भी बना डाली है, जिससे भूमि की उपजाऊ क्षमता भी बढ़ती है. इसे ही कहा जाता है एक पंथ, दो काज.

    ऐसा करने वाली कंपनी का नाम है अर्बन फार्म्स कंपनी (Urban Farms Co.). कंपनी ने दिल्ली के बाहरी क्षेत्र में पल्ला में रिजेनरेटिव फार्मिंग हब बनाया है. यहां पर पराली को एकत्र करके एक विशेष विधि द्वारा कम्पोस्ट तैयार किया जाता है. इस कम्पोस्ट की मदद से कैमिकल-फ्री फसलें उगाई जाती हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि इस कंपोस्ट से उगाई गई सब्जियों में काफी अच्छी मात्रा में विटामिन और न्यूट्रिएंट्स पाए गए हैं. कंपनी के इस कदम की सरहना खुद आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने भी की है. उन्होंने अर्बन फार्म्स कंपनी के एक वीडियो को ट्वीट करके हुए लिखा है- नेचर इज़ पावरफुल. नेचर इज़ रिजेनरेटिव.

    Anand Mahindra shares unique initiative to curb stubble burning

    कंपनी के इस कदम की सरहना खुद आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने भी की है.

    कैसे किया ये सब
    कंपनी अपने हब पल्ला के आसपास के किसानों के साथ पार्टनरशिप में काम करती है. कंपनी की तरफ से किसानों को ट्रेनिंग और कोचिंग दी जाती है जिससे कि रीजेनरेटिव फार्मिंग पर फोकस किया जा सके. कंपनी किसानों को उनकी फसल के लिए बाजार की कीमतों से अधिक में खरीदने की गारंटी भी देती है. क्योंकि यह फसलें ऑर्गेनिक और केमिकल फ्री होती है.

    दिल्ली में केमिकल फ्री सब्जियां सप्लाई करने में अर्बन फार्म्स कंपनी सबसे बड़ी कंपनी बन चुकी है. अर्बन फार्म्स कंपनी ये काम नांदी फाउंडेशन (Naandi Foundation) के साथ मिलकर करती है.

    Tags: Anand mahindra, Farming, Stubble Burning

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर