Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    किसानों के लिए खुशखबरी: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए सरकार ने लॉन्च की नई ऐप

    प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए सरकार ने लॉन्च की नई ऐप
    प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के लिए सरकार ने लॉन्च की नई ऐप

    केंद्र सरकार (Central Govt) ने डिजिटल इंडिया अभियान (Digital India campaign) के तहत इस मोबाइल एप्लीकेशन का विकास किया है. जो परियोजनाओं ( projects) में कार्यों की प्रगति की समय समय पर समीक्षा करने के लिए एक ऑनलाइन मैनेजमेंट इंफार्मेशन सिस्टम (MIS) के लिए सहायक होगी.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 22, 2020, 4:36 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. केंद्रीय जल शक्ति एवं सामाजिक न्याय तथा अधिकारिता राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के तहत किए जाने वाले कामों की जानकारी प्राप्त करने कि लिए एक मोबाइल ऐप्लीकेशन लांच किया. यह ऐप्लीकेशन परियोजनाओं की जियो टैगिंग करेगा. जिससे परियोजनाओं की निगरानी करने और उनकी प्रगति तथा उनके विकास में आने वाली बाधाओं का पता लगाया जा सकेंगा. इस एप्लीकेशन का विकास भास्कराचार्य नेशनल इंस्टीच्यूट आफ स्पेस ऐप्लीकेशंस एंड जियो-इंफार्मेटिक्स (बीआईएसएजी-एन) की सहायता से किया है.

    इससे 99 कृषि सिंचाई परियोजना की होगी निगरानी
    राज्य मंत्री रतन लाल कटारिया ने बताया कि किसानों की आया को दोगुना करने लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि सिंचाई परियोजना की शुरुआत की थी. जिसमें 99 परियोजनाओं की शुरुआत की गई थी. जो कि देश में 34.64 लाख हेक्टेयर अतिरिक्त कृषि भूमी की सिंचाई करने में सहायक होगी. वहीं इन परियोजनाओं में से अभी तक 44 सिंचाई परियोजनाओं का काम पूरा किया जा चुका है. जिससे देश की 21.33 लाख हेक्टेयर खेती योग्य भूमी की सिंचाई की जा रही है. मोबाइल एप्लीकेशन से इन सभी परियोजनाओं की सतत निगरानी आसानी से की जा सकेगी.

    यह भी पढ़ें: ‘आत्मनिर्भर भारत’ को लेकर रघुराम राजन ने किया सावधान! कहा- दूसरे देशों के सामान पर भारी टैक्स लगाना सही नहीं
    डिजिटल इंडिया अभियान के तहत किया विकास


    केंद्र सरकार के डिजिटल इंडिया अभियान के तहत इस मोबाइल एप्लीकेशन का विकास किया है. जो परियोजनाओं में कार्यों की प्रगति की समय समय पर समीक्षा करने के लिए एक ऑनलाइन मैनेजमेंट इंफार्मेशन सिस्टम (एमआईएस) के लिए सहायक होगी. इस ऐप्लीकेशन से प्राथमिकता वाली परियोजनाओं के कमांड एरिया के फसलीकृत क्षेत्र का आकलन करने के लिए रिमोट सेंसिंग तकनीकों का भी उपयोग किया जा सकेंगा.



    यह भी पढ़ें: किसानों के लिए बड़ी खबर- PM किसान के अलावा 5000 रुपये और आएंगे खाते में, सरकार की तैयारी पूरी

    मोबाइल एप्लीकेशन से फायदा
    ऐप्लीकेशन का उपयोग स्थान, नहर के प्रकार/संरचना, पूर्णता स्थिति आदि जैसे अन्य विवरणों के साथ परियोजना घटक की छवि लेने के लिए निगरानी टीम/परियोजना प्राधिकारियों द्वारा किया जा सकता है. इसके द्वारा एकत्रित की गई सूचना को जीआईएस पोर्टल पर प्रदर्शित करके किसानों को लाभ पहुंचाया जाएगा. मोबाइल ऐप्लीकेशन को क्षेत्र में उपलब्ध नेटवर्क को देखते हुए आनलाइन एवं आफलाइन दोनों ही तरीके से आपरेट किया जा सकता है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज