लाइव टीवी

राहत : एक और आर्थिक आंकड़े में आया बड़ा सुधार, अब सर्विस सेक्टर पीएमआई 7 साल में सबसे तेज

News18Hindi
Updated: February 5, 2020, 1:08 PM IST
राहत : एक और आर्थिक आंकड़े में आया बड़ा सुधार, अब सर्विस सेक्टर पीएमआई 7 साल में सबसे तेज
नए ऑर्डर की संख्या बढ़ने, रोजगार के ज्यादा मौके बनने से आंकड़ों में सुधार आया हैं.

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, सर्विस सेक्टर (India Service PMI Data) की गतिविधियों की रफ्तार जनवरी में 7 साल में सबसे ज्यादा रही. रिपोर्ट में बताया गया हैं कि नए ऑर्डर की संख्या बढ़ने, रोजगार (Jobs Data) के ज्यादा मौके और बाजार की बेहतर स्थितियों के बीच कारोबारी उम्मीदें बढ़ने से सर्विस सेक्टर को फायदा हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2020, 1:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जनवरी महीने में देश की आर्थिक सुस्ती (Indian Economy) दूर होने का एक और संकेत मिला है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, सर्विस सेक्टर (India Service PMI Data) की गतिविधियों की रफ्तार जनवरी में 7 साल में सबसे ज्यादा रही. रिपोर्ट में बताया गया है कि नए ऑर्डर की संख्या बढ़ने, रोजगार (Jobs Data) के ज्यादा मौके और बाजार की बेहतर स्थितियों के बीच कारोबारी उम्मीदें बढ़ने से सर्विस सेक्टर को फायदा हुआ है. जनवरी में आईएचएस मार्किट इंडिया (IHS Markit) का सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स जनवरी में 55.5 के स्तर पर पहुंच गया. जबकि, दिसंबर में यह 53.3 पर था.

पीएमआई  मैन्‍युफैक्‍चरिंग में हो चुका है बड़ा सुधार
आपको बता दें कि इससे पहले सर्विसेज पीएमआई के आंकड़ों में भी बड़ा सुधार आया है. भारत में मैन्‍युफैक्‍चरिंग एक्टिविटी (Indian Manufacturing Activity) जनवरी में आठ साल में सबसे तेज गति से आगे बढ़ी है. निक्केई मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स (Nikkei PMI) इंडेक्स IHS मार्केट दिसंबर 52.7 के मुकाबले जनवरी में बढ़कर 55.3 पर पहुंच गया हैं. ये फरवरी 2012 के बाद का सबसे उच्चतम स्तर है.

ग्लोबल अर्थव्यवस्था (Global Economy) को लेकर आईएमएफ (IMF) की मुख्य अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ ने एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि ग्लोबल ग्रोथ के अनुमान में 80% की गिरावट के लिए भारत जिम्मेदार है.

इससे क्या होगा- एसकोर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना है कि, पीएमआई आंकड़ों में आया सुधार, भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए अच्छा संकेत हैं. हालांकि, इसकी उम्मीद पहले से लगाई जा रही थी, क्योंकि दिसंबर में भी सर्विस सेक्टर में एक्टिविटी बढ़ती हुई नज़र आई है. इसका असर शेयर बाजार पर पॉजिटिव दिखेगा.

'भारत के सर्विस सेक्टर में लौटी जान'
आईएचएस मार्केट में प्रधान अर्थशास्त्री पॉलियाना डि लीमा ने कहा, साल 2020 की शुरुआत में भारत के सेवा क्षेत्र में जान आ गयी है. नरमी की आशंकाओं को धता बताते हुए 2019 के अंत में बनी बढ़त पर सवार बाजार की गतिविधियों में वृद्धि देखी गयी है.इस अवधि में नए ऑर्डर मिलने की स्थिति भी सात साल के सबसे बेहतर स्तर पर है. अधिकतर नए ऑर्डर घरेलू बाजार से मिले हैं. जबकि इस साल की शुरुआत से सेवा के निर्यात में गिरावट देखी गयी है. इसकी वजह चीन, यूरोप और अमेरिका में मांग का कमजोर होना है.

लीमा ने कहा कि बिक्री में मजबूत वृद्धि के चलते कारोबारों की आय बढ़ी है और इससे पैदा हुई मांग को पूरा करने के लिए सेवा प्रदाताओं ने अपनी क्षमता बढ़ाना जारी रखा है.

यह नौकरी की चाह रखने वालों के लिए भी अच्छी खबर है, विशेषकर ऐसे समय में जब विनिर्माण उद्योग में अगस्त 2012 के बाद रोजगार निर्माण में वृद्धि का रुख देखा गया है. इस बीच एकीकृत पीएमआई उत्पादन सूचकांक (कंपोजिट पीएमआई आउटपुट इंडेक्स) जनवरी में सात साल के उच्च स्तर 56.3 अंक पर रहा है. दिसंबर में यह 53.7 अंक पर था.

एकीकृत पीएमआई आउटपुट, सेवा और विनिर्माण क्षेत्र दोनों की गतिविधियों को दर्शाता है. पीएमआई का 50 अंक से नीचे रहना क्षेत्र में गतिविधियों के संकुचन और 50 अंक से ऊपर रहना गतिविधियों के विस्तार को दर्शाता है.

यह भी पढ़ें :- पेंशन पाने वालों के लिए बेहद जरूरी हैं इस नंबर को जानना, अटक जाएंगे पैसे

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 12:43 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर