Home /News /business /

are maternity related expenses covered under health insurance rrmb

क्‍या हेल्‍थ इंश्‍योरेंस में मैटरनिटी खर्चे भी होते हैं कवर? विस्‍तार से जानिए इस सवाल का जवाब

रिटेल पॉलिसी के अलावा, कई ग्रुप मेडिकल पॉलिसी भी मैटरनिटी बेनिफिट प्रदान करती हैं.

रिटेल पॉलिसी के अलावा, कई ग्रुप मेडिकल पॉलिसी भी मैटरनिटी बेनिफिट प्रदान करती हैं.

सभी हेल्थ इंश्‍योरेंस प्लान्स (health insurance plans) मैटरनिटी बेनिफिट्स प्रदान नहीं करते हैं. इसलिए, अगर आपको मैटरनिटी बेनिफिट्स (Maternity Benefits) चाहिए तो हेल्‍थ प्‍लान लेते वक्‍त नियमों और शर्तों को ध्यान से पढ़ें. यह पता करें कि प्लान में मैटरनिटी कवर उपलब्ध है या नहीं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

मैटरनिटी बेनेफिट बच्चे के जन्म से संबंधित सभी खर्चों को कवर करता है.
सभी हेल्थ प्लान्स मैटरनिटी बेनिफिट्स प्रदान नहीं करते हैं.
आमतौर पर मैटरनिटी कवर की एक उप-सीमा (sub-limit) होती है.

नई दिल्‍ली. आज के समय में इलाज पर खर्च बहुत बढ़ गया है. यही कारण है कि अब हेल्‍थ इंश्‍योरेंस (Health Insurance) होना बहुत जरूरी हो गया है. हेल्‍थ इंश्‍यारेंस में बहुत सी बीमारियां कवर होती हैं. एक सवाल जो आमतौर पर पूछा जाता है वो ये है कि क्‍या मातृत्व (maternity expenses ) संबंधी खर्चों को भी हेल्‍थ इंश्‍योरेंस में कवर किया जाता है या नहीं?

सभी हेल्थ प्लान्स मैटरनिटी बेनिफिट्स प्रदान नहीं करते हैं. इसलिए, अगर आपको मैटरनिटी बेनिफिट्स चाहिए तो हेल्‍थ प्‍लान लेते वक्‍त नियमों और शर्तों को ध्यान से पढ़ना चाहिए और यह पता करना चाहिए कि प्लान में मैटरनिटी कवर उपलब्ध है या नहीं है. रिटेल पॉलिसी के अलावा, कई ग्रुप मेडिकल पॉलिसी भी मैटरनिटी बेनिफिट प्रदान करती हैं.

ये भी पढ़ें-  NPS : अब टियर-II अकाउंट में आप नहीं कर पाएंगे क्रेडिट कार्ड से पेमेंट, जानिए PFRDA ने क्‍यों लगाई रोक?

क्‍या होता है इसमें कवर?
मैटरनिटी इंश्योरेंस बच्चे के जन्म से संबंधित सभी खर्चों को कवर करता है. इसमें अस्पताल में भर्ती, उपचार, डिलीवरी से पहले और बाद में किए गए खर्च को कवर किया जाता है. इसके अतिरिक्त, प्रसव के बाद 90 दिनों के भीतर उत्पन्न होने वाली किसी भी बीमारी या जटिलता को भी कवर किया जाता है. यह कवर सामान्य और सिजेरियन डिलीवरी दोनों के लिए मान्य होता है. कुछ प्लान 90 दिनों तक के बच्चे के अनिवार्य टीकाकरण के लिए भी पैसे देते हैं.

सब-लिमिट पर करें गौर
आमतौर पर मैटरनिटी कवर की एक उप-सीमा (sub-limit) होती है. इसका अर्थ है कि हेल्‍थ पॉलिसी में मैटरनिटी संबंधी खर्चों की एक सीमा तय कर दी जाती है. उदाहरण के लिए, यदि आपकी मूल स्वास्थ्य योजना की बीमा राशि 10 लाख रुपये है तो इसका मतलब यह नहीं है कि आपको मैटरनिटी संबंधी खर्चों के लिए भी 10 लाख रुपये मिलेंगे. पॉलिसी दस्तावेज़ में मैटरनिटी सब-लिमिट स्पष्ट रूप से बताई जाती है. हो सकता है कि आपकी पॉलिसी में मैटरनिटी सब लिमिट 50 हजार रुपये ही हो.

ये भी पढ़ें-  Loan EMI : आपकी टेक होम सैलरी पर कितना मिल सकता है लोन, कितनी होगी ईएमआई, क्‍या कहती है RBI की गाइडलाइन

यही नहीं इस बात पर भी ध्‍यान देना चाहिए कि मैटरनिटी बेनेफिट के तहत कितनी प्रेग्‍नेंसी के लिए कवर प्रदान किया जा रहा है. कुछ कंपनियां प्रेग्‍नेंसी की संख्‍या भी तय कर देती हैं. इसलिए जरूरी है कि हेल्‍थ पॉलिसी लेने से पहले नियम और शर्तों को गौर से पढ़ लिया जाए या फिर बीमा एजेंट से इन सब बातों पर स्‍पष्‍टीकरण ले लिया जाए.

Tags: Business, Business news in hindi, Health Insurance, Health insurance scheme, Personal finance

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर